जीएसटी से मिली राहत ग्रेनाइट पर जीएसटी की दर 10 प्रतिशत कम हुई, उद्योग को फायदा


- एक माह तक ग्रेनाइट उद्यमियों ने जताया था विरोध, ग्रेनाइट इकाइयां बंद रखने के साथ लोडिंग-अनलोडिंग भी रही थी बंद

By: khushal bhati

Updated: 12 Nov 2017, 11:35 AM IST

जालोर. केंद्र सरकार ने जीएसटी की दरों की समीक्षा में ग्रेनाइट उद्योग पर जीएसटी की दर 28 प्रतिशत से घटाकर 18 प्रतिशत कर दी है, जो जिले के उद्यमियों के लिए राहतभरी खबर है। इस दर का उद्यमियों ने स्वागत किया है। उद्यमियों का कहना है कि दर तर्क संगत होने पर उद्योग को फायदा होगा और विदेशी ग्रेनाइट उद्योग समेत मार्बल और सिरेमिक टाइल्स के व्यापार के साथ प्रतिस्पद्र्धी भी बना रहेगा। इससे पूर्व जीएसटी के जुलाई माह में प्रभावी होने के बाद ग्रेनाइट पर 28 प्रतिशत की दर का उद्यमियों ने जमकर विरोध किया था। उद्यमियों ने इस दर को सीधे तौर पर ग्रेनाइट उद्योग के लिए घातक माना था। उद्यमियों ने इस दर को लेकर एक माह तक विरोध जताया था। इस दौरान ग्रेनाइट की जालोर से लोडिंग और अनलोडिंग भी पूरी तरह से बंद रही थी।
1300 यूनिट को फायदा
जालोर शहर ग्रेनाइट उद्योग के पीछे पहचाना जाता है। करीब तीन दशक पूर्व शुरू हुआ ग्रेनाइट उद्योग अब देश ही नहीं विदेशेां तक अपनी पहचान बनाने के साथ पैर पसार चुका है, हाल ही में जीएसटी की बढ़ी दरों से उद्योग को नुकसान पहुंचा, लेकिन नई दस से इसे फायदा मिलेगा।
200 करोड़ का पहुंचा था नुकसान
जीएसटी की बढ़ी दरों को कम करने के लिए उद्यमियों ने एक माह तक विरोध जताया, लेकिन उनकी मांगों को अनसुना कर दिया गया। जिससे परेशान होकर उद्यमियों ने उद्योग को बंद कर दिया था। इस एक माह में करीब 200 करोड़ रुपए तक ग्रेनाइट उद्योग को नुकसान पहुंचा।
इनका कहना
जीएसटी की बढ़ी दर पर हमने एक माह तक विरोध किया था। लगातार विरोध के चलते सरकार ने अहम फैसला लिया है। इस फैसले के लागू होने पर ग्रेनाइट पर 10 प्रतिशत जीएसटी कम होने से उद्योग को खासा फायदा होगा।
- लालसिंह धानपुर, अध्यक्ष ग्रेनाइट एसोसिएशन, जालोर
ग्रेनाइट पर 28 प्रतिशत जीएसटी की दर काफी अधिक थी। इससे उद्योग प्रभावित हो रहा था। साथ ही व्यापार भी प्रभावित हो रहा था। सरकार ने यह अहम फैसला लेकर उद्योग को राहत दी है।
- पुरुषोत्तम भंडारी, ग्रनाइट उद्यमी

khushal bhati Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned