रोडवेज की आड़ में चांदी की तस्करी

Khushal Singh Bhati

Publish: May, 06 2019 10:52:56 AM (IST) | Updated: May, 06 2019 10:52:58 AM (IST)

Jalore, Jalore, Rajasthan, India

जालोर/ भाद्राजून. जालोर जिले के भाद्राजून थाना क्षेत्र ने पुलिस ने मुखबिर की इत्तला पर कार्रवाई करते हुए एक रोडवेज बस से 9 किलो 160 ग्राम चांदी बरामद की। थाना प्रभारी सवाईसिंह महाबार के अनुसार मुखबिर की सूचना पर रविवार सवेरे मुख्य मार्ग पर नाकेबंदी की गई। इस दौरान सवेरे करीब 11 बजेे जोधपुर से सांचौर की तरफ चलने वाली रोडवेज बस की तलाशी ली गई। जिस पर बस की केबिन में खाली साइड में तीन सवारियों के बैठने वाली सीट के नजदीक में पुलिस को लावारिस चांदी मिली है। जिसकी मात्रा 9 किलो 160 ग्राम है। जिसकी बाजार कीमत लगभग 3.50 लाख आंकी जा रही है।
स्टाफ की भूमिका पर भी सवाल
आमतौर पर रोडवेज बसों में बस चालक और कंडक्टर अपने स्तर पर ही पार्सल या लगेज ले लेते हैं। बकायदा उसकी राशि अपने जेब में डालते हैं। इन हालातों में कई बार पार्सल पहुंचने वाले स्थान की जानकारी ही उन्हें होती है, लेकिन इन हालातों में अक्सर ये तक उन्हें पता नहीं होता कि पार्सल में क्या वस्तु या सामग्री है। जोधपुर से आ रही इस बस से पुलिस को चांदी मिली है, लेकिन यह चांदी कहां जानी थी। इस बारे में जानकारी नहीं है। सीधे तौर पर यह बड़ा सवाल है। क्योंकि चांदी के अलावा इसी तरीके से हाल ही में निजी बस से अफीम और डोडा की बरामदगी हो चुकी है। यह बस जोधपुर से चलकर सांचौर तक जाती है। ऐसे में यह सवाल भी अहम है कि आखिर किस तरह से बिना जानकारी के यह चांदी इस बस में रखी गई और बिना चालक और कंडक्टर की जानकारी के यह पार्सल कहां जा रहा था।
सांचौर तक जा रही इसलिए अहम सवाल
सूत्रों की मानें तो जोधपुर में सर्राफा बाजार है। यहां सोने चांदी की खरीद होती है। संभवत: यहां से ही इसकी खरीद हुई और उसके बाद किसी व्यापारी के यहां ही यह चांदी पहुंचने वाली थी, लेकिन उससे पहले ही पुलिस ने इसे बरामद कर लिया। यह चौरसा आभूषण बनाने में काम में लिया जाना था।
जोधपुर डिपो की है बस
बस नंबर आरजे-19 पीबी 3287 बस जोधपुर डिपो की है और सवेरे जोधपुर से सांचौर के लिए रवाना हुई थी। इस बीच पुलिस ने सघन तलाशी के दौरान बस से चांदी बरामद की है। हालांकि मामले में किसी की गिरफ्तारी नहीं हो पाई है। पुलिस प्रकरण में जांच कर रही है कि इस चांदी को बस में किसने रखा और इसे कहां उतारा जाना था। हालांकि अभी मामले में पुलिस के पास सवाल ही खड़े हैं।
नियम विरुद्ध तो है ही, खतरा भी पूरा
इस तरह से बिना जानकारी रोडवेज बस में सोने चांदी के आभूषण और कच्चा माल परिवहन करना विभागीय नियमों की अवहेलना है। साथ ही सोने चांदी की चमक आपकी जान के लिए भी जोखिम बन सकती है। हाल ही में 29 मार्च को सिरोही के बरलूट थाना क्षेत्र में एक व्यक्ति को इसी काकरण नुकसान उठाना पड़ चुका है। सिरोही जिले के बरलूट थाना क्षेत्र के जावाल में 29 मार्च को बेखौफ बदमाशों ने युवक की आंखों में मिर्ची डाल लूट की वारदात को अंजाम दे दिया। उन्होंने युवक से बीस किलो चांदी से भरा पार्सल लूट लिया। पार्सल को लेकर लौटते समय बाइक पर सवार होकर आए तीन अज्ञात लोगों ने उसकी युवक की आंखों में मिर्ची डाली और उसके बाद लोहे की रॉड से ताबड़तोड़ हमला कर पार्सल ले गए।
ये सवाल अहम
- चांदी बस से बरामद हुई है और जोधपुर से भाद्राजून तक आई है, स्टाफ से पड़ताल करना उचित क्यों नहीं समझा?
- चांदी कहां से बस में रखी गई और किसकी अनुमति से रखी गई?
- बस में रखी गई यह चांदी कहां उतारी जानी थी?
- नियम विरुद्ध बसों में रखी जा रहे पार्सल और लगेज पर विभाग कोई कार्रवाई क्यों नहीं कर रहा?
इनका कहना
मामले में जांच जारी है। प्रकरण में कोई भी व्यक्ति की गिरफ्तारी नहीं है। चांदी कहां से रखी गई और कहां जा रही थी, इस बारे में पड़ताल की जा रही है।
सवाईसिंह, थाना प्रभारी, भाद्राजून..12

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned