जालोर में निर्दलीयों ने के सहारे गोविंद टांक बने सभापति, भीनमाल में सभी निर्दलीयों व भाजपा के एक क्रॉस वोट ने कांगे्रस की विमला बोहरा को जिताया

www.patrika.com/rajasthan-news

By: Dharmendra Kumar Ramawat

Published: 27 Nov 2019, 11:23 AM IST

जालोर. नगरपरिषद जालोर में चेयरमैन के चुनाव के तहत निर्धारित समय सुबह दस बजे तक एक भी पार्षद मतदान के लिए नहीं पहुंचा। करीब साढ़े दस बजे बाद से भाजपा के पार्षद अलग-अलग वाहनों में बैठकर पहुंचे। वहीं भाजपा पार्षदों के साथ ही निर्दलीय पार्षद भी मतदान के लिए पहुंचे। दोपहर बारह बजे से पहले भाजपा के सभी 18 पार्षद चेयरमैन के लिए मतदान कर चुके थे। वहीं इनके साथ-साथ पहुंचे 6 निर्दलीय पार्षदों ने भी मतदान किया। इस तरह भाजपा व निर्दलीय कुल 24 पार्षदों ने बारह बजे से पहले ही मतदान कर दिया था। जिससे यह साफ नजर आ रहा था कि 40 में से कुल 24 वोट भाजपा के पक्ष में पड़े हैं। वहीं दोपहर डेढ़ बजे के करीब दो निर्दलीय पार्षद भी कांग्रेस पार्षदों के साथ मतदान के लिए पहुंचे, लेकिन ये वोट भी कांग्रेस के किसी काम नहीं आए। घोषित परिणाम के अनुसार दोपहर डेढ़ बजे तक भाजपा के चेयरमैन प्रत्याशी गोविंद टांक को कुल २५ वोट मिले, जबकि कांग्रेस के राजेंद्र सोलंकी को कुल १५ वोट मिल पाए। ऐसे में 7 निर्दलीयों ने भाजपा के पक्ष में मतदान किया। यानी यह साफ कहा जा सकता है कि भाजपा को पूर्ण बहुमत का पहले से पूरा अंदाजा था। भाजपा के बोर्ड को लेकर पत्रिका ने भी पूर्व में समाचार प्रकाशित कर अवगत कराया दिया था।
भीनमाल. नगरपालिका सभागार में मंगलवार को पालिकाध्यक्ष पद के लिए मतदान हुआ। मतगणना में कांग्रेस की विमला बोहरा ६ मतों से विजयी रही। विमला बोहरा को 23 मत प्राप्त हुए। जबकि प्रतिद्वंद्वी भाजपा की रेखादेवी माली को 17 मत प्राप्त हुए। खास बात यह है कि भाजपा के १८ पार्षद जीते थे, मगर खुद पार्टी को ही इनमें से १७ जनों ने वोट दिया। मतगणना के परिणामों की घोषणा होते ही कांग्रेस कार्यकर्र्ताओं में खुशी की लहर छा गई। बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता नगरपालिका परिसर व परिसर के बाहर जुट गए। इस मौके कांग्रेस जिलाध्यक्ष डॉ. समरजीतसिंह, वरिष्ठ कांगे्रस नेता सुरेश बोहरा, पूर्व पालिकाध्यक्ष प्रेमराज बोहरा, हकीम खान, शंकरलाल बंजारा, शिवनारायण विश्नोई, पूर्व पालिकाध्यक्ष जीएम परमार, कांग्रेस नगर अध्यक्ष कपूरचंद जीनगर, पूर्व प्रधान देराम विश्नोई व अन्य मौजूद थे।
एक ही परिवार से तीसरा चेयरमैन
जालोर नगर निकाय का यह ऐतिहासिक मामला है कि यहां एक ही परिवार से बीते 25 साल में तीसरा चेयरमैन बना है। वर्ष 1994 में भाजपा के पहले पालिकाध्यक्ष बने वरदाराम राव के देहांत के बाद निर्दलीय जीते नवरतनमल टांक ने कांग्रेस को समर्थन दिया और 1995 से 1998 तक पालिकाध्यक्ष बने। इसके बाद वर्ष 2004 में भाजपा से जीतने के बाद टांक 2009 तक एक बार फिर पालिकाध्यक्ष बने। वहीं अब उन्हीं का भतीजा गोविंद टांक चेयरमैन चुनाव में विजयी घोषित हुआ है। यानी इस एक ही परिवार से तीन बार चेयरमैन बनना हर किसी के लिए चर्चा का विषय बना हुआ है।
कांग्रेस पार्षदों का वाहन रुकवाने पर तनातनी
नगरपरिषद चेयरमैन चुनाव को लेकर भाजपा के 18 व 6 निर्दलीय पार्षद मतदान कर चुके थे। इसके बाद कांग्रेस के 14 व दो निर्दलीय पार्षदों का इंतजार किया जा रहा था। तभी करीब डेढ़ बजे के आस पास कांग्रेस पार्षद एक ही बड़े वाहन में पहुंचे, लेकिन बड़े वाहन में पहुंचने पर पुलिस व पोलिंग अधिकारियों ने वाहन को नगरपरिषद कार्यालय के बाहर रुकवाया और जांच करने लगे। तभी वहां मौजूद कांग्रेस पदाधिकारियों व पूर्व पार्षदों समेत समर्थकों ने इस पर आपत्ति जताते हुए हंगामा खड़ा कर दिया। बाद में काफी समझाइश कर मामला शांत किया गया और वाहन को नगरपरिषद परिसर में ले जाने की अनुमति दी गई।
पुलिस जीप में बिठाने पर जताई आपत्ति
जालोर नगरपरिषद चेयरमैन चुनाव के बाद भाजपा प्रत्याशी टांक की जीत घोषित की गई। इसके बाद नवनिर्वाचित सभापति टांक मतदान कक्ष से बाहर पहुंचे और वहां मौजूद पोलिंग व पुलिस अधिकारियों ने टांक को पुलिस जीप में पीछे की सीट पर बैठने को कहा। इसके बाद भाजपा पदाधिकारी भबूतराम सोलंकी नगरपरिषद परिसर पहुंचे और शहर के प्रथम नागरिक को इस तरह पुलिस जीप में पीछे बिठाने पर आपत्ति जताई। जिसके बाद एसडीएम के वाहन में सभापति टांक को अगली सीट पर बिठाकर उनके निवास स्थान तक ले जाया गया।
बधाई देने के लिए उमड़ी भीड़
जालोर नगरपरिषद चेयरमैन टांक विजयी घोषित होते ही नगरपरिषद के बाहर ढोल-ढमाकों के साथ समर्थकों ने नारेबाजी शुरू कर दी। कुछ समय बाद ही टांक नगरपरिषद सभागार से बाहर निकले तो समर्थक उनका स्वागत करने के लिए उमड़ पड़े, लेकिन पुलिस ने उन्हें वाहन में बिठाकर सीधे उनके घर छोड़ा। मगर इस बीच समर्थकों ने उनके वाहन को घेर लिया और माला और भाजपा की झंडी भी पहनाई।
अब तक भाजपा एक कदम आगे
गौरतलब है कि जालोर निकाय में वर्ष 1994 के बाद से प्रत्याशियों को पार्टी की ओर से सिंबल मिलने शुरू हुए थे। तब से लेकर अब तक भाजपा के 3 अध्यक्ष बन चुके हैं। इनमें सबसे पहले वर्ष 1994 में भाजपा के वरदाराम राव थे। जबकि इनके बाद नवरतनमल टांक व भंवरलाल माली भाजपा से अध्यक्ष बने। अब चौथी बार गोविंद टांक भाजपा से सभापति बने हैं। वहीं कांग्रेस से अब तक 3 अध्यक्ष बने हैं। इनमें नवरतनमल टांक, मीरा बालू अग्रवाल व इंदु परिहार शामिल हैं।
जालोर में अफवाह साबित हुई क्रॉस वोटिंग
जालोर और भीनमाल नगर निकायों के चुनावी नतीजे एक सरीखे आने के बाद दोनों ही निकायों में क्रॉस वोटिंग की प्रबल संभावना जताई जा रही थी। पार्टी पदाधिकारियों ने दोनों ही जगह से अफवाह बताया, लेकिन भीनमाल में यह हकीकत साबित हुई। भीनमाल में एक क्रॉस वोटिंग हुई, लेकिन जालोर में यह महज अफवाह ही साबित हुई।
इन पांच में से कोई एक बन सकता है उपसभापति
जालोर में नगरपरिषद पार्षद व चेयरमैन चुनाव के बाद अब बुधवार को उपसभापति के लिए चुनाव होंगे। भाजपा का बोर्ड बनने के बाद इस पद के लिए कुल पांच नाम मुख्य तौर पर सामने आ रहे हैं। इनमें से ही किसी एक का उपसभापति बनना तय है। इनमें मुख्यत: सबसे पहले वार्ड 33 से भाजपा पार्षद अम्बालाल व्यास, वार्ड 37 से दिनेश महावर, वार्ड 22 से मनीषा गहलोत, वार्ड 34 से राजेंद्रकुमार व वार्ड 7 से विकेशकुमार का नाम मुख्य रूप से सामने आ रहा है।
कमल के निशान वाले वाहन में आए कांग्रेस पार्षद
निकाय चुनाव में जालोर सभापति के लिए मतदान को लेकर एक अनोखा नजारा दिखा। कांग्रेस से सभापति पद के उम्मीदवार राजेन्द्र सोलंकी व कांग्रेस सभी निर्वाचित पार्षद जिस मिनी बस में सवार होकर आए थे। उस बस के आगे के कांच पर भाजपा के चुनाव चिह्न कमल का बड़ा चित्र लगा हुआ था। ऐसे में भाजपा के चुनाव चिह्न वाली बस में कांग्रेस पार्षदों का सवार होना चर्चा का विषय बना रहा। दरअसल, इस मिनी बस पर पहले से ही यह कमल के निशान वाला स्टीकर लगा हुआ था।

Dharmendra Kumar Ramawat Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned