scriptThere is a big case of water theft here in Jalore, the officials were | जालोर में यहां पानी चोरी का बड़ा मामला, अधिकारी भी कार्रवाई के दौरान चौंक गए | Patrika News

जालोर में यहां पानी चोरी का बड़ा मामला, अधिकारी भी कार्रवाई के दौरान चौंक गए

- एफआर प्रोजेक्ट से ही डी.एस ढाणी को पहुंचाया जाना था पानी, लेकिन 20 से अधिक अवैध कनेक्शन मुख्य लाइन पर ही थे

जालोर

Updated: May 21, 2022 08:39:25 pm

जालोर. भीषण गर्मी के मौसम में लोगों को पेयजल संकट से जूझना पड़ रहा है और पेयजल आपूर्ति का शैड्यूल नर्मदा परियोजना पर निर्भर कर रहा है, लेकिन इसी परियोजना की मुख्य पाइप लाइन से पानी बड़ी मात्रा में न केवल चोरी हो रहा है, बल्कि इससे लोग अपने खेतों में सिंचाई कर रहे हैं और यहां तक कि बड़ी पाइप लाइन अपने खेतों में स्थिति कुओं तक बिछा दी है और उससे कुएं रिचार्ज कर रहे हैं। यह गंभीर विषय है, क्योंकि इससे गर्मी के मौसम में ग्रामीण क्षेत्रों में पानी आपूर्ति की मंशा से जो मशक्कत विभाग ने की, उसी पर ये पानी चोर कुंडली मार रहे हैं। इसी तरह का नर्मदा परियोजना की मुख्य पाइप लाइन से लाखों लीटर पानी चोरी का बड़ा मामला तैतरोल से डीएस ढाणी के बीच करीब 4 किमी पाइप लाइन पर देखने को मिला। यहां करीब 20 अवैध कनेक्शन कर दिए गए थे। इस संबंध में मौखिक शिकायत का समाधान नहीं होने पर आखिरकार जिला परिषद सदस्य कमलेश कुमार विश्नोई ने 14 मई को कलक्टर जालोर को शिकायत दर्ज करवाई, जिसके बाद विभाग हरकत में आया। साथ ही अवैध कनेक्शन चिह्नित कर उन्हें हटाने की कार्रवाई अमल में लाई जा रही है।
- एफआर प्रोजेक्ट से ही डी.एस ढाणी को पहुंचाया जाना था पानी, लेकिन 20 से अधिक अवैध कनेक्शन मुख्य लाइन पर ही थे
- एफआर प्रोजेक्ट से ही डी.एस ढाणी को पहुंचाया जाना था पानी, लेकिन 20 से अधिक अवैध कनेक्शन मुख्य लाइन पर ही थे
इस तरह से पानी चोरी, कड़ी कार्रवाई जरुरी
मामले में चौंकाने वाले तथ्य सामने आए हैं। जिनके अनुसार किसानों ने अपने खेत के मुहाने और भीतर से गहराई से गुजर रही पाइप लाइन को खोद डाला। यह पाइप लाइन 10 इंच की है। इस पर छेद कर 2 इंच और इससे भी अधिक क्षमता की पाइप लाइन बिछाकर पानी को अपने खेत में बने कुओं में भर रहे थे। हालात यह बने कि प्रभावित डीएस ढाणी के ग्रामीणों को कुछ दिन पानी की आपूर्ति के बाद पानी की सप्लाई पूरी तरह से बंद हो गई। जल संकट की स्थिति में इन ग्रामीणों को टैंकरों से पानी मंगवाना पड़ रहा है। दूसरी तरफ पानी चोर अवैध कनेक्शन के मार्फत एक तरफ विभाग को चूना लगा रहे हैं। दूसरी तरफ अवैध तरीके से अपने खेत के कुएं भर रहे हैं। इस मामले पर प्रकरण दर्ज करवाने के साथ साथ इन बदमाशों से भारी जुर्माना वसूला जाना अनिवार्य है। ताकि इस तरह के घटनाक्रम की पुनरावृत्ति न हो सके।
यह थी शिकायत
बड़े स्तर पर पानी चोरी के इस मामले में 14 मई को जिला परिषद सदस्य ने कलक्टर जालोर को पत्र लिखा जिसमें बताया कि डीएस ढाणी में नर्मदा नहर से पेयजल आपूर्ति के लिए तैतरोल स्कीम से 10 इंची पाइप लाइन बिछाई गई। इस लाइन के डीएस ढाणी में प्रवेश करते ही लोगों द्वारा अवैध कनेक्शन करके कुओं को रिचार्ज किया जा रहा है। इस स्थिति में ग्रामीणों को पानी नसीब नहीं हो रहा। मजबूरी में टैंकरों से पानी मंगवाना पड़ रहा है।
फिर विभाग हरकत में आया
शिकायत के बाद जिला प्रशासन के मार्फत के बाद विभाग को इस संबंध में शिकायत प्राप्त हुई। नर्मदा विभाग के अधिकारियों ने इस शिकायत के बाद जांच शुरु की तो चौंकाने तथ्य सामने आए। केवल 4 किमी के दायरे में ही 20 से अधिक अवैध कनेक्शन पाइप लाइन पर मिले। जिसमें से 8 कनेक्शन हटाए गए हैं। अभी इस लाइन पर और भी कनेक्शन है। जिन्हें हटाने की प्रक्रिया चल रही है। दूसरी तरफ अब विभाग पानी चोरी के मामले में संबंधित आरोपियों के खिलाफ झाब थाना क्षेत्र में प्रकरण भी दर्ज करवा रहा है।
जालोर विधायक भी कह चुके होती है पानी चोरी
जालोर विधायक जोगेश्वर गर्ग ने भी नर्मदा मुख्य पाइप लाइन से पानी की चोरी बात कई बार सार्वजनिक तौर पर कही है। यही नहीं प्रेशर वॉल्व के अहाते से बड़े स्तर पर पानी चोरी की स्थिति पर उन्होंने प्रेशर वॉल्व को बंद करने के लिए भी निर्देशित किया था। केवल चार किमी के दायरे में 20 से अधिक अवैध कनेक्शन मिलने पर यह मसला गंभीर हो जाता है और गंभीरता से जहां पर भी इस तरह की शिकायत है। उनकी जांच जरुरी हो जाती है और प्रकरण दर्ज करने के साथ पेनल्टी वसूली जानी चाहिए।
पहले ही इस दंश को झेल रहे हम
नर्मदा मुख्य केनाल से जुड़ा एक अहम परेशानी का विषय केनाल से पानी चोरी का है। पाइप लाइन पर हजारों की संख्या में पाइप लाइन लगाकर पानी चोरी किया जा रहा है। इस संबंध में विभाग को कई बार शिकायतें भी प्राप्त होती है, लेकिन प्रशासनिक और पुलिस की सहायता के बिना कार्रवाई संभव नहीं हो पा रही है। गौरतलब है। मुख्य केनाल में पानी की चोरी से नहर में पानी का लेवल घट जाता है और उसके बाद सीधा असर एफआर प्रोजेक्ट की पंपिंग पर पड़ता है और जालोर शहर समेत प्रोजेक्ट से जुड़े अन्य गांव कस्बों में आपूर्ति बंद हो जाती है।
इनका कहना
मुख्य पाइप लाइन से चोरी की शिकायत मिलने के बाद जांच की गई थी। करीब 20 अवैध कनेक्शन चिह्नित किए हैं और कुछ हटाने के साथ अब झाब थाने में प्रकरण दर्ज करवाया जा रहा है।
- केएल कांत, एसई, नर्मदा नहर पेयजल

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather. राजस्थान में आज 18 जिलों में होगी बरसात, येलो अलर्ट जारीसंस्कारी बहू साबित होती हैं इन राशियों की लड़कियां, ससुराल वालों का तुरंत जीत लेती हैं दिलशुक्र ग्रह जल्द मिथुन राशि में करेगा प्रवेश, इन राशि वालों का चमकेगा करियरउदयपुर से निकले कन्हैया के हत्या आरोपी तो प्रशासन ने शहर को दी ये खुश खबरी... झूम उठी झीलों की नगरीजयपुर संभाग के तीन जिलों मे बंद रहेगा इंटरनेट, यहां हुआ शुरूज्योतिष: धन और करियर की हर समस्या को दूर कर सकते हैं रोटी के ये 4 आसान उपायछात्र बनकर कक्षा में बैठ गए कलक्टर, शिक्षक से कहा- अब आप मुझे कोई भी एक विषय पढ़ाइएUdaipur Murder: जयपुर में एक लाख से ज्यादा हिन्दू करेंगे प्रदर्शन, यह रहेगा जुलूस का रूट

बड़ी खबरें

जम्मू-कश्मीर: अमरनाथ यात्रा के बीच अनंतनाग में आतंकी हमला, आतंकियों ने पुलिसकर्मी को मारी गोलीकोपनहेगन के शॉपिंग मॉल में ताबड़तोड़ फायरिंग, 7 लोगों की मौत, कई घायलसीढ़ियां से उतरने के दौरान गिरे राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव, कंधे की हड्डी टूटीदिल्ली और पंजाब में दी जा रही मुफ्त बिजली, गुजरात में क्यों नहीं?: केजरीवालहैदराबाद में बोले PM मोदी- 'तेलंगाना में भी जनता चाहती है डबल इंजन की सरकार, जनता खुद ही बीजेपी के लिए रास्ता बना रही'पीएम मोदी ने लंबे समय तक शासन करने वाली पार्टियों का मजाक उड़ाने के खिलाफ चेताया, कहा - 'मजाक मत उड़ाएं, उनकी गलतियों से सीखें'IND vs ENG: पुजारा के पचासे की बदौलत इंग्लैंड पर बढ़त 257 रनों की, तीसरा दिन रहा भारत के नामRajasthan: वाहन स्क्रैपिंग सेंटर के लिए एक एकड़ जमीन जरूरी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.