बेलटुकरी के चार घरों में वन विभाग की दबिश, लाखों रुपए की लकड़ी जब्त

Forest Department: जिले की वन विभाग की टीम ने रविवार को चिन्हित चार घरो में छापामार कार्यवाही की है। इसमें लाखों रुपए की लकड़ी व गोला जब्त किए जाने की जानकारी मिली है।

By: Vasudev Yadav

Published: 10 May 2020, 05:04 PM IST

जांजगीर-चांपाा. वन विभाग को बहुत पहले से ही जिले के सबसे बड़े वनपरिक्षेत्र बलौदा के पंतोरा सर्किल में बेलटुकरी आरएफ क्रमांक 72 बेल्ट जंगल मे वनोपज इमारती लकडिय़ों की अवैध कटाई की सूचना मिल रही थी। इसी कड़ी में आज वन विभाग जांजगीर-चांपा की टीम ने बेलटुकरी के ग्रामीणों के यहां दबिश दी। उनके यहां से भारी मात्रा में अवैध रूप से लकड़ी काट कर रखे मिले, उसमें बहुत से लकड़ी का अपने घर बनाने में चौखट, दरवाजे, खिड़की, बनाकर निर्माण किया जा रहा था।

बेलटुकरी के मनबोध राम, हेमनारायण पिता बुंदराम यादव, गोपाल बिंझवार पिता जयराम बिंझवार और दाऊ राम पिता छोटू राम यादव पहारिपारा, नाकापारा बेलटुकरी के यहां दबिश दिए, जहां से भारी मात्रा में सागौन, शाल, बीजा सहित अन्य इमारती लकडिय़ों के गोला कड़ी, मयार और चिरान बरामद कर जब्त की गई।

इन सभी के ऊपर 1927 वन अधिनियम के तहत कार्यवाही की गई है। जब्त किए गए लकड़ी कीमतों का आंकलन नही हो पाया है, किंतु लकड़ी की कीमत लाखों में होने की बात कही जा रही है। कार्यवाही में टीम प्रभारी अशोक कुमार मिश्रा, टेकराज सिंह, मोहनलाल पाटले और एक महिला आरक्षक मौजूद थी।
Read More: क्वारेंटाइन सेंटर में ड्यूटी से अनुपस्थित प्रभारी प्राचार्य सहित छह कर्मियों को कारण बताओ नोटिस

लकड़ी मिलती है पर आरोपी नही
चूंकि बलौदा क्षेत्र के जंगल मे लकड़ी तस्करों द्वारा मनमाने तरीके से जंगल की लकडिय़ों को काटकर परिवहन किया जा रहा था। कुछ दिनों पूर्व ही बेलटुकरी से छह नग सरई लकड़ी के गोले का अवैध परिवहन करते पाया गया। उस समय आरोपी पकड़ से भाग गए जिनकी पहचान नही हो सकी थी। इसके दो दिन बाद ही वहीं के एक तालाब से फिर से 6 नग सरई लकड़ी के गोले बरामद किया गया यह किसने छिपाया था इसका भी पता नही लगा। लगातार जंगल से लॉकडाउन का फायदा उठा कर कुछ लोग वनों की अंधाधुंध कटाई कर लकड़ी की तस्करी कर रहे हैं।

सुरक्षा कर्मी होते हुए भी साफ हो रहा जंगल
बलौदा जिले का बहुत बड़ा वनपरिक्षेत्र है जो चार सर्किलों में 29 बीटों में बटा हुआ है जिसमे कटरा और पंतोरा वनक्षेत्र में ही जंगल बचे हैं। उसे भी आसपास के ग्रामीणों और अधिकारियों के संरक्षण से लकडिय़ों की अवैध कटाई कर बिक्री कर रहे है। किसी प्रकार से कोई कार्यवाही नही होने से पूरा जंगल साफ होता जा रहा है और लकड़ी माफियाओं के हौसले भी बुलन्द हैं। बेलटुकरी में बरामद पहले लकड़ी गोले के आरोपियों का आज तक पता नही चला। इतने बड़े लकड़ी के गोलों को ग्रामीणों ने अकेले तो नही किया होगा भारी भरकम गोलो को लाने ले जाने में बहुत से लोग और वाहन का उपयोग हुआ है जबकि सभी जगहों पर बीटगार्ड और वन क्षेत्रपाल की ड्यूटी के बावजूद लकड़ी की कटाई नही रुक रही है।

ग्रामीणों में रही चर्चा
छापामारी टीम कार्रवाई के दौरान शराब के नशे में धुत्त होने की चर्चा जोरों पर रही। वहीं कार्रवाई को राजनीति से प्रेरित बताया जा रहा है। क्योंकि इसके पूर्व भी एक ऐसी ही कार्रवाई हुई थी हालांकि विभाग का इससे कोई लेना देना नहीं क्योंकि मौके पर लकड़ी और आरोपी दोनों का मिलना इस बात को पुष्ट करता है। किंतु बलौदा रेंज के अधिकारी की क्रिया कलाप से छोटे-मोटे और बड़े तस्कर फल फूल रहें है।

Vasudev Yadav Desk
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned