जालोर नगरपरिषद आयुक्त व आरओ पर सभापति ने लगाए ये गंभीर आरोप

नगर परिषद में कार्यरत हंै आयुक्त व उनकी पत्नी आरओ

By: Dharmendra Kumar Ramawat

Published: 02 Mar 2019, 12:16 PM IST

Jalore, Jalore, Rajasthan, India

जालोर. नगरपरिषद में भाजपा बोर्ड का यह आखिरी साल है और इस आखिरी साल में भी शहर के विकास के लिए मिलजुल कर प्रयास करना तो दूर जनप्रतिनिधि और अधिकारी आपसी खींचतान से ऊपर नहीं उठ पा रहे हैं। शुक्रवार को भी नगरपरिषद में कुछ ऐसा ही हुआ। सभापति भंवरलाल माली ने आयुक्त शिकेश कांकरिया को एक और यूओ नोट जारी कर उन पर गम्भीर आरोप लगाए हैं। इससे पहले भी सभापति आयुक्त को यूओ नोट जारी कर चुके हैं। शुक्रवार को आयुक्त को जारी किए गए यूओ नोट में सभापति ने आरोप लगाए हैं कि आमजनता की ओर से उन्हें आए दिन नगरपरिषद की भूमि पर अतिक्रमण की मौखिक व लिखित शिकायतें मिल रही हैं। वहीं नगरपरिषद की जमीन पर आयुक्त व आरओ लगी उनकी पत्नी भूमाफियाओं के साथ मिलकर फर्जी एनओसी के जरिए कब्जे करवा रहे हैं। ऐसे में सभापति ने नगरपरिषद की राजस्व व स्वयं की भूमि चिह्नित कर वार्ड वाइज पत्रावली तैयार करने के निर्देश दिए हैं। साथ ही इस चिह्नित भूमि के चारों ओर तारबंदी व स्वयं की भूमि का बोर्ड लगाने के लिए भी पाबंद किया है।
यहां कब्जे करवाने का आरोप
सभापति माली की ओर से आयुक्त को जारी यूओ नोट में शहर स्थित बैंक कॉलोनी कचहरी के पीछे खाली पड़े भाग में नगरपरिषद की जमीन, नहर के पास, रेलवे स्टेशन रोड, होदड़ी नाडी, गोडीजी, हनुमान नगर व आबादी भूमि समेत परिषद की अन्य भूमियों की फर्जी एनओसी जारी करने व भूमाफियाओं के साथ मिलकर अवैध कब्जे करवाने का आरोप लगाया है।
...नहीं तो एसीबी व सीबीआई से जांच
यूओ नोट में बताया गया कि नगरपरिषद कार्यालय से जारी किए जाने वाली एनओसी, पट्टे व अन्य संबंधित जानकारी पालिका एक्ट के तहत सभापति को देने के बाद ही कार्यों का निस्तारण करना जनहित में उचित रहेगा। ऐसा नहीं करने पर आयुक्त की ओर से किए जा रहे भ्रष्टाचार के खिलाफ उचित कार्रवाई के लिए उच्चाधिकारियों को लिखा जाएगा। वहीं एसीबी व सीबीई को भी जांच के लिए अवगत करवाया जाएगा। जिसके जिम्मेदार आयुक्त स्वयं होंगे।
कलक्टर से सीएम तक भेजी प्रति
सभापति की ओर से जारी यूओ नोट की प्रति मुख्यमंत्री, डीएलबी शासन सचिव, डीएलबी डायरेक्टर, उपनिदेशक स्वायत्त शासन विभाग जयपुर, उप निदेशक स्थानीय निकाय जोधपुर व कलक्टर को भी भेजी गई है।
पहले भी जारी कर चुके हैं यूओ नोट
गौरतलब है कि सभापति इससे पहले बीते साल अप्रेल माह में आयुक्त को दो बार यूओ नोट जारी कर चुके हैं। पहला यूओ नोट लाल पोल सीएचसी के उद्घाटन समारोह में शिलापट्टिका पर पार्षद के नाम को लेकर उपजे विवाद के बाद जारी किया गया। जिसमें अम्बेडकर भवन के शिलान्यास व भूमि पूजन कार्यक्रम की शिलापट्टिका में सभी पार्षदों के नाम लिखने के निर्देश दिए गए थे। वहीं दूसरे यूओ नोट में पार्षदों के साथ मिलकर षड्यंत्रपूर्वक बोर्ड गिराने को लेकर चेतावनी दी गई थी। इसके बाद बिना सूचना के मुख्यालय छोडऩे, नवनियुक्त कार्मिकों को जमादार बनाने व दुष्प्रचार करने को लेकर पत्र जारी किया गया था।
इनका कहना...
आयुक्त कांकरिया व आरओ लगी उनकी पत्नी भूमाफियाओं से मिलकर फर्जी एनओसी के जरिए नगरपरिषद की जमीन पर कब्जे करवा रहे हैं। इसमें कुछ पार्षद भी शामिल हैं। ऐसी बार-बार आमजन से मौखिक व लिखित शिकायतें मिल रही हैं। नियमानुसार पालिका एक्ट के तहत कार्य करने व जानकारी देने के बाद कार्य निस्तारण के निर्देश दिए गए हैं। साथ ही उनकी ओर से जारी एनओसी व पट्टों समेत विभिन्न कार्यों की जांच के लिए भी उच्चाधिकारियों, एसीबी व सीबीआई को लिखा जाएगा। इस बारे में यूओ नोट जारी कर चेतावनी दी गई है।
- भंवरलाल माली, सभापति, नगरपरिषद जालोर

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned