अपहृत ड्राइवर का शव हाथी नहर कायलाना झील में मिला, एक आरोपी गिरफ्तार

आहोर थाना क्षेत्र में कुछ दिनों पूर्व एक ड्राइवर के अपहरण के मामले की पुलिस ने मंगलवार को गुत्थी सुलझा दी। अपहृत ड्राइवर का शव जोधपुर में कायलाना झील की हाथी नहर में पड़ा मिला। कुछ जनों ने ड्राइवर का अपहरण करने के बाद उसकी गले में वायर डालकर हत्या कर दी गई थी। वहीं शव को कायलाना झील की हाथी नहर में फेंक दिया।

By: Dharmendra Kumar Ramawat

Published: 31 Mar 2021, 09:50 AM IST

आहोर. थाना क्षेत्र में कुछ दिनों पूर्व एक ड्राइवर के अपहरण के मामले की पुलिस ने मंगलवार को गुत्थी सुलझा दी। अपहृत ड्राइवर का शव जोधपुर में कायलाना झील की हाथी नहर में पड़ा मिला। कुछ जनों ने ड्राइवर का अपहरण करने के बाद उसकी गले में वायर डालकर हत्या कर दी गई थी। वहीं शव को कायलाना झील की हाथी नहर में फेंक दिया। थाना प्रभारी घेवरसिंह ने बताया कि गत 21 मार्च को थाना क्षेत्र में महेन्द्र खान मुसलमान निवासी कुशीप तहसील सिवाना जिला बाड़मेर के अपहरण के मामले में कॉल डिटेल के आधार पर आरोपी बादनवाड़ी निवासी आनंदसिंह राजपुरोहित का अहम सुराग मिलने पर पुलिस टीम की ओर से उसे दस्तयाब कर पूछताछ की गई। इस पर आरोपी ने गत 21 मार्च की रात महेन्द्र खान का अपहरण करने व हत्या करने की वारदात को स्वीकार किया। वहीं घटना कारित करने वाले अन्य चार साथियों के नाम भी बताए।
यह था मामला
गत 25 मार्च को प्रार्थी रमजान खान पुत्र खमीश खान मुसलमान निवासी कुशीप तहसील सिवाना जिला बाड़मेर ने रिपोर्ट पेश की थी कि उसका भाई महेन्द्र खान पेशे से ड्राइवर है, जो 21 मार्च को दिन में घर से जालोर जाने का कह कर निकला था। उसके पास स्विफ्ट कार नम्बर जीजे 27 एएच 7953 थी। उसने गोदन से उसे फोन करके बताया कि वह एक घण्टे में सिवाना आ रहा है, लेकिन वह सिवाना नहीं आया और महेन्द्र खान की कार घूमती दिखाई दी, लेकिन उसमें महेन्द्र खान नहीं दिखाई दिया। उसमें सुजल जैन व सुरेन्द्र भील थे। जिसका सन्देह होने पर गाड़ी का पीछा किया। निम्बलाना गांव की सरहद में गाड़ी के टायर पंक्चर होने पर सुजल जैन व सुरेन्द्र भील निम्बलाना गांव की सरहद में गाड़ी को छोड़ कर खेतों में भाग गए। जिस पर महेन्द्र खान का अपहरण कर हत्या करने का सन्देह होने पर थाने में रिपोर्ट पेश की। जिसके बाद प्रकरण दर्ज कर पुलिस ने अनुसंधान शुरू किया।
कॉल डिटेल से वारदात का हुआ खुलासा
थानाप्रभारी घेवरसिंह के निकटतम सुपरविजन में गठित टीमों को संदिग्ध आरोपियों के मोबाइल नम्बरों की कॉल डिटेल मिली। जिसके आधार पर आरोपी आनंदसिंह राजपुरोहित निवासी बादनवाड़ी पुलिस थाना आहोर का अहम सुराग मिलने पर आरोपी को बादनवाड़ी से दस्तयाब कर पूछताछ की गई। इस पर आरोपी ने गत 21 मार्च की रात महेन्द्र खान का अपहरण करने व हत्या की वारदात को स्वीकार कर अन्य चार साथियों के नाम बताए।
ऐसे दिया वारदात को अंजाम
गत 21 मार्च की रात प्रार्थी रमजान का भाई महेन्द्र खान अपने दोस्त सुजल जैन व सुरेन्द्र राणा के साथ बादनवाड़ी आए। सुजल जैन ने पहले से परिचित आनंदसिंह को फोन कर बादनवाड़ी बुलाया और जालोर रोड पर स्थित भाविका होटल पर चाय पीने गए। जहां पहले से अजयपालसिंह व एक अन्य व्यक्ति होटल पर मौजूद थे। भाविका होटल से चाय-पानी पीकर महेन्द्र खान, अजयपालसिंह, सुजल, सुरेन्द्र राणा व एक अन्य व्यक्ति महेन्द्र खान की स्विफ्ट गाड़ी में बैठकर बादनवाड़ी की तरफ रवाना हुए और आनंदसिंह उसकी बाइक लेकर बादनवाड़ी रवाना हुआ। आनंदसिंह बाइक घर पर रखकर महेन्द्रखान की कार में बैठ गया। अजयपालसिंह उर्फ एपीसिंह, आनंदसिंह, सुजल जैन, सुरेन्द्र राणा व एक अन्य व्यक्ति ने बादनवाड़ी व मीठड़ी के बीच रास्ते में महेन्द्र खान के गले में वायर डाल कर उसकी हत्या कर दी और सभी ने शव को उसी कार की डिक्की में डाल दिया। इसके बाद हाथी नहर कायलाना झील में शव फेंककर फरार हो गए।
वांछित आरोपियों की तलाश जारी
आरोपी आनन्दसिंह से पूछताछ के दौरान बादनवाड़ी में महेन्द्र खान का अपहरण कर हत्या करने की वारदात को अंजाम देने में सुजल जैन निवासी मोकलसर, सुरेन्द्र राणा निवासी सिवाना, अजयपालसिह उर्फ एपींिसंह केलावा जोधपुर द्वारा साथ देना बताया गया। गठित टीमों की ओर से मय जाब्ता वांछित चारों आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए उनके निवास व संभावित स्थानों पर दबिश दी जा रही है।
नहीं काम आई चालाकी
बादनवाड़ी से महेन्द्र खान का अपहरण कर हत्या कर आरोपी आनंदसिंह को अन्य आरोपियों ने बिशनगढ़ उतार दिया और महेन्द्र खान का शव सबूत नष्ट करने के लिए हाथी नहर कायलाना झील में डाल दिया, मगर तकनीकी सहायता से कॉल डिटेल के आधार पर आरोपी आनन्दसिंह को दस्तयाब कर पूछताछ की तो वारदात के ट्रेस होने में सफलता मिली।
आरोपियों विरूद्ध दर्ज हैं कई प्रकरण
आरोपी आनन्दसिंह के जालोर जिले में लूट व मारपीट के दो प्रकरण दर्ज हैं। जबकि आरोपी अजयपालसिह उर्फ एपीसिंह के विरूद्ध जोधपुर जिले में हत्या, मारपीट, एससी-एसटी एक्ट व पैरोल से फरार होने के प्रकरण दर्ज हैं।

Dharmendra Kumar Ramawat Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned