scriptAppointment of teacher in Pachri school did not happen even after prot | धरना प्रदर्शन के बाद भी नहीं हुई पचरी स्कूल में शिक्षक की नियुक्ति | Patrika News

धरना प्रदर्शन के बाद भी नहीं हुई पचरी स्कूल में शिक्षक की नियुक्ति

अकलतरा विकासखंड के ग्राम पचरी के प्राथमिक शाला में शिक्षकों की कमी को लेकर ग्रामीणों द्वारा तालाबंदी के बाद भी शिक्षकों की पदस्थापना नहीं हो पाई है। इसके चलते स्कूल अब भी एकल शिक्षकीय है। हालांकि बीईओ ने इसकी रिपोर्ट डीईओ सौंप दी है।

जांजगीर चंपा

Updated: April 30, 2022 09:04:13 pm

लेकिन अब भी शिक्षकों की नियुक्ति नहीं होने से परीक्षा का कार्य सहित अन्य गतिविधि अब भी प्रभावित है। बीईओ का कहना है कि अब तो स्कूल बंद हो गया। १६ जून से किसी तरह व्यवस्था करेंगे। जिसे लेकर अभिभावकों में गतिरोध बरकरार है। आपको बता दें कि पचरी स्कूल एकल शिक्षकीय है। स्कूल में विद्यार्थियों की दर्ज संख्या 48 बताई जा रही है और 48 की दर्ज संख्या पर प्रधान पाठक सहित तीन शिक्षक होने चाहिए, लेकिन इस स्कूल के प्रधान पाठक तीन सालों से लकवाग्रस्त है। जिसके कारण यहां एकमात्र महिला शिक्षिका स्कूल संभालने में असमर्थ है। आदिवासी बाहुल्य इस गांव में एकमात्र शिक्षिका कांति डहरिया जब कभी अवकाश पर जाती है तो स्कूल में ताला लगाने की नौबत आ जाती हैं। पिछले दिनों ऐसा ही हुआ था जब ग्रामीणों ने बीआरसी शैलेंद्र सिंह को काल करके स्कूल बंद होने की शिकायत की थी और उन्होंने निरीक्षण में आकर इसकी रिपोर्ट बीईओ अकलतरा को सौपी थी। पिछले तीन सालों से पचरी स्कूल की पढ़ाई शिक्षकों के अभाव में ठप है। हालांकि रिकार्ड में एक और भी शिक्षक पदस्थ है लेकिन वह लकवाग्रस्त है। इधर, अभिभावक बच्चों के भविष्य को देखते हुए पचरी स्कूल में शिक्षक की मांग को लेकर ग्रामीण अड़े हुए हैं। इस बात की जानकारी ग्रामीणों और शिक्षकों द्वारा बीईओ अकलतरा वेंकटरमन पाटले को लगातार दी जा रही है, परंतु उनके द्वारा इस मामले पर लगातार लापरवाही बरती जा रही हैं।
1978 का यह स्कूल भवन भी जर्जर
शिक्षिका कांति डहरिया ने बताया कि यह स्कूल 1978 से संचालित है और इसके बगल में नया भवन बनाया गया है। वह भी खंडहर में तब्दील है। उसके स्थान पर नए भवन की जरूरत है। इसकी पुरानी इमारत को नष्ट किया जाना चाहिए इसके लिए कई बार आवेदन सरपंच को दिया गया है। जर्जर भवन कभी भी गिर भर-भराकर गिर सकता है। पिछली बार स्कूल की छत का प्लास्टर उखकर गिर गया था परंतु स्कूल नहीं लगने के कारण कोई भी अप्रिय घटना नहीं घटी। इसके बाद भी स्थानीय प्रशासन मौन है।
वर्जन
मुझे भी अभी अभी जानकारी मिली है कि प्रधान पाठक लकवाग्रस्त है और स्कूल नहीं आ रहे हैं। मैने उनका एक माह का वेतन रोक दिया है। शिक्षकों की पदस्थापना डीईओ स्तर का कार्य है।
- वेंकटरमन पाटले, बीईओ अकलतरा
-------------
धरना प्रदर्शन के बाद भी नहीं हुई पचरी स्कूल में शिक्षक की नियुक्ति
school parisar me baithe chhatr

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

सीएम Yogi का बड़ा ऐलान, हर परिवार के एक सदस्य को मिलेगी सरकारी नौकरीचंडीमंदिर वेस्टर्न कमांड लाए गए श्योक नदी हादसे में बचे 19 सैनिकआय से अधिक संपत्ति मामले में हरियाणा के पूर्व CM ओमप्रकाश चौटाला को 4 साल की जेल, 50 लाख रुपए जुर्माना31 मई को सत्ता के 8 साल पूरा होने पर पीएम मोदी शिमला में करेंगे रोड शो, किसानों को करेंगे संबोधितराहुल गांधी ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा - 'नेहरू ने लोकतंत्र की जड़ों को किया मजबूत, 8 वर्षों में भाजपा ने किया कमजोर'Renault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चIPL 2022, RR vs RCB Qualifier 2: राजस्थान ने बैंगलोर को 7 विकेट से हराया, दूसरी बार IPL फाइनल में बनाई जगहपूर्व विधायक पीसी जार्ज को बड़ी राहत, हेट स्पीच के मामले में केरल हाईकोर्ट ने इस शर्त पर दी जमानत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.