JK पू्र्व DGP का बड़ा बयान, बोले- 'कश्मीर के हिंदुओं को ट्रेनिग के साथ हथियार देने की जरुरत'

जन्नत के बराबर दर्जा प्राप्त कश्मीर घाटी हर तरह से सुलग रही है (Jammu And Kashmir Police Former DGP SP Vaid Said To Give Arms Training To Minority Hindus In Valley) (JK Police Former DGP SP Vaid Statements On Kashmir Minority Hindus) (Jammu And Kashmir News)...

By: Prateek

Published: 12 Jun 2020, 07:42 PM IST

(श्रीनगर): जन्नत के बराबर दर्जा प्राप्त कश्मीर घाटी हर तरह से सुलग रही है। बढ़ती आतंकी वारदातें और पाकिस्तानी सेना की ओर से सीजफायर की उल्लंघन की घटनाएं इन दिनों आम हो चली है। इसी बीच जम्मू—कश्मीर के पूर्व पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) एस. पी. वैद्य ने यह कहकर हलचल पैदा कर दी है कि कश्मीर में अल्पसंख्यक हो चुके हिंदुओं को हथियार मुहैया कराने के साथ ही ट्रेनिंग देने की आवश्यकता है।

 

यह भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर : हंदवाड़ा में लश्कर के 3 आतंकी गिरफ्तार, 200 करोड़ के टेरर मॉड्यूल का भंडाफोड़

उन्होंने इसकी आवश्यकता पर प्रकाश डालते हुए कहा कि जम्मू संभाग के चिनाब घाटी में हिंदुओं को पहले हथियार दिए गए थे. नब्बे के दशक में इससे हिंदुओं के पलायन को रोकने में बहुत सहायता हुई थी। उन्होंने यह भी कहा कि विलेज डिफेंस कमेटी फॉर्मूला को योजना बनाकर लागू किया जाए तो किसी तरह का कोई नुकसान नहीं है।

यह भी पढ़ें: Jammu and Kashmir में चौथे दिन तीसरा Encounter, सुरक्षा बलों ने मार गिराए पांच Terrorists

 

JK पू्र्व DGP का बड़ा बयान, बोले- 'कश्मीर के हिंदुओं को ट्रेनिग के साथ हथियार देने की जरुरत'

यही नहीं उन्होंने आतंकियों का सामना करने के लिए मुस्लिम समुदाय के कमजोर वर्ग को भी हथियार देने की पैरवी की। उन्होंने कहा बताया कि ' वही पहले शख्स हैं, जिन्होंने जम्मू-कश्मीर के रियासी में पहली विलेज डिफेंस कमेटी का गठन किया था। उन्होंने कहा कि इजरायल की तरह घाटी में भी असहाय लोगों के लिए विशेष प्रावधान करना जरूरी है। वैद्य ने कठिनाईयों की ओर से भी ध्यान दिलाते हुए कहा कि कश्मीर में विलेज डिफेंस कमेटी गठित करना बड़ा मुश्किल भरा काम है, लेकिन असंभव नहीं हैं।

यह भी पढ़ें: घाटी में कश्मीरी पंडित सरपंच की हत्या, राहुल गांधी बोले- कभी जीत नहीं सकती हिंसा

 

JK पू्र्व DGP का बड़ा बयान, बोले- 'कश्मीर के हिंदुओं को ट्रेनिग के साथ हथियार देने की जरुरत'

गौरतलब है कि जम्मू—कश्मीर में आतंकिेयों की धरपकड़ और सुरक्षाबलों के साथ उनकी मुठभेड़ लगातार हो रही है। एएनआई के अनुसार लॉकडाउन की अवधि में ही जम्मू—कश्मीर में 68 आतंकी मारे जा चुके हैं। वहीं इस साल में सुरक्षाबलों ने 100 से अधिक आतंकियों को ढेर किया है। लेकिन घाटी में हलचल तब और बढ़ गई जब आतंकियों ने घाटी में अल्पसंख्यक हिंदुओं में दहशत पैदा करने के लिए अनंतनाग में सरपंच अजय पंडित की गोली मारकर हत्या कर दी थी। इसके बाद से ही घाटी में हिंदुओं की सुरक्षा का मुद्दा गरमा गया है।

जम्मू—कश्मीर की ताजा ख़बरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...

Show More
Prateek Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned