जम्मू-कश्मीर के 3 फोटो पत्रकारों को मिला Pulitzer Prize 2020, यूं जाहिर किए जज्बात

Pulitzer Prize 2020: पुलित्जर पुरस्कार को पत्रकारिता में सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कार माना जाता है...

By: Prateek

Published: 05 May 2020, 09:10 PM IST

योगेश सगोत्रा
जम्मू: जम्मू-कश्मीर के तीन फोटो पत्रकारों को पिछले साल अगस्त में धारा 370 को बेअसर किए जाने के बाद क्षेत्र में जारी बंद के दौरान सराहनीय काम करने के लिए 2020 पुलित्जर पुरस्कार में फीचर फोटोग्राफी की श्रेणी में सम्मानित किया गया है। इनमें एसोसिएट प्रेस (एपी) के तीन फोटो पत्रकार चन्नी आनंद, मुख्तार खान और यासीन डार शामिल है। आनंद जम्मू में रहते हैं जबिक यासिन और मुख्तार श्रीनगर के निवासी हैं।


चन्नीआनंद पिछले 20 सालों से एपी के साथ काम कर रहे हैं। इन तीनों ने जम्मू व कश्मीर के सामान्य जनजीवन के साथ ही प्रदर्शनकारियों और सुरक्षाबलों की तस्वीरों को भी दुनिया तक पहुंचाया। पुरस्कार जीतने पर आनंद ने कहा, 'मैं आश्चर्यचकित हूं। मुझे तो विश्वास ही नहीं हो रहा है।' हम सभी के लिए गर्व का क्षण है। पुलित्जर पुरस्कार विजेता चन्नी आनंद ने कहा की अपने करियर के शुरुआती वर्षों के दौरान विश्व प्रेस प्रतियोगिताओं में भाग लिया लेकिन फिर भाग लेना बंद कर दिया क्योंकि मुझे लगने लगा था की भारतीय लेंसमैन की ऐसे मंचो पर कोई कदर नहीं। "हालांकि मुझे पुलित्जर पुरस्कार के बारे में पता था लकिन मैंने कभी नहीं सोचा था कि एक दिन मुझे इसके साथ सम्मानित किया जाएगा।

 

 

आनंद ने कई आतंकी हमलों, भारत-पाक सीमाओं पर पाकिस्तानी गोलाबारी और संघर्ष क्षेत्र में जीवन को कवर किया है। उन्होंने कहा कि यह पुरस्कार मेरे 23 वर्षों के लंबे संघर्ष की मान्यता है। अन्य दोनों पुरस्कार विजेताओं क्रमश: मुख्तार खान और यासीन डार ने भी पुरस्कार मिलने पर खुशी व्यक्त की। गौरतलब है कि पुलित्जर पुरस्कार को पत्रकारिता में सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कार माना जाता है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned