रणोदर से पहुंच रहा जिले भर के लिए मीठा पानी, यहां के ग्रामीणों के लिए खारे पानी की व्यवस्था

रणोदर से पहुंच रहा जिले भर के लिए मीठा पानी, यहां के ग्रामीणों के लिए खारे पानी की व्यवस्था
Phed supply salty water in Ranodar Chitalwana area

Dharmendra Ramawat | Updated: 19 May 2018, 10:15:31 AM (IST) Jalore, Rajasthan, India

दस साल बाद विभाग ने की व्यवस्था, वह भी खारे पानी की

चितलवाना. जिलेभर के गांवों में मीठे पानी की सप्लाई देने वाले रणोदर में विभाग की ओर से खारे पानी की सप्लाई की जा रही है। ऐसे में ग्रामीणों ने खारे पानी के ट्यूबवेल से सप्लाई का विरोध जताया है। किसानों का कहना है कि नर्मदा मुख्य नहर व एफआर प्रोजेक्ट के लिए रणोदर के किसानों ने जमीन दी थी। जबकि जलदाय विभाग की ओर से पांच हजार की आबादी वाले रणोदर गांव के ग्रामीणों को गांव के पास ही खुदवाए गए ट्यूबवेल से खारे पानी की सप्लाई की जा रही है। ट्यूबवेल का पानी ग्रामीणों के पीने के लिए तो दूर पशुओं के लिए भी काम नहीं आ रहा है।
पत्रिका ने उठाया था मामला
गौरतलब है कि रणोदर गांव में विभाग की ओर से खुदवाए गए ट्यूबवेल में खारा पानी होने के बारे में पत्रिका ने समाचार भी प्रकाशित किया था। जिसमें बताया गया था कि भू-जल विभाग की रिपोर्ट के बावजूद विभाग ने लाखों रुपए खर्च कर यहां खारे पानी में ट्यूबवेल खुदवाए थे। वहीं अब विभाग ने कुछ दिन पहले ही इससे गांव में पानी की सप्लाई शुरू की है, लेकिन ट्यूबवेल का पानी खारा होने से पीने लायक ही नहीं है।
सालों से तरसे, अब खारे पानी की सप्लाई
करीब ५ हजार की आबादी वाले रणोदर में सालों बाद दस दिन पहले ही पेयजल सप्लाई शुरू की गई है, लेकिन जिस ट्यूबवेल से सप्लाई दी जा रही है उसका पानी खारा है। ऐसे में यह पानी ना तो ग्रामीणों और ना ही पशुओं के पीने में काम आ रहा है।
इनका कहना है...
रणोदर गांव में कई सालों के बाद विभाग की ओर से खारे पानी के ट्यूबवेल से सप्लाई शुरू की गई है। इसका विरोध जताते हुए अधिकारियों को अवगत करवाया गया है। मीठे पानी की सप्लाई नहीं देने पर धरना दिया जाएगा।
- सोहनसिंह, ग्रामीण, रणोदर
ट्यूबवेल से सप्लाई होने वाले पानी का सेंपल विभाग की ओर से जांच के लिए भेजा गया। रिपोर्ट आने के बाद ही इस बारे में कुछ पता चल सकेगा।
- दीपक शर्मा, जेईएन, पीएचईडी, सांचौर

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned