Terror Funding: एनआइए की क्रॉस एलओसी व्यापारी के ठिकानों पर छापेमारी

Terror Funding: एनआइए की क्रॉस एलओसी व्यापारी के ठिकानों पर छापेमारी

Nitin Bhal | Updated: 23 Jul 2019, 05:31:16 PM (IST) Jammu, Jammu, Jammu and Kashmir, India

Terror Funding: राष्ट्रीय जांच एजेंसी ( NIA ) ने मंगलवार को टेरर फंडिंग ( Terror Funding ) के शक में कश्मीर ( Jammu Kashmir ) के परिमपोरा फल मंडी और क्रॉस-एलओसी ( LOC ) व्यापारी के घर पर छापे मारे। सूत्रों ने बताया कि दक्षिण कश्मीर के पुलवामा...

श्रीनगर. राष्ट्रीय जांच एजेंसी ( nia ) ने मंगलवार को टेरर फंडिंग ( terror funding ) के शक में कश्मीर ( jammu kashmir ) के परिमपोरा फल मंडी और क्रॉस एलओसी ( LOC ) व्यापारी के घर पर छापे मारे। सूत्रों ने बताया कि दक्षिण कश्मीर के पुलवामा में अचगोजा केलर के रहने वाले गुलाम अहमद वानी उर्फ बारदाना के घर पर एनआईए ने छापा मारा। वानी दक्षिण कश्मीर के पुलवामा में एलओसी (क्रॉस लाइन ऑफ कंट्रोल) ट्रेडर्स एसोसिएशन का अध्यक्ष है। बता दें कि अवैध गतिविधियों के मद्देनजर केंद्र सरकार द्वारा क्रॉस एलओसी व्यापार को अप्रेल माह में निलंबित कर दिया गया था। सूत्रों की मानें तो मंगलवार सुबह से ही घाटी के कई इलाकों में छापेमारी जारी है। यह सभी ठिकाने व्यापारी गुलाम अहमद वानी के बताए जा रहे हैं। इसमें उसके घर सहित परिमपोरा फल मंडी श्रीनगर स्थित उसके दफ्तर में भी छापेमारी की गई है। इस दौरान एनआईए को कई एहम दस्तावेज हाथ लगे हैं। जिनसे घाटी में टेरर फंडिंग के श्रोत और जरिया दोनों का पता चल सकेगा। इससे पहले एनआइए ने टेरर फंडिंग मामले के संबंध में कश्मीर के कुछ हिस्सों में छापे मारे थे। इस मामले में एनआइए ने अब तक हुर्रियत कॉन्फ्रेंस के कई नेताओं और कुछ कारोबारियों को गिरफ्तार किया है। इनमें से ज्यादातर नई दिल्ली कीतिहाड़ जेल में बंद हैं।

मई 2017 में दर्ज किया था मामला

जानकारी हो कि कि एनआईए ने जमात-उद-दावा, दुख्तारन-ए-मिल्लत, लश्कर-ए-तैयबा, हिजबुल मुजाहिदीन और जम्मू-कश्मीर के दूसरे अलगाववादी समूहों के खिलाफ फंड जुटाने को लेकर 20 मई 2017 को एक मामला दर्ज किया था। एनआईए ने 13 आरोपियों पर इस संदर्भ में आरोप-पत्र दाखिल किया है। इसमें अलगाववादी नेता, हवाला कारोबारी और पत्थरबाज शामिल हैं।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned