पहले लिखा विधि सलाहकारों को दे रखी हैं फाइलें, अब लौटाई

पहले लिखा विधि सलाहकारों को दे रखी हैं फाइलें, अब लौटाई
Jalore Nagar parishad

Dharmendra Ramawat | Updated: 22 Aug 2019, 11:20:43 AM (IST) Jalore, Jalore, Rajasthan, India

www.patrika.com/rajasthan-news

जालोर. नगरपरिषद की विभिन्न शाखाओं से गुम हुई फाइलों को लेकर कई दिनों तक उथल-पुथल मची रही। उपसभापति मंजू सोलंकी की शिकायत के बाद डीडीआर जोधपुर से पहुंची जांच टीम को भी इन शाखाओं से कई फाइलें मिली ही नहीं। ऐसे में लिपिकों ने जांच दल को अधिकतर फाइलें तत्कालीन आयुक्त शिकेश कांकरिया को देना बताया था। वहीं इसके बाद मौजूदा आयुक्त महिपालसिंह ने एक के बाद एक कांकरिया को फाइलें लौटाने के लिए कई पत्र लिखे, लेकिन तत्कालीन आयुक्त कांकरिया का यही कहना था कि स्थानांतरण के बाद उन्होंने संबंधित शाखा के लिपिकों और विधि सलाहकारों को फाइलें दे दी थीं। उनके पास एक भी फाइल नहीं है। अब खुद कांकरिया ने ही इनमें से कुछ फाइलें संबंधित शाखा को सुपुर्द की है। गौरतलब है कि इस संबंध में पत्रिका ने गत २ अगस्त को 'परिषद से दर्जनों फाइलें और गुम, लिपिकों ने कहा तत्कालीन आयुक्त ले गएÓ शीर्षक से समाचार प्रकाशित किया था। जिसमें परिषद से गुम फाइलों के बारे में लिपिकों के जवाब के बारे में बताया गया था।
दो दिन पूर्व लौटाई ये 5 फाइलें
नगरपरिषद की विधि अनुभाग की पांच पत्रावलियां संबंधित शाखा प्रभारी ने तत्कालीन आयुक्त कांकरिया को मूवमेंट रजिस्टर में हस्ताक्षर कर सुपुर्द की थी, लेकिन रजिस्टर में ये फाइलें वापस जमा कराने की ना तो तारीख है और ना ही कांकरिया के हस्ताक्षर थे। इस पर मौजूदा आयुक्त ने बार-बार कांकरिया को पत्र लिखे। पर पहले तो जवाब में उन्होंने ये फाइलें विधि सलाहकारों के पास होना बताया और अब दो दिन पूर्व 20 अगस्त को ही खुद कांकरिया ये 5 फाइलें लौटाने के लिए नगरपरिषद पहुंचे और आयुक्त को सुपुर्द की।
ये थी विधि अनुभाग की वो 5 फाइलें
15 जून 2018 को मूवमेंट रजिस्टर में हस्ताक्षर कर तीन फाइलें रिट नं. 8608/2016 भीमाराम बनाम स्टेट राज., सीवरेज ट्रीटमेंट प्लाण्ट के लिए भूमि अवाप्ति की फाइल, सीवरेज ट्रीटमेंट प्लान में अवाप्त भूमि के बदले भूमि देने से संबंधित और रेवन्यू बोर्ड में विचाराधीन प्रकरण चौथाराम व संग्रामा की 2 पत्रावलियां तत्कालीन आयुक्त शिकेश कांकरिया को अवलोकन के लिए दी गई थी। ये पांचों फाइलें संबंधित लिपिक ने बार-बार तत्कालीन आयुक्त कांकरिया से मांगी, लेकिन उन्होंने विधि सलाहाकारों को देना बताया था।
बार-बार लिखे पत्र
नगरपरिषद में कार्यरत लिपिकों की रिपोर्ट पर गत 10 जुलाई को मौजूदा आयुक्त महिपालसिंह ने कांकरिया को पत्र लिखकर फाइलें लौटाने के लिए लिखा था। इसके बाद १२ जुलाई को तत्कालीन आयुक्त ने जवाब में विभिन्न शाखाओं से संंबंधित सभी मूल पत्रावलियां 17 जून 2019 को रिलीव होने से पहले संबंधित शाखा प्रभारी को सुपुर्द करने की बात लिखी। इसके बाद 26 जुलाई को मौजूदा आयुक्त ने फिर से मूवमेंट रजिस्टर की प्रति और संबंधित शाखा प्रभारियों के लिखित जवाब का हवाला देते हुए फाइलें जमा कराने के लिए लिखा, लेकिन कांकरिया ने ये फाइलें विधि सलाहकारों व संबंधित प्रभारियों के पास होना बताया था।
लिपिकों ने दिया था लिखित में
नगरपरिषद की विभिन्न शाखाओं के प्रभारियों ने लिखित में विधि विभाग की 5, भूमि शाखा की 23, एनओसी प्रभार की 4, भवन संकर्मण समिति की बैठक कार्यवाही विवरण रजिस्टर, पार्षद व लालसिंह राजपुरोहित की पत्रावली तत्कालीन आयुक्त कांकरिया को देना बताया था। इनमें से विधि अनुभाग की 5 पत्रावलियों के अलावा भूमि शाखा की एक पत्रावली कांकरिया ने हाल ही में लौटाई है।
इनका कहना...
नगरपरिषद की विधि शाखा की 5 फाइलें दो दिन पूर्व ही तत्कालीन आयुक्त शिकेश कांकरिया ने लौटाकर मूवमेंट रजिस्टर में एंट्री की है। पहले उन्होंने खुद ये फाइलें विधि सलाहकारों को देना बताया था। अब दो दिन पूर्व उन्होंने विधि सलाहकारों से पत्रावलियां प्राप्त होना बताते हुए सुपुर्दगी की है।
- महिपालसिंह, आयुक्त, नगरपरिषद जालोर

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned