यातायात व्यवस्था बिगाड़ रही ट्रावेल्स बसें, कलक्टर बदलते ही बदली व्यवस्था

Dharmendra Ramawat

Updated: 04 May 2019, 11:49:51 AM (IST)

Jalore, Jalore, Rajasthan, India

जालोर. सरकारी तंत्र की सबसे बड़ी खामी यही रही है कि एक अफसर किसी व्यवस्था को सुधारने में सख्ती बरत भी ले तो उसके ट्रांसफर के बाद आने वाला दूसरा अफसर शिथिलता बरत लेता है। जिसके कारण कुछ दिन बाद ही स्थिति जस की तस होकर रह जाती है और जनता को फिर से उन्हीं समस्याओं का सामना करना पड़ता है। शहर के मुख्य चौराहों और सडक़ों पर खड़ी रहने वाली ट्रावेल्स की बसों के मामले में कुछ ऐसे ही हालात हैं। लम्बे समय से यहां रोडवेज बस स्टैंड के आस पास बुकिंग एजेंट अड्डा जमाए बैठे हैं और यहां घंटों तक ट्रावेल्स की बसों का ठहराव भी हो रहा है। सभी आला अफसर यह भी जानते हैं कि रोडवेज बस स्टैंड से निर्धारित दूरी पर निजी बसों का ठहराव नियम विरुद्ध है। इसके बावजूद कोई भी अधिकारी इस बारे में ठोस कार्रवाई नहीं कर रहा है। इससे ना केवल रोडवेज को घाटा सहन करना पड़ रहा है, बल्कि यात्रियों की भी मजबूरी का फायदा उठाया जा रहा है। खास बात तो यह है कि तत्कालीन कलक्टर जितेंद्र कुमार सोनी ने इस समस्या को गंभीर मानते हुए यातायात पुलिस और परिवहन विभाग को सख्त निर्देश दिए थे। इसके बाद यातायात पुलिस व डीटीओ ने अस्पताल चौराहा व अन्य जगहों पर कुछ दिन तक नियम विरुद्ध खड़ी रहने वाली निजी बसों के चालान भी काटे। जिसके बाद यहां ट्रावेल्स बसों का ठहराव बंद भी हुआ, लेकिन उनका ट्रांसफर अन्य जिले में होने के कुछ समय बाद ही हालात जस के तस हो गए। वहीं पुलिस व परिवहन विभाग ने भी उनके जाने के बाद मामले में पूरी तरह से ढिलाई बरतना शुरू कर दिया। अब नया बस स्टैंड व अस्पताल चौराहा के आस पास रोजाना ट्रावेल्स की बसों का जमघट लगा रहता है।
तय किया था स्थान
गौरतलब है कि तत्कालीन कलक्टर ने अस्पताल चौराहा स्थित रोडवेज बस स्टॉपेज के पास व मुख्य सडक़ों पर खड़ी रहने वाली निजी ट्रावेल्स बसों के ठहराव को लेकर नगरपरिषद भवन के पास जगह चिह्नित की थी। यह व्यवस्था कुछ दिन तक चली, लेकिन तत्कालीन कलक्टर सोनी के यहां से जाते ही फिर से हालात जस के तस होकर रह गए।
कोर्ट ने भी दे रखें हैं आदेश
इस मामले में अधिकारियों का कहना है कि रोडवेज बस स्टैंड के आस पास के दो से पांच किमी तक के एरिया में निजी बसों का ठहराव नियम विरुद्ध है। वहीं इस बारे में न्यायालय ने भी सख्त आदेश दे रखे हैं। इसके बावजूद नियमों का उल्लंघन किया जा रहा है।
अवगत करवाया है...
रोडवेज बस स्टैंड के आस पास निजी बसों का ठहराव बंद करने के लिए पूर्व में भी तत्कालीन कलक्टर को अवगत करवाया गया था। जिसके बाद कार्रवाई भी हुई थी। अब मौजूदा कलक्टर को भी इस बारे में अवगत करवाया गया है, लेकिन चुनाव के कारण कार्रवाई नहीं हो पाई। उन्होंने इस बारे में जल्द ही सख्त कार्रवाई का आश्वासन दिया है। बुधवार से इसको लेकर कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।
- अवधेश शर्मा, मुख्य प्रबंधक, रोडवेज जालोर

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned