जालोर में ऐसे जले रावण और मेघनाद के पुतले

Dharmendra Ramawat | Updated: 20 Oct 2018, 11:13:34 AM (IST) Jalore, Rajasthan, India

जिले भर में हुआ रावण मेघनाद और कुंभकरण के पुतलों का दहन

खेंचि सरासन श्रवन लगि छोड़े सर एकतीस।
रघुनायक सायक चले मानहूं काल फनीस।।
अर्थात् : कानों तक धनुष को खींचकर श्री रघुनाथ जी ने इकतीस बाण छोड़े। वे श्रीरामचंद्रजी के बाण ऐसे चले मानो कालसर्प हों।।
सायक एक नाभि सर सोषा।
अपर लगे भुज सिर करि रोषा।।
लै सिर बाहु चले नाराचा।
सिर भुज हीन रुंड महि नाचा।।
अर्थात् : एक बाण ने नाभि के अमृत कुंड को सोख लिया। दूसरे तीस बाण कोप करके उसके सिरों और भुजाओं में लगे। बाण सिरों और भुजाओं को लेकर चले। सिरों और भुजाओं से रहित रुंड (धड़) पृथ्वी पर नाचने लगा।

जालोर. शहर समेत जिले भर में शुक्रवार को बुराई पर अच्छाई की विजय का प्रतीक विजयादशमी का पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। शहर में नगरपरिषद की ओर से आयोजित रावण दहन कार्यक्रम से पहले संत पवनपुरी के सान्निध्य में शोभायात्रा निकाली गई। जिसमें भगवान राम, लक्ष्मण व हनुमान सहित रामसेना की सुंदर झांकियां सजाई गई। शोभायात्रा शहर के विभिन्न मार्गों से होकर गुजरी। इस दौरान भगवान श्रीराम के जयकारों से पूरा माहौल भक्तिमय बना रहा। निर्धारित समय पर स्टेडियम मैदान में रामसेना के पहुंचने के बाद यहां तलवारबाजी का प्रदर्शन भी किया गया। बाद में राम-लक्ष्मण का रूप धरे युवकों की आरती कर रावण और मेघनाद के पुतलों का दहन किया गया। कार्यक्रम में एसपी विकास शर्मा, एसडीएम राजेंद्रसिंह सिसोदिया, नेता प्रतिपक्ष मिश्रीमल गहलोत, नगरपरिषद आयुक्त शिकेश कांकरिया, पार्षद मानसिंह सिसोदिया, हंसमुख नागर, फूलाराम प्रजापत, जितेंद्र प्रजापत, ओमप्रकाश माली, जुबैदा बानो, मंजू भूतड़ा, रेखा माली, अम्बालाल माली व नूर मोहम्मद समेत कई मौजूद थे। मंच संचालन अनिल शर्मा ने किया। इधर, स्टेडियम मैदान में रावण दहन को लेकर सुरक्षा के लिहाज से पुलिस जाब्ता भी तैनात रहा। इस दौरान पुलिस के जवानों ने लोगों की भीड़ को नियंत्रित किया।
साढ़े तीन मिनट में जले रावण व मेघनाद
स्टेडियम मैदान में निर्धारित कार्यक्रम के तहत पहले ६.३४ बजे रावण दहन किया गया। रावण का पुतला करीब डेढ़ मिनट में जला। इसके बाद मेघनाद के पुतले का दहन किया गया। दोनों ही पुतले करीब साढ़े तीन मिनट में जलकर स्वाह हो गए। इससे पहले नगरपरिषद की ओर से स्टेडियम मैदान में आतिशबाजी भी की गई। आसमान में हुई रंग-बिरंगी आतिशबाजी का भी लोगों ने लुत्फ उठाया।
नहीं आए जनप्रतिनिधि
रावण दहन को लेकर स्टेडियम मैदान में आचार संहिता का भी असर दिखाई दिया। कार्यक्रम के दौरान ना तो जालोर विधायक अमृता मेघवाल नजर आईं और ना ही नगरपरिषद सभापति भंवरलाल माली व उपसभापति मंजू सोलंकी। रावण दहन कार्यक्रम पूरा होने तक इनमें से एक भी यहां नहीं पहुंचा जो चर्चा का विषय रहा।
कमजोर नजर आई यातायात व्यवस्था
रावण दहन के बाद स्टेडियम मैदान से रवाना हुए शहरवासियों को ट्राफिक जाम के कारण परेशान होना पड़ा। कॉलेज तिराहा और आहोर चौराहा के तरफ जाने वाले वाहनचालकों को काफी देर तक गंतव्य तक पहुंचने में परेशानी हुई।

धूं-धूं कर जला रावण, मेघनाथ ने छकाया
सांचौर. विजयादशमी पर्व को लेकर शहर स्थित हवाई पट्टी पर रावण, मेघनाथ व कुम्भकरण के पुतलों का दहन किया गया। शुक्रवार शाम करीब 6.25 बजे प्रशासनिक अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों की मौजूदगी में रावण के पुतले का दहन किया गया। इस दौरान आकर्षक रोशनी भी सजाई गई। वहीं दहन से पहले पालिका की ओर से की गई आतिशबाजी का लोगों ने लुत्फ उठाया। रावण सेवा समिति व नगरपालिका के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित रावण दहन के कार्यक्रम में आचार संहिता के चलते जनप्रतिनिधियों की उपस्थित नगण्य रही। हालांकि पिछले सालो की तुलना में कार्यक्रम में लोग कम ही पहुंचे। इस मौके एसडीएम, एएसपी, डीएसपी, थानाप्रभारी व पालिका ईओ शिवपालसिंह राजपुरोहित की मौजूदगी में रामसेना ने तीर चलाकर रावण के पुतले का दहन किया। कार्यक्रम में पूर्व विधायक जीवाराम चौधरी, पंचायत समिति सदस्य हरिसिंह राव, पालिका अध्यक्ष नीता मेघवाल, नेता प्रतिनक्ष नगरपालिका बीरबल बिश्नोई, भाजपा नेता दानाराम चौधरी, हरिश चौधरी, दुर्गाराम चौधरी, रावतसिंह दूठवा, जगदीश शारदा, भगवनाराम माली, पालिका उपाध्यक्ष दिलीप राठी, योगेश जोशी, हरिश त्रिवेदी, नारायण पुरोहित, नगरपालिका स्वास्थ्य निरीक्षक विजय पुरोहित, हरिश पुरोहित, प्रभु खत्री, दिनेश खत्री, मानदास वैष्णव, भूपतमल खत्री, जवाहराराम मेघवाल व अर्जुन देवासी सहित कई जने मौजूद थे।
मेघनाथ ने छकाया...
रावण दहन के लिए समिति के कलाकारों ने ज्यों ही तीर छोड़ा, रावण और कुम्भकरण के पुतले तो पूर्ण रूप से जल गए, लेकिन मेघनाद का पुतला नहीं जल पाया। ऐसे में समिति पदाधिकारियों ने 6.40 बजे मेघनाद के पुतले का दहन तिली लगाकर किया।
आहोर. कस्बे में शुक्रवार को दशहरे का पर्व हर्षोल्लास से मनाया गया। इस अवसर पर शाम को चामुंडा चौक में रावण दहन किया गया। जिसे देखने कस्बेवासियों की भीड़ उमड़ी। भवानी नवयुवक मंडल के कलाकारों ने भगवान श्रीराम, लक्ष्मण, सीता व हनुमान समेत वानर सेना का स्वांग रचकर चामुंडा चौक में रावण का दहन किया। इससे पूर्व गाजे-बाजे के साथ रावला से चामुंडा चौक तक सुंदर झांकियों सहित शोभायात्रा निकाली गई। बाद में हनुमान समेत वानर सेना ने अशोक वाटिका उजाड़ कर सीता को रावण के बंधन से मुक्त कराया। वहीं भगवान श्रीराम का रूप धरे कलाकार ने रावण के पुतले पर अग्नि बाण चलाकर उसका दहन किया। रावण का पुतला कुछ ही मिनट में अतिशबाजी के साथ धूं-धूं कर जल गया। इस मौके जनप्रतिनिधियों व अधिकारियों समेत सुरेश्वर नवयुवक मंडल के सदस्यों ने कलाकारों का माल्यार्पण कर बहुमान किया।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned