Video :- कृत्रिम वेटींलेटर मशीन जिला अस्पताल में हुआ इस्टालेंशन, पहले करते थे बिलासपुर रेफर

Vasudev Yadav

Publish: May, 19 2019 02:28:56 PM (IST) | Updated: May, 19 2019 02:28:57 PM (IST)

Janjgir Champa, Janjgir Champa, Chhattisgarh, India

जांजगीर-चांपा. अब जिला अस्पताल में गंभीर मरीजों को जान बचाएगी जा सकेगी। इसके लिए जिला अस्पताल में कृत्रिम वेटींलेटर मशीन पहुंच चुका हैं। रविवार को इस्टालेंशन किया गया। डाक्टरों को इस मशीन के बारे विशेषज्ञ ने बताया। जिले के गंभीर मरीजों को अन्य बड़े शहरों में रेफर नहीं करना पड़ेगा।
अब जिला अस्पताल में लगातार सुविधाओं का इजाफा होता जा रहा हैं। एक-एक करके कई एडवांस मशीनें जिला अस्पताल पहुंच चुकी हैं। जिला अस्पताल में लगातार सुविधा बढ़ाने के लिए कलेक्टर नीरज बनसोड प्रयासरत हैं। यह मशीन भी उन्हीं के प्रयास से जिला अस्पताल आई हैं। जिला अस्पताल में रविवार को कृत्रिम वेटींलेटर मशीन पहुंची। ५ से १० लाख कीमत की वेटींलेटर मशीन को रविवार को इस्टालेंशन कर दिया गया हैं। अब जिला अस्पताल में गंभीर मरीजों की जान आसानी से बचाई जा सकेगी। पहले क्या होता था जब सांप काटने, दिल का दौरा पडऩे या एक्सीडेंट होने के बाद जिला अस्पताल पहुंचे गंभीर मरीजों को आक्सीजन की जरूरत पड़ती थी। जिसको तत्काल बिलासपुर रेफर कर दिया जाता था। लेकिन अब ऐसे मरीजों का जिला अस्पताल में ही इलाज हो सकेगा। कृत्रिम वेटिंलेटर मशीन से ऐसे मरीजों की जान बचाई जा सकेगी। इसका लाभ जिले के मरीजों को अब सोमवार से मिलने लगेगी। इंजीनियर द्वारा जिले के एमडी डा. अनिल जगत को मशीन के बारे में जानकारी दिया गया।

गंभीर मरीजों को नहीं करना पड़ेगा रेफर
डा. अनिल जगत ने बताया कि जिला अस्पताल में सबसे ज्यादा वेंटीलेटर मशीन की जरूरत थी। अब गंभीर मरीजों को रेफर करना नहीं पड़ेगा। डा. जगत ने बताया कि कलेक्टर लगातार जिला अस्पताल में सुविधा पर ध्यान दे रहे हैं। यह मशीन कलेक्टर के माध्यम से जिला अस्पताल को मिला हैं।

हर रोज पहुंचते है चार से पांच मरीज
जिला अस्पताल में पूरे जिले से एक्सीडेंट सहित अन्य केस के गंभीर मरीज चार से पांच हर रोज पहुंचते हैं। ऐसे में उन्हें बिलासपुर रेफर करना पड़ता था। अब वेटिेंलेटर मशीन पहुंच जाने से इसका इलाज जिला अस्पताल में ही होगा। रेफर करने के दौरान कई मरीजों की जान बिलासपुर से पहले रास्ते में ही हो जाती थी। लेकिन अब ऐसा नहीं होगा।

निजी अस्पताल में ८०० से १५०० प्रतिदिन चार्ज
निजी अस्पताल में केवल आईसीयू में रखने के ही ८०० से लेकर १५०० रुपए चार्च लिए जाते है। इसके अलावा डाक्टरों व स्टाफ का इलाज का अलग से चार्ज लगता हैं। जबकि जिला अस्पताल में बीपीएल मरीजों को निशुल्क रहेगा और एपीएल को भी नाममात्र का शुल्क लिया जाएगा।

वर्जन
जिला अस्पताल में अन्य सुविधा बढ़ाने लगातार प्रयास कर रहे हैं। इसमें कलेक्टर का भी पूरा सहयोग मिल रहा हैं। वेटीेंलेटर मशीन का रविवार को इस्टालेंशन कर दिया गया हैं। इसका लाभ सोमवार से मरीजों को मिलने लगेगा। इस मशीन से साल भर में २५ से ३० मरीजोंं की जान बच जाएगी।
डा. अनिल जगत, आरएमओ, जिला अस्पताल

कृत्रिम वेटींलेटर मशीन जिला अस्पताल में हुआ इस्टालेंशन, पहले करते थे बिलासपुर रेफर

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned