यहां पढ़ाई से पहले पानी में परीक्षा!

भाटकी पंचायत के नलदरा गांव का मामला, स्कूल तक जाने वाले मार्ग पर पानी भरा होने से विद्यार्थियों को हो रही परेशानी

By: Dharmendra Kumar Ramawat

Published: 18 Aug 2017, 11:40 AM IST

हाड़ेचा. भाटकी ग्राम पंचायत के नलदरा गांव के विद्यार्थियों को विद्यालय तक पहुंचने से पहले बाढ़ के पानी को पार करना पड़ रहा है। ऐसे में पानी के तेज बहाव के चलते अभिभावकों को खुद लाड़लों को स्कूल छोडऩे के लिए आना पड़ रहा है। ग्रामीणों व अभिभावकों ने कई बार प्रशासन को इस मार्ग पर पाइप लगाकर रास्ता बहाल कराने की गुहार लगाई, लेकिन आज तक प्रशासन ने सुध नहीं ली है। ग्रामीणों ने बताया कि बरसात के दिनों में यहां अकसर पानी का भराव हो जाता है। पूर्व में भी सरपंच को इस बारे में अवगत करवाकर समस्या समाधान की मांग की गई, लेकिन कीलवा सरहद में नर्मदा नहर टूट जाने से बावरला, बिछावाड़ी व सरवाना होते हुए पानीयहां से गुजर रहा है। जिससे गांव में जाने के लिए इस रास्ते पर बह रहे पानी को पार करना ग्रामीणों की मजबूरी बन गया है। ऐसे में 500 घरों की बस्ती में निवास करने वाले ग्रामीणों ने नलदरा निवासी शैतानसिंह के नेतृत्व में प्रशासन से यहां पाइप डलवाकर रास्ता बहाल कराने की मांग की है। इसके बावजूद प्रशासन की ओर से कोई कार्रवाई अमल में नही लाई जा रही है। हालांकि ग्रामीण पानी में तैरकर या टै्रक्टरों के सहारे रास्ता पार कर लेते हैं, लेकिन राउप्रावि नलदरा गांव के दूसरे छोर पर आया हुआ है। सड़क किनारे चार फीट पानी का बहाव होने से छात्रों को विद्यालय जाने के लिए पानी को पार करना पड़ रहा है। अभिभावकों को भी अनहोनी की आशंका के चलते बारी-बारी से छात्रों के साथ जाकर रास्ता पार करवाना पड़ रहा है।ग्रामीणों ने भाटकी सरपंच से यहां पाइप डालकर मार्ग बहाल करने की मांग की थी, लेकिन ग्राम पंचायत की ओर से बजट का हवाला देते हुए कार्य नहीं किया गया। गौरतलब है कि यहां दो साल पूर्व बाढ़ के दौरान इसी रपट पर एक बालक की पानी में बह जाने से मौत हो गई थी। जिसके चलते अब ग्रामीणों को सावचेती के साथ बच्चों को रास्ता पार करवाना पड़ रहा है।
इनका कहना
ग्रामीणों नेे प्रशासन को केवल 40 फीट रास्ते पर पाइप डालकर समस्या समाधान के लिए कहा था। इसके लिए ग्रामीणों ने सहयोग करने की भी बात कही, लेकिन प्रशासन की ओर से सुनवाई नहीं हुई।
-महेन्द्रसिंह उमठ, ग्रामीण, नलदरा
गांव में रास्ता बहाल करने के लिए भाटकी सरपंच सहित ग्राम पंचायत को भी अवगत करवाया, लेकिन सरपंच ने बजट की समस्या को बताते हुए हाथ खड़े कर दिए। ऐसे में ग्रामीणों के साथ विद्यालय में अध्ययनरत 200 से अधिक छात्रों को परेशानी हो रही है।
- शैतानसिंह, ग्रामीण, नलदरा
ग्राम पंचायत की ओर से पूर्व में यहां रपट बनाने के लिए प्रस्ताव भिजवाया था, लेकिन जिला परिषद से बजट पास नहीं हो पाया है। ऐसे में बजट के अभाव में समस्या का समाधान करना मुश्किल हो रहा है।
- प्रियंका विश्रोई, सरपंच, भाटकी

hadecha child photo
Dharmendra Kumar Ramawat Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned