VIDEO- भाजपा नेता लीलाधर के ठिकानों पर दूसरे दिन भी इंकम टैक्स की जारी रही कार्रवाई

Vasudev Yadav

Publish: Feb, 15 2018 09:09:56 PM (IST)

Janjgir-Champa, Chhattisgarh, India

जांजगीर-चांपा. इंकम टैक्स रायपुरबिलासपुर की छह सदस्यीय टीम ने बुधवार की दोपहर दो बजे भाजपा के पूर्व जिला अध्यक्ष लीलाधर सुल्तानिया के बनारी स्थित राइस मिल सहित आधा दर्जन ठिकानों में छापेमारी कर आय से जुड़े दस्तावेजों की जांच पड़ताल की है। हालांकि आयकर अफसरों ने जांच को पूरी तरह गोपनीय रखा है। यह कार्रवाई दूसरे दिन भी जारी रही।

टीम ने भाजपा नेता व उनके घार के सदस्यों सहित अन्य कर्मचारियोंए सिक्योरिटी गार्डों के मोबाइल फोन जप्त कर पूरे पावर प्लांट एरिया को पूरी तरह से सील कर दिया। इसके साथ ही उन्होंने वहां मौजूद आय व्यय व चल अचल संपत्ति से जुड़ी फाइलों की जांच शुरू की। इस दौरान ना ही किसी को आने दिया जा रहा है और ना जाने दिया गया। अगले दिन गुरुवार को जब भाजपा नेता के कुछ अपने परिचित लोग बनारी स्थित और पॉवर प्लांट पहुंचे तो इनकम टैक्स की टीम ने उन्हें अंदर तो आने दिया, लेकिन उनके कार्यालय के बाहर ही मिलने व बात करने का मौका दिया गया। अंदर टीम की कार्रवाई निरंतर जारी रही। भाजपा नेता व बिजनेसमैन ने अब तक कितनी आयकर की चोरी की है इस बात का खुलासा नहीं हो पाया। बताया जा रहा है कि वहां टीम को अरबों की चल अचल संपत्ति के दस्तावेज मिले हैं।

Read More : Breaking : महानदी बैराज की तरफ वाहन धोने ले जा रहा था ड्राइवर, सामने से आ रहे ट्रेलर ने मारी ठोकर, दो घायल

VIDEO- भाजपा नेता लीलाधर के ठिकानों पर दूसरे दिन भी इंकम टैक्स की जारी रही कार्रवाई

भाजपा के कद्दावर नेता व पूर्व जिला अध्यक्ष एवं प्रदेश कार्य समिति के सदस्य लीलाधर सुल्तानिया एवं भाजयुमो के प्रदेश महामंत्री अमर सुल्तानियां के श्याम एग्रो राइस मिलए चांपा के कोल्ड स्टोरेजए नेताजी चौक स्थित आलीशान कार्यालय सहित अन्य ठिकानों में रायपुर व बिलासपुर के आयकर की टीम के एक दर्जन अफसरों ने एक साथ छापेमारी की। आयकर अफसर सभी ठिकानों में आय से जुड़े दस्तावेजों को लगातार छह घंटे तक खंगाले।

इस संबंध में आयकर के जिला अधिकारी ने बताया कि आयकर रायपुर बिलासपुर की टीम ने छापेमारी की है। एक आयकर अधिकारी ने बातचीत में बताया कि टीम की रूटीन जांच है। उन्हें शिकायत मिली थी कि सुल्तानिया परिवार द्वारा बड़े पैमाने पर टैक्स की चोरी की गई है। जिसके चलते उन्होंने पूरी टीम गठित कर यहां कार्यवाही की और उनके चल अचल संपत्ति से जुड़े दस्तावेजों की जांच कर रहे हैं। जांच के बाद यदि उनके द्वारा टैक्स चोरी करना पाया जाता है तो नियमानुसार कार्रवाई के लिए उच्च अधिकारियों को नोटशीट भेजी जाएगी।

दरअसल वित्तीय वर्ष का अंतिम समय चल रहा है। जिसके चलते बड़े संस्थानों में इस तरह की जांच पड़ताल की जाती है। आय से संबंधित दस्तावेजों की जांच पड़ताल प्रक्रिया के तहत की जा रही है। सूत्रों का कहना है कि यह जांच काफी लंबे समय तक चलेगी। क्योंकि लीलाधर का फर्म बेहद बड़ा है। बड़ा कारोबार होने की वजह से आय से जुड़े दस्तावेजों की पड़ताल में अधिक समय लगेगा। फिलहाल आयकर अफसर लीलाधर के संस्थान में कार्रवाई कर रहे हैं।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned