आहोर पंचायत समिति के उप प्रधान राजपुरोहित का विजन किसानों को मिले उनका हक

आहोर पंचायत समिति के उप प्रधान राजपुरोहित का विजन किसानों को मिले उनका हक

Nain Singh Rajpurohit | Publish: Oct, 14 2018 11:03:58 AM (IST) Jalore, Rajasthan, India

https://www.patrika.com/rajasthan-news/

जालोर. जिले के आहोर पंचायत समिति के उप प्रधान व भाजपा से दावेदार नैनसिंह राजपुरोहित ने विजन में बताया कि क्षेत्र के किसानों की विभिन्न समस्याओं का त्वरित निस्तारण करवाना तथा उनका हक दिलवाना उनकी प्राथमिकता है। इसके अलावा क्षेत्रवासियों को पीने के लिए शुद्ध पेयजल व सिंचाई सुविधा उपलब्ध करवाना, आहोर में ट्रोमा सेंटर तथा बेरोजगारी की समस्या को दूर करने के लिए आहोर में रीको की स्थापना करवाना उनका विजन है। उन्होंने बताया कि क्षेत्र में सड़कों का सृदृढ़ीकरण, चिकित्सा महकमा में सुविधाओं व संसाधनों का विकास करना उनकी प्राथमिकता रहेगी। राजपुरोहित ने बताया कि जवाई बांध के कमांड क्षेत्र से कई गांव वंचित है। ऐसे में इन वंचित गांवों को कमांड क्षेत्र में शामिल करवाना भी उनका विजन है। जिससे क्षेत्र के किसानों को पूरा फायदा मिलेगा। इसी तरह क्षेत्र में तकनीकी शिक्षण संस्थानों की स्थापना करना भी उनकी प्राथमिकता में शामिल है।
कांग्रेस के प्रदेश सचिव चौधरी का विजन सभी को मिले समान अधिकार
इसी तरह कांग्रेस के प्रदेश सचिव जगदीशचंद्र चौधरी ने विजन में बताया कि क्षेत्र में सभी को समान अधिकार मिलना चाहिए। महिलाओं की सुरक्षा तथा क्षेत्र में अपराध पर अंकुश लगाना उनकी प्राथमिकता है। इसके अलावा बांकली बांध में आ रहे प्रदूषित पानी की रोकथाम करना, जवाई कमांड क्षेत्र को बढ़ाना, किसानों व मजदूर वर्ग के लिए खनन में छूट की योजना को प्रारंभ करवाना, क्षेत्र के पीपीडी मोड के अस्पतालों को इनसे मुक्त करवाना, क्षेत्र के बांधों की पानी भराव की क्षमता को बढ़ाना, गोदन में लम्बे समय से बंद पड़े आईआईटी कॉलेज को शुरू करवाना उनका विजन है। ताकि यहां के विद्यार्थियों को अपने घर से नजदीक ही तकनीकी शिक्षा की सुविधा उपलब्ध हो सके। इनका कहना है कि जवाई बांध का कमांड क्षेत्र बढऩे से आहोर विधानसभा क्षेत्र के अन्य गांवों के किसानों को फायदा मिलेगा। आहोर के अधिकांश गांवों में लोग कृषि व पशुपालन पर निर्भर है। ऐसे में इन गांवों के किसान आत्मनिर्भर बन सकेंगे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned