राजकीय सम्मान के साथ हुई अजय की अंतिम विदाई, पार्थिव शरीर पैतृक गांव पहुंचते ही दर्शन के लिए टूट पड़े लोग

राजकीय सम्मान के साथ हुई अजय की अंतिम विदाई, पार्थिव शरीर पैतृक गांव पहुंचते ही दर्शन के लिए टूट पड़े लोग
राजकीय सम्मान के साथ हुई अजय की अंतिम विदाई, पार्थिव शरीर पैतृक गांव पहुंचते ही दर्शन के लिए टूट पड़े लोग

Vasudev Yadav | Updated: 09 Oct 2019, 08:03:40 PM (IST) Janjgir Champa, Janjgir Champa, Chhattisgarh, India

पोखरण युद्धाभ्यास में जाते वक्त रेलगाड़ी में हाईटेंशन तार की चपेट में आने से हुई मौत, मिलिट्री अस्पताल में इलाज के दौरान 7 अक्टूबर को तोड़ा दम

जांजगीर-चांपा. पोखरण युद्धाभ्यास में जाने की तैयारी करते वक्त जवान सेना के टैंक को कव्हर करते हुए हाईटेंशन तार की चपेट में आ गया। जिससे बुरी तरह से झुलस गया। तत्काल उसे मिलिट्री अस्पताल दिल्ली में भर्ती कराया गया था। जहां पखवाड़े भर बाद इलाज के दौरान जवान ने दम तोड़ दिया। मंगलवार की रात तिरंगा में लिपटे हुए पार्थिव शरीर पैतृक गांव बुड़ेना लाया गया। बुधवार को सुबह राजकीय सम्मान से अंतिम संस्कार किया गया। इस दौरान ग्रामीणों ने जवान को नम आंखों से विदाई दी।
मेरठ रेजिमेंट में जीडी आरक्षक के पद पर आरक्षक अजय यादव पिता भोजराम यादव पदस्थ था। २६ सितंबर को मेरठ से राजस्थान पोखरण युद्धाभ्यास में जाने की तैयारी चल रही थी। इस दौरान ट्रेन के हथियार को भर रहे थे। इसके बाद इसे ऊपर से नीचे तक कव्हर किया जा रहा है। इसी दौरान कव्हर करते समय अजय ट्रेन के हाईटेंशन तार के संपर्क में आ गया। जिससे वह बुरी तरह से झुलस गया। तत्काल जवान अजय को मिलिट्री अस्पताल दिल्ली ले जाया गया। जहां जवान का इलाज चल रहा था। आखिरकार 7 अक्टूबर को जवान जिंदगी की जंग हार गया। डाक्टरों ने अजय को मृत घोषित कर दिया। ८ अक्टूबर को अजय का शव को उसके पैतृक गांव बुड़ेना लायाा गया। तिरंगा से लिपटे हुए शव रात ९ बजे उसके घर पहुंचा। जहां रात भर दर्शन के लिए रखा हुआ था। बुधवार की सुबह राजकीय सम्मान के साथ अजय यादव का अंतिम संस्कार किया गया। इस अवसर पर एएसपी मधुलिका सिंह, एसडीओपी जितेन्द्र चंद्राकर, तहसीलदार संजय मिंज, थाना प्रभारी विवेक पांडेय सहित अन्य उपस्थित रहे। ज्ञात हो कि अजय यादव का सेना में भर्ती जुलाई 2016 में हुआ था। पहले दो साल वह जम्मू काश्मीर में तैनात था। उसके बाद मेरठ रेजिमेंट में जीडी आरक्षक के पद पर पदस्थ था।

READ MORE : पुलिस विभाग में आज पूजा-पाठ के बाद हुई काम की शुरुआत, जंग खाते शस्त्रों को किया गया साफ, ये है परंपरा...
तीन भाई में सबसे छोटा था अजय
अजय यादव का परिवार बुड़ेना के सामान्य परिवार से है। तीन भाई में सबसे छोटा था। अभी अजय का शादी भी नहीं हो पाया था। जवान लड़का का शव देखकर मां पर पहाड़ का दुख टूट पड़ा है।

READ MORE : देवी दर्शन करने जा रहे बाइक चालक को ट्रक चालक ने मारी ठोकर, दो की मौत, एक की हालत गंभीर
परिवार के एक सदस्य को नौकरी देने की मांग
अजय यादव के परिजनों ने राज्य सरकार से परिवार के एक सदस्य का सरकारी नौकरी देने की मांग की है। इसके अलावा ज्यादा से ज्यादा युवा गांव से सेना में भर्ती हो कहकर सरपंच व ग्रामीणों ने प्रोत्साहित के लिए एक खेल मैदान व जिम की मांग भी की है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned