रंगों से सजे बाजार, खरीदारी को उमड़े लोग

Dharmendra Ramawat

Updated: 20 Mar 2019, 12:37:54 PM (IST)

Jalore, Jalore, Rajasthan, India

- अगले दिन धुलण्डी पर्व पर खेलेंगे होली, तैयार होंगे नन्हे दूल्हे
जालोर. प्रेम और भाईचारे का प्रतीक होली का पर्व शहर सहित जिले भर में बुधवार को हर्षोल्लास के साथ मनाया जाएगा। बुधवार को जगह-जगह शुभ मुहूर्त में होलिका दहन होगा। वहीं अगले दिन गुरुवार को धुलण्डी पर्व पर रंगों और गुलाल से होली खेली जाएगी। जिला मुख्यालय पर बुधवार को इस साल भी शहर के विभिन्न मार्गों से डीजे के साथ आनंद भैरू की बारात निकाली जाएगी। मुख्य बाजार स्थित माणक चौक से शाम चार बजे मर्चेंट एसोसिएशन व भक्त प्रहलाद सेवा समिति के तत्वावधान में गाजों-बाजों के साथ आनंद भैरू की बारात निकाली जाएगी। बारात गांधी चौक, पुरा मौहल्ला, सूरजपोल, राजेन्द्रनगर, जालोर क्लब, हॉस्पिटल चौराहा, हरिदेव जोशी सर्किल व पंचायत समिति होते हुए शाम को भक्त प्रहलाद चौक पहुंचेगी। बारात में आनंद भैरू का रूप धरे युवक घोड़ी पर सवार होकर होलिका के वरण के लिए रवाना होगा। इस बारात में चूंदड़ी साफा पहने बाराती और डीजे पर नृत्य करते युवा आकर्षण का केंद्र रहेंगे। वहीं बारात के भक्त प्रहलाद चौक पहुंचने पर सेवा समिति की ओर से जोरदार स्वागत किया जाएगा। इसके बाद शुभ मुहूर्त में भक्त प्रहलाद चौक में होलिका दहन होगा। इधर, धुलण्डी पर्व को लेकर बाजार में भी रंग और गुलाल समेत पिचाकारियों की दुकानों पर खरीदारी के लिए लोगों की भीड़ उमड़ी। बच्चों ने जहां तरह-तरह की पिचकारियां खरीदी, वहीं बड़ों ने गुलाल और रंग की खरीदारी की।
इस बार मार्केट में आर्गेनिक गुलाल
धुलण्डी पर्व को लेकर इस बार दुकानदारों ने आर्गेनिक गुलाल की भी खरीदारी की है। हरिदेव जोशी सर्किल स्थित दुकानों पर आर्गेनिक गुलाल की बिक्री भी जोर पर रही। दुकानदारों ने बताया कि इस गुलाल से त्वचा को किसी तरह का नुकसान नहीं पहुंचता। साथ ही यह मुंह में भी चला जाए तो किसी तरह से हानिकारक नहीं है।
यह रहेेंगे आकर्षण का केंद्र
भक्त प्रहलाद सेवा समिति की ओर से इस बार भी आनंद भैरू की बारात के दौरान विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा। जिसमें कलाकारों की ओर से नृत्य व कच्छी घोड़ी आकर्षण का केंद्र रहेंगे। वहीं होलिका दहन के बाद रात को माणक चौक में भक्ति संध्या का आयोजन होगा।
तैयार होंगे नन्हे दूल्हे
होलिका दहन के अगले दिन धुलण्डी पर्व पर नौनिहालों को ढूंढाने की रस्म भी निभाई जाएगी। होलिका दहन स्थल पर नन्हे दूल्हों को तैयार कर ले जाया जाएगा। इस दौरान नौनिहालों के परिजन और महिलाएं मंगल गीत गाती हुई दूल्हे को दहन स्थल पर लेकर आएंगी। यहां दहन स्थल की परिक्रमा के बाद घरों में गेरियों की ओर से नौनिहालों को ढूंढाया जाएगा। बाद में घरों में भोज का भी आयोजन होगा। इस कार्यक्रम में परिवार के लोग, ननिहाल पक्ष, सखा और मौहल्लेवासियों सहित सगे संबंधी भी शिरकत करेंगे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned