scriptAfter the fifth day, the IT team returned after completing the investi | पांचवे दिन बाद ९ कारोबारियों के घर जांच पूरी कर लौटी आईटी की टीम | Patrika News

पांचवे दिन बाद ९ कारोबारियों के घर जांच पूरी कर लौटी आईटी की टीम

locationजांजगीर चंपाPublished: Nov 14, 2022 09:46:26 pm

Submitted by:

Ashish Tiwari

आयकर विभाग की रेड की कार्रवाई शानदार पांचवे दिन बाद जांच कर आधी रात को आयकर विभाग की टीम वापस लौट गई। हालांकि इसमें आयकर विभाग ने मीडिया से दूरी बनाई रही, इसीलिए आधी रात को ही बिना कुछ जानकारी दिए टीम लौट गई। हालांकि सूत्रों की मानें तो अरबो रुपए की संपत्ति के दस्तावेज आईटी टीम के हाथ लगने की बात कही जा रही है। इसमें मोबाइल व दस्तावेजों को टीम अपने साथ लेकर चली गई हैं।

पांचवे दिन बाद ९ कारोबारियों के घर जांच पूरी कर लौटी आईटी की टीम
janch karati it ki teem
सक्ती व बाराद्वार में बुधवार की दोपहर अचानक ३० से अधिक गाडिय़ों में आयकर विभाग की टीम ने ९ कारोबारियों के घर दबिश दी। वहीं रेड में आए आईटी के लोग स्थानीय या प्रदेश से नहीं बल्कि दिल्ली से पहुंचे थे। पहली बार अचानक इतनी ज्यादा संख्या में आईटी की टीम रेड की तो शहर में हड़कंप मच गया। शहरवासी सोच ही नहीं पा रहे थे आखिर क्या हो रहा है, कई लोग सोच रहे थे कि अधिकांश सट्टा कारोबारियों के घर टीम पहुंची है, इसलिए सट्टा पर कार्रवाई चल रही होगी। लेकिन शाम को पता चला कि आईटी की आय से ज्यादा संपत्ति होने के मामले में जांच करने पहुंची है। जांजगीर-चांपा व सक्ती जिले के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ की आयकर विभाग की जांच इतनी लंबी चली। लगातार दिन व रात मिलाकर पांच दिन तक ताबड़तोड़ जांच करती रही। हालांकि चौथे दिन पूर्व नपा अध्यक्ष एवं वरिष्ठ कांग्रेसी नेता श्याम सुंदर अग्रवाल सहित मोबाइल दुकान संचालक राहुल अग्रवाल, कपड़ा व्यवसाई अंसुल अग्रवाल व कपड़ा व्यवसाई कमलेश अग्रवाल के घर से भी आईटी के अधिकारी अपनी कार्रवाई खत्म कर दिए थे। बाकी अन्य २ कारोबारियों के घर अब तक जांच सबसे लंबी चली, इसमें ज्वेलरी दुकान संचालक अरुण अग्रवाल और स्टाम्प वेंडर व जमीन कारोबारी जगदीश बंसल शामिल है। सूत्रों की मानें तो अरबो से अधिक संपत्तियों की जानकारी आईटी विभाग के हाथों लगी है। इसमें आईटी की टीम मीडिया से लगातार दूरी बनाई रही। खुलकर कुछ की बात सार्वजनिक नहीं किया गया। अंतिम में पूरी जानकारी देने की बात कही गई थी, लेकिन रविवार की रात आईटी की जांच पूरी कर वापस लौट गई।
आनंद ने आईटी के अधिकारियों को खूब छकाया
बता दें कि विधायक प्रतिनिधि और व्यवसाई आनंद अग्रवाल के घर पर भी आईटी ने दबिश दी। जानकारी लगते ही आनंद अग्रवाल सहित उनके सभी भाई नगर से दूर किसी महफूज स्थान में छुप गए। आईटी के अधिकारी हाथ-पांव मारते रहे लेकिन आनंद अग्रवाल वापस नहीं आए, चूंकि घर मे महिला और बच्चे होने की स्थिति में आईटी के अधिकारी पांच दिनों तक आनंद अग्रवाल और उनके भाइयों के आने की राह देखते रहे और आखिरकार थक हार कर आईटी के अधिकारियों को खाली हाथ लौटना पड़ा।
----------
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.