सचिव व सरपंच की ऐसी कारस्तानी, गोचर में टांके बना उठा लिया भगुतान

सचिव व सरपंच की ऐसी कारस्तानी, गोचर में टांके बना उठा लिया भगुतान
सचिव व सरपंच की ऐसी कारस्तानी, गोचर में टांके बना उठा लिया भगुतान

Dharmendra Ramawat | Updated: 02 Jun 2019, 10:31:09 AM (IST) Jalore, Jalore, Rajasthan, India

डावल ग्राम पंचायत का मामला

हाड़ेचा. डावल ग्राम पंचायत में नियम-कायदों को ताक पर रखकर सरपंच व सचिव की ओर से लाखों रुपए की लागत से गोचर भूमि में अवैध टांके बनाकर भुगतान उठाने का मामला सामने आया है। खास बात तो यह है गोचर में टांकों के निर्माण के साथ-साथ कुछ जगहों पर सीसी सड़क भी बना दी गई। इसके बावजूद कनिष्ट अभियंता की ओर से सीसी भी भर दी गई। ग्रामीणों ने गोचर में इस तरह नियम-कायदे ताक पर रख बनाए जा रहे भूमिगत टांकों व सीसी सड़क का विरोध भी किया, लेकिन पंचायतीराज विभाग के अधिकारियों की ओर से कार्रवाई के बजाय मामले पर पर्दा डालकर ठेकेदार को सामग्री का भगुतान तक कर दिया गया। ग्रामीणों ने बताया कि डावल ग्राम पंचायत के सांगड़वा व डावल सहित कई जगह गोचर भूमि पर अवैध रूप से टांकों का निर्माण करवाया गया है। इस मामले में उन्होंने बीडीओ को ज्ञापन देकर कार्रवाई की मांग भी की। फिर भी अधिकारी कार्रवाई की बजाय मामले पर पर्दा डाल रहे हैं। डावल के ग्रामीणों ने बताया कि सरपंच व सचिव की ओर से कई जगह सार्वजनिक व निजी शौचालयों का निर्माण नहीं होने के बावजूद भुगतान किया गया है। साथ ही नाली निर्माण में भी गुणवत्ता का ध्यान नहीं रखने के कारण गांव में कई जगह पर नालियां टूटकर बिखर गई हैं।
कार्यकारी एजेंसी पंचायत, काम ये करवा रहे
डावल के ग्रामीणों ने बताया कि डावल ग्राम पंचायत में ग्रेवल व सीसी सड़कों के साथ कई कार्य चल रहे हैं, लेकिन यहां पर कार्यों को सचिव व सरपंच की बजाय सामग्री डालने वाली फर्म ही कार्य करवा रही है। फर्म के संचालक दबंग होने के कारण ग्रामीणों के विरोध के बावजूद विभागीय अधिकारियों से मिलीभगत कर मामले को रफा-दफा करवा देते हैं।
बीडीओ ने देखा मौका, सचिव को मौखिक आदेश
डावल के सांगड़वा सरहद में बन रही ग्रेवल सड़क मजदूरों की बजाय मशीनरी से करवाने को लेकर पत्रिका ने ३० मई को 'यहां जेसीबी से हो रहा ग्रेवल सड़क का काम, ग्रामीणों का विरोधÓ शीर्षक से समाचार प्रकाशित किया था। जिसके बाद चिलवाना बीडीओ ने शुक्रवार को मौका मुआयना कर सचिव को मशीनरी से कार्य बंद करने के साथ ही मजदूरों से कार्य करने के मौखिक आदेश दिए।
इनका कहना...
मेरे कार्यकाल से पहले सांगड़वा सहित अन्य जगहों पर गोचर भूमि में भूमिगत टांकों का निर्माण किया गया है। मेरे आने के बाद एक भी टांका गोचर भूमि में नहीं बना है।
- दिनेश कुमार, ग्राम विकास अधिकारी, डावल
ग्राम विकास अधिकारी से मामले की जानकारी ली जाएगी। अगर पंचायत की ओर से गोचर भूमि में टांके बनवाए गए हैं तो यह नियमानुसार गलत है। वहीं पंचायत में निर्माण कार्यों के रिकॉर्ड की जांच कर गोचर में बने टांके के मामले को लेकर सख्त कार्रवाई की जाएगी।
- तेजाराम चौधरी, बीडीओ, चितलवाना

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned