बीएसएफ के कमांडेंट को आईईडी से उड़ाने की साजिश नाकाम

( Jammu Kashmir News ) जम्मू कश्मीर में घुसपैठ में लगातार नाकाम रहने के बाद अब पाकिस्तान ने नापाक साजिश के तहत सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) मुख्यालय में ( BSF Headquarter ) आईईडी ( IEED Explosive ) युक्त पार्सल भेजकर नुकसान पहुंचाने की ( Pakistan's nefarious conspiracy ) कोशिश की। हालांकि, सतर्कता से यह हादसा टल गया। पार्सल को बम निरोधक दस्ते ने रविवार शाम को कब्जे में ले लिया है।

By: Yogendra Yogi

Updated: 06 Jan 2020, 06:17 PM IST

जम्मू। ( Jammu Kashmir News ) जम्मू कश्मीर में घुसपैठ में लगातार नाकाम रहने के बाद अब पाकिस्तान ने नापाक साजिश के तहत सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) मुख्यालय में ( BSF Headquarter ) आईईडी ( IEED Explosive ) युक्त पार्सल भेजकर नुकसान पहुंचाने की ( Pakistan's nefarious conspiracy ) कोशिश की। हालांकि, सतर्कता से यह हादसा टल गया। पार्सल को बम निरोधक दस्ते ने रविवार शाम को कब्जे में ले लिया है। सुरक्षा एजेंसियां जांच में जुट गई हैं। पार्सल देने वाले व्यक्ति की भी तलाश करने के साथ सुरक्षा प्रतिष्ठानों की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। यह 100 ग्राम की क्षमता का आईईडी था। यदि इसमें विस्फोट होता तो यह एक व्यक्ति की जान ले सकता था।

पंजटीला मुख्यालय को मिला पार्सल
हुआ यूँ कि जिले के पंजटीला में सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) की 173 वी वाहिनी के मुख्यालय पर कमांडेंट के नाम कोई अज्ञात शख्स पार्सल दे गया। ड्यूटी पर मौजूद संतरी ने व्यक्ति से पार्सल लिया और कमांडेंट गुरेंद्र सिंह को इस बारे में सूचित किया। पार्सल के बारे में जानकारी मिलने पर अधिकारी संशकित हो गए क्योंकि उन्होने कोई सामान पार्सल से मंगाया ही नहीं था।

कमांडेंट ने बरता एहतियात
सतर्कता बरतते हुए अधिकारी ने संत्री को पार्सल सुरक्षित दूरी पर रखने के लिए कहा। इसी के साथ तत्काल पुलिस और बम निरोधक दस्ता को सूचित किया। सूचना मिलते ही बम निरोधक दस्ता मौके पर पहुंच गया। दस्ते ने पूरी सावधानी के साथ पार्सल को खोला था। इस वजह से विस्फोट नहीं हुआ। यदि थोड़ी सी भी चूक होती तो बड़ा हादसा हो सकता था। इसके बाद उन्होंने तुरंत अपने उच्चाधिकारियों को घटना की जानकारी दी। सूचना मिलते ही बीएसएफ के आईजी एनएस जमवाल, जम्मू-सांबा के डीआईजी विवेक गुप्ता, एसएसपी शक्ति पाठक मौके पर पहुंच गए। शनिवार को दो युवकों ने मोटरसाइकिल से पहुंचकर पार्सल गेट पर छोड़ा था। चूंकि यह किसी के व्यक्तिगत नाम पर नहीं बल्कि कमांडेंट के नाम पर था। इस वजह से किसी ने इसे खोला नहीं।

विस्फोट से एक व्यक्ति की जान जा सकती थी
सेना के अधिकारियों ने भी पहुंचकर घटना की जानकारी हासिल की। पार्सल देने वाला कौन था, अभी पता नहीं चल पाया है। क्षेत्र में ऐसा पहला मामला देखने को मिला है। मुख्यालय गेट पर लगे सीसीटीवी कैमरे के फुटेज को भी खंगाला जा रहा है। जिले के एसएसपी शक्ति पाठक ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है। पार्सल देने वाले को तलाशा जा रहा है। यह 100 ग्राम की क्षमता का आईईडी था। यदि इसमें विस्फोट होता तो यह एक व्यक्ति की जान ले सकता था। सुरक्षा एजेंसियां इस प्रकार की आईईडी का स्त्रोत का भी पता लगाने का प्रयास कर रही है।

Show More
Yogendra Yogi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned