'किसी भी राजनीतिक पार्टी को घोषणा पत्र निर्धारण से पहले आमजन से रायशुमारी जरुरी'

'किसी भी राजनीतिक पार्टी को घोषणा पत्र निर्धारण से पहले आमजन से रायशुमारी जरुरी'

Shiv Singh | Publish: Sep, 16 2018 04:43:23 PM (IST) Janjgir, Chhattisgarh, India

- आम आदमी पार्टी के विधानसभा प्रत्याशी संजय शर्मा ने प्रमुखता से गांवों को आपस में जोडऩे का मुद्दा उठाया

जांजगीर-चांपा. पत्रिका समूह के जन सरोकार से जुड़े चेंजमेकर अभियान के तहत जिला मुख्यालय जांजगीर में जांजगीर-चांपा विधानसभा क्षेत्र के लिए जन एजेंडा को लेकर बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में उपस्थित लोगों ने जनता से जुड़े विभिन्न मुद्दों को सामने रखा और आगामी चुनाव में क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों से इन मुद्दों के बारे में जानकारी लेते हुए इस दिशा में उनसे प्रयास का आग्रह करने की बात कही।

इस अवसर पर आम आदमी पार्टी के विधानसभा प्रत्याशी संजय शर्मा, मनोज कश्यप, भरतलाल यादव, राजमणी कश्यप, मयंक, राहुल कश्यप, राजकुमार यादव, लोकनाथ आदिले, कृष्णा साहू, प्रखर शर्मा संजय यादव उपस्थित रहे। जन एजेंडा में शामिल हुए सभी लोगों का मानना रहा कि किसी भी राजनीतिक पार्टी को घोषणा पत्र निर्धारण से पहले आमजन से रायशुमारी जरुरी है। पार्टी कार्यालय में बैठकर घोषणा पत्र बनाने की प्रथा बंद होनी चाहिए।

Read More : Video - प्रेमी ने प्रेमिका का बनाया अश्लील वीडियो, फिर कर दिया वायरल, तीन को जेल

आम आदमी पार्टी के विधानसभा प्रत्याशी संजय शर्मा ने प्रमुखता से गांवों को आपस में जोडऩे का मुद्दा उठाया। उनका कहना रहा कि कई गांव ऐसे हैं, जिनके बीच की दूरी दो या तीन किलोमीटर है, लेकिन पहुंच मार्ग के अभाव में उन्हें 10 किलोमीटर से अधिक दूरी तय करनी पड़ती है। कुछ इसी तरह गांवों को मुख्य मार्ग से जोडऩेे की दिशा में भी प्रयास की आवश्यकता बताई।

इसी तरह आमजन को स्वच्छ पेयजल की उपलब्धता पर ठोस पहल की आवश्यकता बताई। स्थानीय स्तर के निर्णय ग्राम सभा व निकायों के माध्यम से होते हैं, लेकिन इन पर अमल नहीं हो पा रहा, इसे भी जरुरी बताया। बिजली उत्पादक होने के बाद भी राज्य में लोगों को भारी भरकम बिजली का बिल पटाना पड़ रहा और अधिकांश समय बिजली गुल की समस्या बनी हुई है, जिसे भी मुख्य मुद्दा बताया। एक अन्य एजेंडा पर चर्चा करते हुए बताया गया कि हर आदमी को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा मिले, इसके लिए कार्य योजना की जरुरत है, जिससे बदहाल व्यवस्था पर लगाम लगाई जा सके।

शिक्षा को लेकर भी कई सुझाव मिले, जिसमें सभी सरकारी स्कूलों में पर्याप्त शिक्षकों के साथ समुचित सुविधाओं की बात हुई। इसी तरह शिक्षा को रोजगारमूलक होने की बात भी सामने आई। रोजगार सहित नगर व गांंवों की सड़कें, नाली, किसानों को समय पर खाद-बीज की उपलब्धता, धान खरीदी की व्यवस्था में सुधार, पब्लिक ट्रांसपोर्ट का विस्तारए बैंकिंग क्षेत्र का विस्तार, महंगाई में कमी जैसे मामलों पर भी चर्चा की गई और सभी ने अपने सुझाव दिए।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned