इस इलाके में एक नहीं कई महिला डॉन राज चलाती हैं

: (Jharkhand News ) यह एक ऐसे शहर की दास्तान हैं जहां महिला डॉन (Women Don ) का राज चलता है। अपराध की दुनियां में पुरुषों के वर्चस्व को इस इलाके में जबरदस्त चुनौती देते हुए महिला डॉन काबिज हो गई। इन महिला डॉन ने अन्य अपराधों के (Drug dealer ) साथ नशे के अवैध काले कारोबार को अपना मुख्य व्यवसाय बनाया है। इन्हीं में से एक महिला डॉन और कुख्यात ड्रग पेडलर को पुलिस ने जाल बिछा कर गिरफ्तार कर लिया।

By: Yogendra Yogi

Updated: 21 Jul 2020, 05:28 PM IST

जमेशदपुर(झारखंड): (Jharkhand News ) यह एक ऐसे शहर की दास्तान हैं जहां महिला डॉन (Women Don ) का राज चलता है। अपराध की दुनियां में पुरुषों के वर्चस्व को इस इलाके में जबरदस्त चुनौती देते हुए महिला डॉन काबिज हो गई। एक नहीं कई महिला डॉन इस इलाके में मौजूद हैं। इन महिला डॉन ने अन्य अपराधों के (Drug dealer ) साथ नशे के अवैध काले कारोबार को अपना मुख्य व्यवसाय बनाया है। इन्हीं में से एक महिला डॉन और कुख्यात ड्रग पेडलर को पुलिस ने जाल बिछा कर गिरफ्तार कर लिया। यह पहला मौका नहीं है जब पुलिस ने नशे के कारोबार में किसी महिला डॉन को गिरफ्तार किया है। इस इलाके से पहले भी दो महिला ड्रग पेडलर को पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है।

कई मामलों में वांछित
एनडीपीएस एक्ट के कई कांडों में वांछित आदित्यपुर की डॉली परवीन को पुलिस ने गुप्त सूचना के आधार पर उसके घर से गिरफ्तार कर जेल भेजा। डॉली के विरुद्ध आदित्यपुर थाने में छह कांड प्रतिवेदित है और वह फरार चल रही थी। पुलिस को सूचना मिली कि कई कांडासें में वांछित कुख्यात ड्रग माफिया डॉली परवीन (35) आदित्यपुर थाना क्षेत्र एच रोड मुस्लिम बस्ती स्थित अपने घर पर है। सूचना के सत्यापन एवं आवश्यक कार्रवाई के लिए पुलिस टीम का गठन किया गया। जिसमें महिला पुलिस एवं अन्य पुलिस अधिकारी को शामिल किया गया। सभी पुलिसकर्मी सादे लिबास में बस्ती के दूसरे रास्ते से डॉली परवीन का घर के अंदर गए। अचानक सादे लिबास में पुलिसकर्मी को देखते ही डॉली भागने लगी परंतु छापेमारी टीम में शामिल महिला पुलिस ने उसे तुरंत दबोच लिया।

कुख्यात है डॉली
आदित्यपुर थाना में डॉली परवीन के विरुद्ध नौ अपराधिक मामले दर्ज हैं। जिसमें सात मामले (नारकोटिक्स ड्रग्स साइकोट्रोसब्सटेंस एक्ट) एनडीपीएस एक्ट से संबंधित है। इससे पहले भी सरायकेला जिला की आदित्यपुर पुलिस की तरफ से मुस्लिम बस्ती से संचालित ब्राउन शुगर कारोबार के विरुद्ध अभियान चलाए जाने के दौरान डॉली परवीन को गिरफ्तार करने की लगातार कोशिशें की जा रही थी, लेकिन बस्ती के लोगों ने ड्रग पेडलर डॉली को लगातार बचाने की कोशिश की। नतीजतन पुलिस चाह कर भी इसे गिरफ्तार नहीं कर पा रही थी। पुलिस को गुप्त सूचना प्राप्त हुई थी कि डॉली एक बार फिर मुस्लिम बस्ती में शरण लिए हुए हैं, जिसके बाद पुलिस ने जाल बिछाते हुए इसे शिकंजे में ले लिया।

दूसरी महिला डॉन
डॉली का अंतरराज्यीय नेटवर्क है। पंजाब और हरियाणा से वह ब्राउन शुगर मंगा कर कारोबार करती थी। गौरतलब है कि न केवल सरायकेला-खरसावां जिला बल्कि पड़ोसी जिला जमशेदपुर और चाईबासा बंगाल तक डॉली के काले ड्रक्स कारोबार का नेटवर्क फैला हुआ था। बीते तीन-चार सालों से डॉली पुलिस के लिए चुनौती बनी हुई थी। ब्राउन शुगर के काले साम्राज्य की किंगपिन डॉली को तीनों जिलों की पुलिस तलाश रही थी। आदित्यपुर मुस्लिम बस्ती से डॉली इस धंधे का संचालन कर रही थी। डॉली से पहले ड्रग्स के कारोबार की कमान उसके पति कादिम खान के हाथों में थी। ड्रग्स के वर्चस्व को लेकर इलाके में कई बार फायरिंग की वारदातें हो चुकी हैं। इससे पहले पुलिस ने पूर्व में शोभा कुशवाहा को ड्रग्स के अवैध कारोबार के आरोप में गिरफ्तार किया था। आरोपी शोभा का भी ड्रग्स का पूरा नेटवर्क था।

Show More
Yogendra Yogi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned