दूसरे चरण में उधमपुर व श्रीनगर लोकसभा सीट पर एक बजे तक हुआ इतना प्रतिशत मतदान

दूसरे चरण में उधमपुर व श्रीनगर लोकसभा सीट पर एक बजे तक हुआ इतना प्रतिशत मतदान

Prateek Saini | Publish: Apr, 17 2019 08:00:35 PM (IST) | Updated: Apr, 18 2019 03:37:31 PM (IST) Jammu, Jammu, Jammu and Kashmir, India

उधमपुर संसदीय सीट में कुल 16,85,779 मतदाता हैं...

(जम्मू): दूसरे चरण के चुनाव के तहत आज देश के 12 राज्यों की कुल 95 सीटों पर चुनाव हो रहा है। जम्मू-कश्मीर की बात करे तो यहां डोडा-उधमपुर-कठुआ व श्रीनगर लोकसभा सीट पर वोट डाले जा रहे है। आज सुबह 7.00 बजे से शुरू हुआ चुनाव शाम 6.00 बजे तक चलेगा।

 

एक बजे तक उधमपुर में हुई इतनी वोटिंग

सवेरे मतदान की गति थोडी धिमी रही। समय बढ़ने के साथ मतदाता बूथ पर जुटने लगे। उधमपुर सीट पर हुए मतदान के ताजा आंकडे सामने आए है। चुनाव आयोग से मिली जानकारी के अनुसार दोपहर एक बजे तक उधमपुर संसदीय सीट के इलाकों में इस प्रकार वोटिंग हुई। रियासी में 49.2 फीसदी वोटिंग हुई। कठुआ में 49.7 प्रतिशत मतदाताओं ने वोट डाले। उधमपुर में 48.7 फीसदी वोटर्स ने वोट डाले तो रामबान में 39.3 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का उपयोग किया। डोडा में 43.2 फीसदी वोट पडे तो किश्तवार में 39.3 प्रतिशत वोटर्स ने वोट डाले।


श्रीनगर में हुआ इतना मतदान

श्रीनगर लोकसभा सीट पर भी शुरूआत में मतदाता ने ज्यादा रूची नहीं दिखाई। समय बढने के साथ लोग पोलिंग बूथ पहुंचे पर ज्यादा बढ़त नहीं देखी गई। चुनाव आयोग से मिली जानकारी के अनुसार दोपहर एक बजे तक श्रीनगर सीट पर इतना मतदान हुआ:—

बडगाम में 11.4 प्रतिशत मतदान हुआ तो गांदरबल में 11 फीसदी वोट डाले गए। श्रीनगर में 4.8 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का उपयोग किया।


उधमपुर संसदीय सीट में कुल 16,85,779 मतदाता हैं, जिनमें से 1,665,467 सामान्य मतदाता और 20,312 सेवा मतदाता के रूप में पंजीकृत हैं। सामान्य मतदाताओं में 876,319 पुरुष और 789,105 महिलाएं हैं। सेवा मतदाताओं में 20,052 पुरुष और 260 महिलाएं और 43 ट्रांसजेंडर मतदाता शामिल हैं। करीब 2,16,507 प्रथम बार मतदान करने वाले मतदाता भी सूची में जोड़े गए है जिनका 2014 में विजेता के वोट अंतर से तीन गुना अधिक है। हालाँकि, इनमें से कुछ मतदाताओं को हाल ही में नगरपालिका और पंचायत चुनावों के दौरान मतदान करने का अवसर मिला हो सकता है, लेकिन यह उनका पहला लोकसभा चुनाव होगा।

पिछले चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के जितेंद्र सिंह 60,976 के अंतर से विजयी हुए। उन्होंने कांग्रेस के अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी गुलाम नबी आजाद को हराया। सिंह ने 487,369 वोट हासिल किए जबकि आजाद 426,393 वोट हासिल करने में सफल रहे।


यह निर्वाचन क्षेत्र 17 विधानसभा क्षेत्रों में फैला हुआ है, जिसमें छह जिले किश्तवाड़, डोडा, रामबन, रियासी, उधमपुर और कठुआ शामिल हैं, जहां चिनाब क्षेत्र के तीन जिले (रामबन, डोडा और किश्तवाड़) जिनमें छह असेंबली सेगमेंट शामिल हैं और 5,86,738 मतदाता हैं। कांग्रेस से महाराजा हरि सिंह के पोते विक्रमादित्य सिंह सहित, पूर्व मंत्री और सांसद चौधरी लाल सिंह और पूर्व मंत्री हर्ष देव सिंह सहित 12 उम्मीदवार मैदान में है।

 

कठुआ और उधमपुर जिलों के अधिकांश हिस्सों में हिंदू बहुसंख्यक हैं, लेकिन डोडा, किश्तवाड़ और रामबन जिलों और रियासी के कुछ हिस्सों में मुसलमानों की एक उम्मीदवार की जीत में महत्वपूर्ण भूमिका है। चार मुख्य उम्मीदवार राजपूत हैं, हिंदू वोटों के विभाजित होने की संभावना है, दिलचस्प रूप से चेनाब क्षेत्र से कोई प्रमुख चेहरा सीधे चुनाव नहीं लड़ता है, इसलिए क्षेत्र से वोट निर्णायक कारक होंगे।


वहीं श्रीनगर लोकसभा सीट से भाजपा ने शेख खालिद जहांगीर को प्रत्याशी बनाया है। नेशनल कांफ्रेंस की ओर से खुद फारूक अब्दुल्ला फिर से मैदान में हैं। पीडीपी की ओर से आगा सैय्यद मोहसिन ताल ठोक रहे हैै। इन तीनों समेत 12 उम्मीदवार यहां से अपनी किस्मत आजमा रहे है।

श्रीनगर लोकसभा सीट में 15 विधानसभा क्षेत्र आते हैं। इनमें कंगन, गांदरबल, हजरतबल, जदीबाल, ईदगाह, खानयार, हब्बा कदल, अमीरा कदल, सोनवार, बटमालू, चढोरा, बडगाम, बीरवाह, खानसाहिब और चरारी शरीफ शामिल हैं।


श्रीनगर लोकसभा क्षेत्र नेकां का गढ़ रहा है। 1998 से 2004 तक उमर अब्दुल्ला यहां से सांसद रहे। 2009 में फारूक अब्दुल्ला यहां से जीते। 2014 के चुनाव में पीडीपी के तारिक हमीद कर्रा ने बाजी मारी। सितंबर 2016 में तारिक ने लोकसभा की सदस्या से इस्तीफा दिया और कांग्रेस में शामिल हो गए। 2017 में इस सीट पर उपचुनाव हुए तो जनता ने फारूख अब्दुल्ला को फिर जीत का सहरा पहना दिया। फारूख अब्दुल्ला कश्मीरियों के विशेष अधिकारों को मुद्या बनाकर चुनाव लड़ रहे है। प्रशासन की ओर से शांतिपूर्ण चुनाव करवाने के लिए चाक—चौबंद सुरक्षा व्यवस्था की गई है। चुनाव आयोग की ओर से पूरी तैयारी कर ली गई है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned