विदेश से घर पहुंचा युवक, चार दिन बाद पहुंची चिकित्सा टीम

www.patrika.com/rajasthan-news

चितलवाना. कोरोना वायरस को लेकर हर देश का नागरिक जिम्मेदारी निभा रहा है, लेकिन क्षेत्र के सिलोसन गांव में एक युवक के विदेश से घर लौटने के बाद किसी को कानोकान खबर तक नहीं दी गई। चार दिन तक यह युवक चुपचाप घर में ही परिजनों के साथ रहा। ऐसे में बुधवार को जानकारी मिलने पर चिकित्सक टीम मौके पर पहुंची और युवक की जांच के बाद उसे होम आइसोलेशन पर रखा गया। जानकारी के अनुसार सिलोसन निवासी तनसिंह पुत्र अर्जुनदान चारण कजाकिस्तान से एमबीबीएस कर रहा है। ऐसे में कोरोना वायरस का संक्रमण के फैलने के डर से रविवार को वह घर आ गया, लेकिन प्रशासन को इसकी सूचना तक नहीं दी गई। ऐसे में उसी गांव के एक शिक्षक ने चिकित्सा टीम को इसकी सूचना दी। जिसके बाद मेडिकल टीम मौके पर पहुंची और युवक की जांच के बाद उसे शपथ पत्र भरवाकर होम आइसोलेशन पर रखा गया। इस दौरान चिकित्सा टीम प्रभारी डॉ. ओमप्रकाश, मेलनर्स जोगाराम पुरोहित व एएनएम मौजूद थे।
चार दिन में भनक तक नहीं लगी
सिलोसन के युवक के रविवार को घर आने के बाद में प्रशासन व चिकित्सा टीम को भनक तक नहीं लगने दी गई। वैसे चिकित्सक ने बताया कि युवक एमबीबीएस का छात्र होने से घर आने के बाद उसने खुद को एक कमरे आइसोलेट कर दिया था, लेकिन मेडिकल जांच नहीं करवाई गई।
इनका कहना...
सिलोसन का युवक रविवार को विदेश से घर आया था, लेकिन प्रशासन को इसकी जानकारी नहीं दी गई। बुधवार को पता चलने के बाद उसकी जांच कर होम आइसोलेशन पर रखा गया हैं।
- जोगाराम पुरोहित, मेलनर्स, चितलवाना

Dharmendra Kumar Ramawat Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned