इन उद्यमियों ने लाखों का घाटा खाकर दी देशभक्ति की आहूति

(Jharkhand News ) देश में ऐसे भी उद्योगपति हैं जो देश पर आई (Lesson to China ) विपत्ति के लिए स्वाभिमान की रक्षा करने के (Hotelier get losses for countary ) लिए लाखों-करोड़ों का घाटा उठा सकते हैं। ऐसे ही उद्योगपति हैं जमशेदपुर के हरजीत सिंह रॉकी और हरपिंदर सिंह रॉकी। गलवान घाटी में चीन के हमले शहीद हुए सैनिकों को श्रद्धांजलि बतौर इन उद्यमियों ने चीन से हुए एक करार को निरस्त कर दिया।

By: Yogendra Yogi

Updated: 30 Jun 2020, 07:50 PM IST

जमशेदपुर (झारखंड): (Jharkhand News ) देश में ऐसे भी उद्योगपति हैं जो देश पर आई (Lesson to China ) विपत्ति के लिए स्वाभिमान की रक्षा करने के (Hotelier get losses for countary ) लिए लाखों-करोड़ों का घाटा उठा सकते हैं। ऐसे ही उद्योगपति हैं जमशेदपुर के हरजीत सिंह रॉकी और हरपिंदर सिंह रॉकी। गलवान घाटी में चीन के हमले शहीद हुए सैनिकों को श्रद्धांजलि बतौर इन उद्यमियों ने चीन से हुए एक करार को निरस्त कर दिया। इसमेें इन्हें 70 लाख रुपए से अधिक का घाटा खाना पड़ा। चीन को सबक सिखाने के लिए यह निर्णय लिया गया। इस घाटे की परवाह किए बगैर दोनों उद्यमियों ने देशहित को सर्वोच्च प्राथमिकता पर रखा और घाटा खाना मंजूर कर लिया।

कैट के आह्वान पर लिया निर्णय
इन उद्यमियों ने देशहित में यह निर्णय कॉन्फेडेरशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के चीनी उत्पादों के बहिष्कार अभियान 'भारतीय समाज-हमारा अभिमान' के समर्थन में किया है। हरजीत सिंह रॉकी और हरपिंदर सिंह रॉकी ने अपने पांच सितारा होटल के लिए चीन की कंपनी से हुए अपने पांच करोड़ रुपये के करार के तहत 70 लाख रुपए अग्रिम भुगतान कर दिया था। गलवान घाटी में चीन की नापाक हरकत से दोनों उद्यमी काफी आहत हुए। चीन को सबक सिखाने के देश भर में चल रहे चीनी सामानों के और कांट्रेक्टस के बहिष्कार अभियान में दोनों ने अपना फर्ज निभाने की ठान ली।

चीन को दिया ऑर्डर निरस्त
पांच सितारा होटल की साज-सज्जा और सौन्दर्यकरण के ऑर्डर का सारा सामान चीन में बनकर तैयार हो गया। उन्हें व्हाट्सएप पर हर दिन मैसेज आ रहे हैं, लेकिन उन्होंने कह दिया है कि हमारा ऑर्डर कैंसल कर दिया जाये। उन्होंने तय किया है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लोकल-वोकल मंत्र को आत्मसात करते हुए भारत के सामानों से ही अपने होटल की सजावट करेंगे। हालांकि देश से लिए जाना वाला सामान चीन की तुलना में महंगा अवश्य होगा पर देशहित के सामने इसके कोई मायने नहीं है।

देशहित सर्वोपरि
देशहित को सर्वोपरि रखते हुए आदित्यपुर सेकेंड फेज में बन रहे सूरज हॉस्पिटैलिटी प्राइवेट लिमिटेड पांच सितारा होटल के मालिक हरजीत और हरपिंदर ने चीन की कंपनी को दिये अपने सारे ऑर्डर निरस्त कर दिए। चीन के उत्पाद से होटल के 72 कमरों का फर्नीचर लगाया जाना था। इसके अलावा स्पा-सैलून, बैंक्वेट हॉल, स्वीमिंग पूल, ओपन लॉन, बार-रेस्टोरेंट, रूफ टॉप पार्टी के लोकेशन के सजावट का सामान भी चीन से आना था। उन्होंने कहा कि देश हित में वे अपना नुकसान सहने को तैयार हैं। एलएसी पर तनाव और इंडियन आर्मी के 20 जवानों की शहादत के बाद फैसला लिया कि अपने होटल के लिए वे चीन से माल नहीं मंगवायेंगे।

Show More
Yogendra Yogi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned