चोरी कर एक माह तक रहा फरार, जालोर पहुंचते ही पकड़ा गया हिस्ट्रीशीटर लालचंद

जालोर. कोतवाली पुलिस ने चोरी के मामले में जालोर निवासी आरोपी लालचंद पुत्र उकचंद सेानी निवासी सिंधी कॉलोनी को गिरफ्तार किया है। आरोपी हिस्ट्रीशीटर है।

By: Dharmendra Kumar Ramawat

Published: 21 Feb 2021, 09:54 AM IST

जालोर. कोतवाली पुलिस ने चोरी के मामले में जालोर निवासी आरोपी लालचंद पुत्र उकचंद सेानी निवासी सिंधी कॉलोनी को गिरफ्तार किया है। आरोपी हिस्ट्रीशीटर है। चोरी की वारदातों के मामले में गठित विशेष टीम ने उप निरीक्षक सत्यदेवसिंह, एएसआई भंवरसिंह, कांस्टेबल वीपीसिंह व अन्य ने आरोपी लालचंद सोनी को दबोचा। पुलिस के अनुसार आरोपी ने 15 जनवरी की मध्यरात्रि को पदमचंद जैन के घर में घुसकर ताले तोडकऱ वारदात को अंजाम दिया और उसके बाद आरोपी जालोर से फरार हो गया। प्रकरण में पुलिस अन्य आरोपियों के शरीक होने की संभावनाओं को भी पुलिस तलाश रही है। (एसं)
20 आपराधिक प्रकरण दर्ज
पुलिस के अनुसार आरोपी जालोर का हिस्ट्रीशीटर है और आले दर्जे का नकबजन है। आरोपी के खिलाफ अलग अलग थाने में 20 आपराधिक प्रकरण दर्ज हैं। पुलिस के अनुसार लालचंद शातिर अपराधी है और वारदात के बाद जालोर शहर से रफूचक्कर हो जाता है। पुलिस के अनुसार 15 जनवरी को सूरजपोल के अंदर चोरी की वारदात को अंजाम देने के बाद भी मौके से फरार हो गया था, लेकिन संदिग्ध पक्षों के आधार पर पुलिस ने आरोपी को दस्तयाब कर पूछताछ की तो उसने वारदात कबूल की।
पुलिस को मिली थी सूचना
लालचंद शातिर अपराधी है और जब भी वारदात को अंजाम देता था तो जालोर से फरार हो जाता था। इस प्रकरण में भी आरोपी 15 जनवरी के प्रकरण के बाद फरार हो गया था और उसके बाद एक माह से अधिक समय तक जालोर जिले से बाहर ही रहा। दो दिन पूर्व ही जालोर पुलिस को आरोपी के जालोर पहुंचने की सूचना मिली तो पुलिस ने आरोपी को दबोचने के लिए प्लान तैयार किया। इस कड़ी में पुलिस टीम उसे गिरफ्तार करने पहुंची तो वह मौके से फरार होने लगा। जिस पर पुलिस ने उसका पीछा कर दबोच लिया। प्रकरण में चोरी हुए सामान की बरामदगी के अलावा आरोपी के फरार होने की अवधि के ठिकानों की जानकारी भी जुटाने का प्रयास किया जा रहा है।

Dharmendra Kumar Ramawat Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned