भीमा तालाब का किया जा रहा सौंदर्यीकरण, अप्रैल से यहां पहुंचने वाले पर्यटक हवा में उडऩे का उठा सकेंगे लुत्फ, ये भी होगा खास

Bhima Pond: बहुत जल्द ही भीमा तालाब में दिखाई देगा शहरवासियों को गोवा जैसा माहौल, मोटरबोट पहुंचा, मार्च के अंतिम में पहुंच जाएगा पैरासेलिंग

By: Vasudev Yadav

Published: 27 Feb 2020, 08:01 PM IST

जांजगीर-चांपा. ऐतिहासिक विष्णु मंदिर से लगे भीमा तालाब (Bhima Pond) में जल्द शहरवासी सहित बाहर से आए पर्यटक उड़ते हुए दिखाई देंगे। इसके लिए पालिका द्वारा पहल करते हुए पैरासेलिंग खरीदने की योजना बनाई है। मोटरबोट तो पहुंच भी गया है। मार्च के अंतिम माह से ऐतिहासिक भीमा तालाब में पैरासेलिंग (Parasailing) भी पहुंच जाएगा। फिर अप्रैल में शुरू करने की योजना है। पैरासेलिंग (Parasailing) छत्तीसगढ़ में लगने वाला एकमात्र शहर जांजगीर ही होगा। इसके पहले अब तक प्रदेश के किसी भी शहर में पैरासेलिंग नहीं है।

नगरपालिका द्वारा ऐतिहासिक भीमा तालाब (Bhima Pond) का सौंदर्यीकरण किया जा रहा है। सौंदर्यीकरण का काम लगभग अंतिम दौर में है। इसके साथ ही अब जल्द ऐतिहासिक विष्णु देखने आने वाले पर्यटकों व शहरवासियों को गोवा जैसा माहौल दिखाई पड़ेगा। नगरपालिका द्वारा लगभग 15 लाख रुपए खर्च कर मोटरबोट के बाद पैरासेलिंग सहित कई सुविधा का लाभ पर्यटकों व शहरवासियों को मिलेगा।

पैरासेलिंग यानी पहले लोग मोटर बोट में बैठेंगे, फिर ये गुब्बारा के आकर में ऊपर उडऩे लगेगा। गुब्बारा के ठीक नीचे लोग रहेंगे। यह सुविधा अप्रैल से शुरू करने की इंतजाम त्वरित गति से हो रहा है। पैरासेलिंग चलाने के प्रशिक्षण के लिए नपा द्वारा अरविंद राठौर को इसी सप्ताह गोवा भेजा जा रहा है। गोवा से प्रशिक्षण प्राप्त कर यहां पैरासेलिंग चलाने का काम किया जाएगा।

नपा शुरूआत में इसे टेस्टिंग के तौर पर शुरू करेगी। इसके अलावा इसे निजी हाथो में सौंपेगी। टेंडर की प्रक्रिया होगी। इसके लिए पीआईसी में शुल्क निर्धारित की जाएगी। पैरासेलिंग (Parasailing) शुल्क लगभग कपल का 2500 रुपए तो सिंगल का 1500 रुपए रखने की बात कही जा रही है। इतना ही नहीं तालाब में वाटर स्कूटर दौड़ाने की भी योजना है। नगरपालिका ने पर्यटकों व शहरवासियों को सुविधा देने के लिए भीमा तालाब की चारों ओर वाटर स्कूटर (जेट स्की) की भी सुविध देने जा रही है।

अब नहीं होगा मछली पालन
भीमा तालाब को पर्यटन के लिए नपा द्वारा तैयार किया जा रहा है। पहले चारों ओर सौंदर्यीकरण किया गया। पर्याप्त मात्रा में पानी भरा गया। इसमें मछली पालन किया जाता है। इससे पानी गंदा हो जाता था। लेकिन अब इसमें मछली पालन पर रोक लगा दी गई है। इसके लिए नपा पीआईसी में प्रस्ताव पास भी हो चुका है। अब भीमा पर्यटन के रूप में पूर्ण रूप से तैयार हो गया है।

-भीमा तालाब (Bhima Pond) को सौंदर्यीरण के बाद पर्यटन के रूप में तैयार किया जाएगा। इसके लिए पैरासेलिंग (Parasailing), जेट स्की के अलावा मोटरबोट की सुविधा रहेगी। अप्रैल माह में शुरू करने की योजना है। इससे पर्यटक सहित शहरवासियों को लाभ मिलेगा। मनोज सिंह, सीएमओ नपा

Vasudev Yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned