रेलवे फाटक पर हमले के मामले में... प्वाइंट्समैन ने फोटो देख शक जाहिर किया हमले के ये हो सकते हैं आरोपी

- ३ अक्टूबर की रात में दो नकाबपोश युवकों ने किया था हमला, बालोतरा निवासी प्वाइंट्समैन गंभीर रूप से हो गया था घायल, जीआरपी इस मामले में कर रही है अब त

By: khushal bhati

Updated: 12 Nov 2017, 11:28 AM IST

जालोर. शहर की एफसीआई रेलवे क्रॉसिंग पर रेलवे स्टाफ पर नकाबपोश बदमाशों द्वारा कनपटी पर पिस्टल रखने के बाद उस पर हमले के मामले में नया मोड़ आया है। घटना का एक माह से अधिक गुजर जाने के बाद पीडि़त प्वाइंट्समैन ने भागली टोल नाके पर तोडफ़ोड़ के मामले में गिरफ्त में आए दो आरोपितों पर उनकी कनकाठी और हुलिए के आधार पर वारदात को अंजाम देने का शक जाहिर किया। इस मामले में रेलवे के एक अन्य स्टाफ ने नाम प्रकाशित नहीं करने की शर्त पर बताया कि टोल नाके पर गिरफ्त में आए तीन आरोपितों में से दो के साथ तू-तू मैं मैं हुई थी। इसके बाद इन बदमाशों से उससे मारपीट भी की थी। इसी व्यक्ति ने पीडि़त रमेश कुमार गौड़ को समाचार पत्र में फोटो प्रकाशित होने के बाद इन दोनों के साथ उसकी रेलवे क्रॉसिंग पर मारपीट की घटना से पूर्व उसकी इन युवकों से हुई झड़प के बारे में बताया। जिस पर उसने बालोतरा में जालोर में प्रकाशित समाचार पत्र में प्रकाशित इन युवकों के फोटो को देखा और उनकी कदकाठी के आधार पर वारदात में इन्हीं युवकों के शामिल होने की संभावना जताते हुए जीआरपी बाड़मेर थाने में नियुक्त जांच अधिकारी उम्मेदसिंह को अवगत करवाया है। अब यह प्रकरण काफी अहम हो गया है।
अब जांच का दायरा भी बढ़ेगा
एक तरफ टोल नाके पर तोडफ़ोड़ के प्रकरण गिरफ्त में आए तीन आरोपित चार दिन के रिमांड पर है। इधर, अब पिछले माह रेलवे क्रॉसिंग पर हमले के मामले में पीडि़त ने जांच अधिकारियों को इस बारे में अवगत करवाया है। ऐसे में इस संबंध में भी अब पुलिस की ओर से पड़ताल की जाएगी। ऐसे में अब मामले में पुलिस को और तथ्य जुटाने के साथ इस मामले को ध्यान में रखकर जांच करनी होगी। क्योंकि यह हमला रेलवे के स्टाफ पर ऑन ड्यूटी हुआ था।
फोटो भेजे, लेकिन मुकर रहे
रेलवे क्रॉसिंग पर मारपीट प्रकरण में पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान है। इस पूरे मामले में अब तक पुलिस की ओर से संतोषजनक कार्रवाई नहीं की गई है। इस मामले में पीडि़त प्वाइंट्मैन को हुलिए के आधार पर संभावित आरोपितों के बारे में जानकारी दी, लेकिन वे इस प्रकरण में केवल जांच का आश्वासन दे रहे हंैं, जबकि यह प्रकरण रेलवे जैसे केंद्रीय महकमे के कार्मिक पर जानलेवा हमले का मामला है।
इनका कहना
मेरी 28 सितंबर को जालोर में रेलवे फाटक पर ड्यूटी लगी थी और 2 अक्टूबर की रात को मेरे पर हमला हुआ। उस रात को मैं यहां के अन्य स्टाफ दुर्गसिंह की बाइक लेकर ही पहुंचा। मुझे दुर्गसिंह ने बताया कि टोल प्लाजा पर हमले के मामले में गिरफ्त में आए आरोपितों में से 2 आरोपितों की उससे खटपट हुई थी। मुझे भी कदकाठी के अनुसार इन दोनों पर ही हमले की आशंका है। इसको लेकर मैंने जीआरपी के जांच अधिकारी को अवगत करवा दिया है।
- रमेश कुमार गौड़, पीडि़त प्वाइंटमैन
करेंगे पूछताछ
अभी यह प्रकरण जांच के दायरे में है। विभिन्न स्तर पर जांच की जा रही है। संदिग्धों से पूछताछ भी की जा रही है। हर संदिग्ध से पूछताछ की जाएगी। इन आरोपितों से भी क्रॉसिंग पर मारपीट मामले में पूछताछ की जाएगी।
- उम्मेदसिंह, जांच अधिकारी, जीआरपी बाड़मेर

jalorenews
khushal singh bhati IMAGE CREDIT: khushal singh
khushal bhati Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned