सावों की सीजन, गूंजने लगे विवाह गीत

सोना रो बाजोटियो ने..., कुम्हार थ्हारे छुपड़ा जेरा कान..., जैसे गीतों के मध्य सावों को लेकर कई दुल्हा-दूल्हनों की पाठ रस्म अदा की गई

By: शंकर शर्मा

Published: 15 Apr 2016, 11:57 PM IST

सियाणा. सोना रो बाजोटियो ने..., कुम्हार थ्हारे छुपड़ा जेरा कान..., जैसे गीतों के मध्य सावों को लेकर कई दुल्हा-दूल्हनों की पाठ रस्म अदा की गई। इन दिनों सावों की सीजत को लेकर गांव में धूम मची हुई है। सावों की धूम से व्यापारियों के चेहरे भी खिले-खिले नजर आने लगे हैं।

बदलते जमाने के साथ कई प्राचीन परम्पराएं गौण हो गई है। फिर भी शादी के रस्म की परम्परा आज भी प्राचीनता के समान ही निर्वाह हो रही है। पाठ बिठाने व शादी के गीतों व समधी-समधण की चुहलबाजी का जुनून पहले जैसा ही बरकरार है। लोग भी उसी परम्परा को जीवंत रखे हुए हैं। कोई घर को रंग-रोगन के साथ अन्य प्रकार से सजाने में लगा है तो कोई शादी को लेकर अन्य कार्य में व्यस्त है।

देखे तो बाजार में भी इन दिनों सुबह से शाम तक भीड़ नजर आती है। कपड़ा, किराणा व कटलरी के व्यापारी व्यस्त चल रहे हैं। इन सावों में छोटे व्यापारियों का कारोबार भी पटरी पर आ गया हैं। इन दिनों 17 व 20 अप्रेल के मुहूर्त पर होने वाली शादी दूल्हा-दुल्हन पाठ बैठ गए हंै। पाठ बिठाने की रस्म में प्राचीनता झलक व परम्परा जीवंत सी नजर आती है। वहीं महिलाओं की ओर से म्हारा लाडा रो ब्याव मांडियों ढोल कट्ठा सु लाऊं आ धीण पड़े ..., वही जयपुर गढ थी ढोल व उदयपुर से थाली मुम्बई गढ थी मोजड़ी लाओ..., जोशी करे ने उतावळ जोशी लट पटियो..., सहित सुरीले गीतों धमचक मची हुई है।

इनका कहना
 मंदी की मार से इन सावों में कुछ हद तक राहत मिलेगी। वैसे इस बार मुहूर्त के दिन भी कम ही हैं।
भीखाराम प्रजापत, व्यापारी

इस वर्ष में भंयकर मंदी देखने को मिली हैं। सावों के दिन नजदीक आने के बाद बाजार में हलचल तेज हुई हैं।
सुरेश जैन, व्यापारी सियाणा

मंदी ने झकजोर कर रख दिया है। अब सावों की सीजन आने से कुछ राहत मिली हैं।
नरपतसिंह राठौड, टेंट वाले

सावों की सीजन आने से बाजार में तेजी आई हैं। पिछले कई महिनों से मंदी में थे। इस तेज के चलते कुछ राहत मिलेगी।
भरत कुमार भट्ट, कपडों के व्यापारी
शंकर शर्मा
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned