जितेंद्र को मिला नया जीवन, दिल का हुआ नि:शुल्क ऑपरेशन

जितेंद्र को मिला नया जीवन, दिल का हुआ नि:शुल्क ऑपरेशन

Dharmendra Ramawat | Publish: Apr, 17 2018 12:01:05 PM (IST) Jalore, Rajasthan, India

जोधपुर के प्राइवेट अस्पताल में हुआ ऑपरेशन

जालोर. जन्मजात विकृति से जूझ रहे बच्चों के लिए राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम वरदान साबित हो रहा है। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की ओर से किए गए प्रचार प्रसार से आमजन में जागरूकता आई है। वहीं जिले में कार्यरत चिकित्सक व कार्मिकों की मेहनत से नौनिहाल के चेहरे पर फिर से मुस्कान आ रही है।
जालोर जिले के जसवन्तपुरा ब्लॉक के तवाव गांव के 9 साल के जितेंद्र कुमार को राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत नया जीवन मिला है। जितेंद्र के दिल में छेद था। इस वजह से उसको सांस लेने, खेलने कूदने में दिक्कत होती थी। थोड़ा सा चलने पर सांस फूल जाती थी। पिता लसाराम खेतीबाड़ी करते हैं। आर्थिक स्थिति कमजोर होने से बेटे के दिल का ऑपरेशन करवाना मुनासिब नहीं था। सरकार ने उसके बेटे का जोधुपर के प्राइवेट अस्पताल मेडिपल्स हॉस्पिटल में ऑपरेशन करवाया है। ऑपरेशन का संपूर्ण खर्चा 1 लाख 15 हजार रुपए भी सरकार द्वारा की ने वहन किया है। बीसीएमओ डॉ. विक्रमसिंह चारण ने बताया कि डॉ.रामदेव व उनकी टीम ने गांव के सरकारी स्कूल में बच्चों की स्वास्थ्य जांच के दौरान जितेंद्र का ऑपरेशन के लिए चयन किया। ऑपरेशन पर होने वाले खर्च को लेकर लसाराम परेशान हुआ। डॉ.रामदेव और उनकी टीम लगातार उनके संपर्क में रही और उनके समझाने पर वे ऑपरेशन के लिए तैयार हुए। ऑपरेशन के बाद जितेंद्र को अस्पताल से छुटटी मिल चुकी हैं और घर पर वह स्वस्थ है। निशुल्क ऑपरेशन होने से परिजन खुश हैं।
इन बीमारियों का होता है उपचार
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ बाबूलाल बिश्नोई ने बताया कि जन्मजात बीमारियां, शारीरिक और मानसिक कमजोरी तथा बच्चे के शारीरिक और मानसिक विकास में कमी आदि बीमारियों का उपचार इस कार्यक्रम के तहत होता है। वहीं जन्मजात मोतियाबिन्द, कटे होठ, कटे तालु, न्यूरलट्यूब डिफेक्ट आदि रोगों का उपचार भी किया जाता है। शून्य से 18 साल के जन्मजात विकृतियों से ग्रस्ति बच्चों का सरकार की ओर से सरकारी व प्राइवेट अस्पतालों में निशुल्क ऑपरेशन व इलाज कराने की व्यवस्था की गई है। कार्यक्रम के तहत 38 प्रकार की बीमारियों का इलाज किया जाता है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned