अमरनाथ यात्रा पंजीकरण के लिए अब नहीं लगना पड़ेगा लाइन में, भक्त घर बैठे कर सकते हैं ऑनलाइन आवेदन

अमरनाथ यात्रा पंजीकरण के लिए अब नहीं लगना पड़ेगा लाइन में, भक्त घर बैठे कर सकते हैं ऑनलाइन आवेदन
governor

Prateek Saini | Publish: May, 29 2019 07:49:24 PM (IST) Jammu, Jammu, Jammu and Kashmir, India

बोर्ड के सीईओ उमंग नरुला ने इस मौके पर बताया कि ऑनलाईन पंजीकरण की सुविधा को पायलट आधार पर शुरु करने का फैसला श्री अमरनाथ श्राईण बोर्ड की गत सात मार्च 2019 को हुई 36वीं निदेशक मंडल में लिया गया था...

(श्रीनगर): 1 जुलाई से शुरू होने वाली बाबा अमरनाथ की यात्रा के इच्छुक श्रद्धालुओं को अब पंजीकरण के लिए लंबी लाइन में नहीं लगना पड़ेगा। वह घर बैठकर भी आवेदन कर सकते हैं। श्री श्राईण बोर्ड के अध्यक्ष व जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने अमरनाथ यात्रा के इच्छुक श्रद्धालुओं के लिए पायलट आधार पर शुरु की गई ऑनलाईन रजिस्ट्रेशन सुविधा का आज शुभारंभ किया।


राजभवन में आयोजित एक सादे समारोह में राज्यपाल ने बोर्ड के सीईओ उमंग नरुला, बाेर्ड के अतिरिक्त सीईओ अनूप कुमार सोनी, एनआइसी में वैज्ञानिक बैजू उबोट और सिदेश्वर भगत समेत सभी संबधित अधिकारियों की मौजूदगी में इस सेवा को शुरु किया।

 

बोर्ड के सीईओ उमंग नरुला ने इस मौके पर बताया कि ऑनलाईन पंजीकरण की सुविधा को पायलट आधार पर शुरु करने का फैसला श्री अमरनाथ श्राईण बोर्ड की गत सात मार्च 2019 को हुई 36वीं निदेशक मंडल में लिया गया था। उन्होंने बताया कि ऑनलाइन पंजीकरण की सुविधा को एनआईसी की मदद से तैयार किया गया है।

 

पहली जुलाई 2019 से शुरु हो रही अमरनाथ यात्रा की पवित्र गुफा की वार्षिक तीर्थयात्रा के इच्छुक यात्री अब ऑनलाईन पंजीकरण करा सकेंगे। लेकिन शुरु में सिर्फ 500 ही श्रद्धालु ऑनलाइन पंजीकरण रोजाना करा सकेंगे। उन्होंने बताया कि बाल्टालमार्ग और पहलगाम मार्ग से रोजाना 250-250 श्रद्धालुओं के लिए ऑनलाईन पंजीकरण सुविधा ही उपलब्ध रहेगी।

 

श्रद्धालुओं के लिए यह बात सबसे जरूरी

ऑनलाइन पंजीकरण की सुविधा का लाभ लेने के इच्छ़ुक श्रद्धालुओं को प्रति श्रद्धालु 200 रुपये के शुल्क के साथ संबधित राज्य व केंद्र शासित राज्य द्वारा स्वास्थ्य प्रमाणपत्र जारी करने के लिए नामित डाक्टर अथवा अस्पताल द्वारा जारी स्वास्थ्य प्रमाणपत्र को भी अपलाेड करना होगा।

 

...तो नहीं मिलेगी अनुमति

कंप्यूटर द्वारा जारी यात्रा पर्ची को, जिस पर क्यूआर और बॉर कोड होगा, स्वास्थ्य प्रमाणपत्र की असल प्रति के साथ दोमेल, चंदनबाड़ी स्थित एक्सेस कंट्रोल गेट पर संबधित अधिकारियों को दिखाना होगा। इसके बिना संबधित श्रद्धालु को यात्रा की अनुमति नहीं होगी।

 

श्राईन बोर्ड की नई पहल

श्राईन बोर्ड ने एक नयी पहल के तहत यात्रा परिमट प्रपत्र पर क्यूआर और बॉर कोडिंग शुरु की है। क्यूआर कोड को यात्रियों के डाटा बेस में उनके मोबाईल नंबर के साथ जोड़ा जाएगा। यात्रा प्रमाणपत्र के क्यूआर कोड को दोमेल व चंदनबाड़ी स्थित एक्सेस कंट्रोल गेट व अन्य शीविरों में स्कैन किया जाएगा। इससे रियल टाईम आधारित यात्रियों की गणना और निगरानी हो सकेगी।उन्होंने बताया कि ऑनलाईन पंजीकरण से संबधित पूरा ब्यौरा श्री अमरनाथ श्राईन बोर्ड की अधिकृत बेबसाइट से प्राप्त की जा सकती है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned