प्रवासियों को रिझाने दूर तक पहुंचे, समर्थन की लगा रहे आस

Khushal Singh Bhati | Publish: Oct, 14 2018 10:56:00 AM (IST) | Updated: Oct, 14 2018 11:09:01 AM (IST) Jalore, Rajasthan, India

- आचार संहिता प्रभावी होने से पूर्व ही भाजपा और कांगे्रस के पदाधिकारी और संभावित प्रत्याशी जालोर के प्रवासियों से हुए रूबरू, चुनावों में अधिक से अधिक सहभागिता का किया आह्वान

विधानसभा चुनाव 2018
जालोर. विधानसभा चुनाव में मतदाताओं को रिझाने और अपने पक्ष में मतदान के लिए राजनीतिक दल विभिन्न प्रयास करेंगे। अभी मतदान को करीब ५३ दिन शेष है, लेकिन चुनावी कवायद तेज हो चुकी है। जालोर जिले से बड़ा हिस्सा दक्षिण राज्यों में प्रवास करता है। इस तबके की चुनाव में बड़ी अहम भूमिका मानी जाती है, क्योंकि इनकी संख्या भी काफी है और ये वे लोग है, जो दक्षिणी राज्यों में अपना व्यापार कर रहे हैं। आचार संहिता प्रभावी होने से पूर्व ही इन प्रवासियों को चुनावी हवन में आहुति देने के लिए जालोर जिले के कई नेता मिल चुके हैं। हालांकि इन प्रवासी मतदाताओं का रुझान क्या रहता है यह स्पष्ट नहीं कहा जा सकता, लेकिन राजनीतिक दलों के संंभावित प्रत्याशी और कार्यकर्ता इनसे जरुर मिले और दिसंबर में होने वाले चुनावों में अपने मताधिकार का प्रयोग करने और उन्हें समर्थन देने का आह्वान किया।
यहां प्रवासी अधिक
जालोर जिले के प्रवासी मुख्य रूप से कर्नाटका में बेंगलूरु, मंगलूरु में प्रवास करते हैं और व्यापार भी करते हैं। इसके अलावा चैन्नई, महाराष्ट्रा, गुजरात राज्य व अन्य शहरों में जालोर के प्रवासी हैं। अक्सर ये प्रवासी परिवार सहित त्योहारी सीजन के बाद ही जालोर जिले में पहुंचते हैं। इस बार भी स्थिति ऐसी ही बन रही है। दीपावली के बाद ही चुनावी सरगर्मियां तेज होंगी। इधर, त्योहारी सीजन निकलने के बाद काफी तादाद में प्रवासी जालोर पहुंचेंगे। सीधे तौर पर कहा जाए तो ये मताधिकार का प्रयोग भी करेेंगे। ऐसे में इन प्रवासियों का मतदान भी चुनावी समीकरण में महत्वपूर्ण माना जा सकता है।
ये प्रवासी सम्मेलन, जिसमें प्रवासियों से मांगा समर्थन
प्रवासियों का हर चुनाव में महत्वपूर्ण रोल रहता है और ये हर बार चुनावों में मतदान को पहुंचते भी है। इस बात से संभावित प्रत्याशी और कार्यकर्ता अच्छी तरह वाकिफ हैं। इसीलिए यदाकदा ही सही जनप्रतिनिधि प्रवासियों से दिवासवर में रूबरू जरुर होते हैं। हाल ही में भीनमाल विधानसभा के पूर्व प्रत्याशी ऊमसिंह राठौड़ मुंबई में एक धार्मिक कार्यक्रम में प्रवासियों से रूबरू हुए। यह धार्मिक आयोजन था, जिसमें काफी तादाद में जालोर के प्रवासी मौजूद थे। इसी तरह जालोर विधानसभा से भाजपा की अमृता मेघवाल भी चैन्नई में प्रवासियों से मिली। सीधे तौर पर यह सामाजिक और धार्मिक आयोजन थे, लेकिन इसे चुनावी समीकरण में प्रवासियों से समर्थन जुटाने की कवायद के रूप में भी देखा जा सकता है। इसी तरह भूपेंद्र देवासी भी तिरुपति दर्शन को गए थे। हालांकि देवासी का यहां हादसा हो गया था। इसके अलावा भीनमाल के रमेश पुरोहित भी हाल ही में प्रवास पर रहे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned