ट्राफिक व्यवस्था में सुधार के लिए हटाई थी थडिय़ां, फिर हुआ कब्जा

ट्राफिक व्यवस्था में सुधार के लिए हटाई थी थडिय़ां, फिर हुआ कब्जा
ट्राफिक व्यवस्था में सुधार के लिए हटाई थी थडिय़ां, फिर हुआ कब्जा

Dharmendra Ramawat | Updated: 12 Jun 2019, 11:27:25 AM (IST) Jalore, Jalore, Rajasthan, India

www.patrika.com/rajasthan-news

सांचौर. शहर की यातायात व्यवस्था इन दिनों पूर्ण रूप से प्रभावित हो रही है। नियम कायदों को ताक में रख वाहनचालक वाहनों को बीच रास्ते में खड़ा कर रहे हैं। जिससे अन्य वाहनों के गुजरने के लिए रास्ता नहीं होने के कार बार-बार यातायात जाम की स्थिति बन रही है। शहर की यातायात व्यवस्था में सुधार के लिए कुछ समय पूर्व पुलिस व प्रशासन ने सड़क किनारे खड़ी रहने वाली थडिय़ां हवाई थी, लेकिन कुछ समय बाद बाजार की मुख्य सड़क पर इन थड़ी संचालकों ने फिर से कब्जा जमा लिया। जिससे स्थिति जस की तस हो गई है। अव्यवस्थित ट्राफिक के चलते शहर में घंटों जाम की स्थिति रहती है। इसके बावजूद ट्राफिक पुलिस खानापूर्ति के नाम पर औपचारिकता पूरी कर जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ रही है। जिसका खामिजया लोगों को भुगतना पड़ रहा है। वहीं इस तरह बदहाल ट्राफिक व्यवस्था के दौरान आपातकाल में अस्पताल जाने वाले मरीजों की सांसें भी अटकी रहती है। जिसकी परवाह ना तो पुलिस प्रशासन को है और ना ही पालिका प्रशासन इस ओर ध्यान दे रही है। शहर के रानीवाड़ा रोड चार रास्ता, बड़सम बाइपास, विवेकानंद सर्किल, हाड़ेचा रोड, चौधरी धर्मशाला व विश्नोई धर्मशाला सहित कई जगहों पर टैक्सी स्टैंड नहीं होने से दिनभर यहां टैक्सियां खड़ी रहती है। वहीं दुकानों पर खरीदारी के लिए आने वाले ग्राहक भी सड़क पर बेतरतीब वाहनों के खड़ा कर देने हैं। जिसे दिनभर यातायात जाम रहता है।
लाइनिंंग के बावजूद दुविधा
नगर पालिका प्रशासन की ओर से बाजार की सड़कों पर लाइनिंग करने के बावजूद कुछ थड़ी संचालक सड़क के बीचो-बीच ठेला खड़ा कर देते हैं जो वाहनचालकों के लिए परेशानी बनी हुई है। वहीं दुकानदारों की ओर से सड़क पर सामान जमा देने से रास्ता संकरा हो जाता है। जिससे ट्राफिक जाम की स्थिति रहती है। पुलिस व पालिका प्रशासन भी थड़ी संचालकों व दुकानदारों के खिलाफ कार्रवाई को लेकर लाचार नजर आ रहा है।
यह है समस्याएं
शहर में जगह-जगह पशुओं के जमावड़े ने भी वाहनचालकों की समस्या बढ़ा दी है। प्रशासन ने पूर्व में इन पशुओं को शहर से बाहर शिफ्ट करने के लिए कार्य योजना तय की थी, लेकिन कुछ समय बाद ही यह योजना ठंडे बस्ते में डाल दी गई। वहीं शहर में पूरे दिन जाम की स्थिति व अव्यस्थित ट्राफिक की बदौलत व्यापारी भी परेशान हो रहे हैं। पार्किंग के अभाव में ग्रामीण क्षेत्र से आने वाले वाहनों को आम रास्ते पर छोड़कर खरीदारी के लिए चले जाने के दौरान यह स्थिति और भी विकट हो जाती है। ऐसे में यातायात नियंत्रण को लेकर तैनात यातायात पुलिस महज औपचारिकता निभाते ही दिखाई दे रही है। शहर के विवेकानंद सर्किल, तापडिय़ा बाजार, रानीवाड़ा रोड, एसबीबीजे बैंक के पास, चार रास्ता, मेहता मार्केट, सर्विस लाईन, न्यू बस स्टेशन रोड व सब्जी मंडी क्षेत्र में दुकानों का अधिकांश सामान बाहर सड़क पर ही पड़ा रहता है।
इनका कहना...
दुकानदारों को चाहिए कि वे सड़कों पर सामान नहीं रखें। पालिका ने इसके लिए लाइनिंग भी की थी। अगर इसका पालन नहीं किया जा रहा है, तो पालिका की बैठक में मुद्दा उठाया जाएगा। ताकि शहर की जनता व व्यापारियों को परेशानी का सामना ना करना पड़े।
- बीरबल बिश्नोई, नेता प्रतिपक्ष नगरपालिका सांचौर

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned