जिस दुकान से बरामद हुई हजारों नशीली दवाएं, तीन दिन बाद वहां पहुंची औषधि नियंत्रण अधिकारी ने ये कहा...

जिस दुकान से बरामद हुई हजारों नशीली दवाएं, तीन दिन बाद वहां पहुंची औषधि नियंत्रण अधिकारी ने ये कहा...
शहर के चौधरी धर्मशाला स्थित मेडिकल पर कार्यवाही की बजाय खानापूर्ति करती जिला औषधी अधिकारी

Dharmendra Ramawat | Updated: 06 Oct 2019, 11:37:55 AM (IST) Jalore, Jalore, Rajasthan, India

www.patrika.com/rajasthan-news

सांचौर. शहर में तीन दिन पूर्व चौधरी धर्मशाला स्थित एक मेडिकल एजेंसी पर संाचौर पुलिस ने कार्रवाई कर हजारों की संख्या में प्रतिबंधित टेबलेट जब्त की थी। जिसके बाद अब इस मामले में कार्रवाई के बजाय पुलिस व औषधि विभाग बैकफुट पर नजर आ रहा है। प्रतिबंधित दवाएं जब्त होने के तीन दिन बाद भी विभाग ने ना तो मेडिकल एजेंसी के खिलाफ कोई कार्रवाई की है और ना ही मौका स्थल से बरामद हुई प्रतिबंधित दवाओं को रिकॉर्ड में दर्शाया गया है। जिससे पुलिस की कार्रवाई भी सवालों के घेरे में है। बुधवार को पुलिस की ओर से प्रतिबंधित 20 हजार अल्पा व एमटीपीएल टेबलेट भी बड़ी मात्रा में जब्त की गई थी, लेकिन पुलिस ने रिकॉर्ड में महज ट्रेमाडोल की 39 हजार 400 टेबलेट जब्त होना बताया है। वहीं दूसरी ओर मामले में कार्यवाही के तीन दिन बाद सांचौर पहुंची ओषधि विभाग की जिला अधिकारी सायरा ने प्रतिबंधित नशीली दवाएं मेडिकल एजेंसी की बजाय अन्य जगह से बरामद होना बताकर क्लीनचीट दे दी। जबकि पुलिस ने इसी मेडिकल एजेंसी से दवाओं सहित दो आरोपियों को गिरफ्तार किया था। अब पुलिस जहां मुखबीर की सूचना के आधार पर कार्रवाई को अंजाम देना बता रही है। वहीं औषधि विभाग इसे पुलिस की कार्रवाई बताकर जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ रहा है। ऐसे में जिला औषधी विभाग की कार्यवाही भी संदेह के घेरे में है।
तीन दिन बाद भी एजेंसी पर मेहरबानी
मेडिकल एजेंसी की आड़ में हो रहे नशे के अवैध कारोबार को लेकर पुलिस की कार्रवाई के तीन दिन बाद भी पुलिस व स्वास्थ्य विभाग की ओर से एजेंसी के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई है। पुलिस ने प्रतिबंधित दवा जब्त करने के बाद खानापूर्ति कर मामले को छोड़ दिया। ना तो एजेंसी का रिकॉर्ड जांचा गया और ना ही अन्य कोई कार्रवाई की गई। इतना ही नहीं औषधि नियंत्रण अधिकारी ने तो एक कदम आगे बढ़ाते हुए कार्रवाई के बजाय इसका ठीकरा पुलिस पर फोड़ दिया।
इनका कहना...
पुलिस ने मेडिकल एजेंसी से प्रतिबंधित दवाएं बरामद कर एनडीपीएस एक्ट के तहत प्रकरण बनाया है। यह पुलिस का मामला है। हम तो यह पता लगा रहे हैं, कि ये दवाएं मेडिकल की बजाय अन्यत्र कहां से बरामद हुई है। ऐसे में मेडिकल एजेंसी के खिलाफ किस आधार पर कार्रवाई करें। हम प्रतिबंधित दवाओं का मेडिकल से किस प्रकार का संबंध था या कैसे बेची जाती थी, उस लिंक को ढूंढ रहे हैं।
- डॉ. सायरा, जिला औषधि नियंत्रण अधिकारी, जालोर
चौधरी धर्मशाला स्थित मेडिकल एजेंसी से प्रतिबंधित टेबलेट हमने बरामद कर प्रकरण बनाकर औषधि विभाग को सूचना दे दी है। अब यह मामला औषधि नियंत्रण विभाग का है। विभाग मेडिकल सीज कर उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई कर सकता है।
- कैलाशदान, थानाप्रभारी सांचौर

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned