लगातार घट रहे उपभोक्ता इसलिए लोगों को लुभाने बीएसएनएल लाया नया स्कीम, जानें क्या है खास...

- अगर आपका ईमेल व मोबाइल नंबर रजिस्टर्ड नहीं है तो इसके लिए आपको एक फार्म भरना होगा।

जांजगीर-चांपा. बीएसएनएल के ग्राहकों को अब लैंडलाइन और मोबाइल के बिल इंटरनेट के माध्यम से ई-मेल पर मिलेंगे। जिन्हें ऑनलाइन जमा करने पर 10 रुपए की छूट भी मिलेगी। यह नई व्यवस्था इसी माह में लागू होने जा रही है, जिन उपभोक्ताओं ने अपना मोबाइल नंबर या ई-मेल आईडी बीएसएनएल में रजिस्टर करवा रखा है उन्हें एसएमएस में बिल की कॉपी को इंटरनेट से डाउनलोड करने के लिए लिंक दिया जाएगा।

इसी तरह से ग्राहकों के रजिस्टर्ड ई-मेल पर बिल की पीडीएफ फाइल प्रेषित की जाएगी। जिन उपभोक्ताओं ने अपना मोबाइल नंबर या ई-मेल अभी तक रजिस्टर्ड नहीं किया है या उसमें किसी तरह का कोई परिवर्तन है तो वे बीएसएनएल के किसी भी उपभोक्ता केंद्र में जाकर अपना मोबाइल नंबर या ई-मेल रजिस्टर करवा लें।

उपभोक्ता अपना रजिस्ट्रेशन वेबसाइट सेल्फ केयर पोर्टल सेल्फ केयर डाट बीएसएनएल डाट को डाट इन पर जाकर भी कर सकते हैं। यदि उपभोक्ता गो-ग्रीन ऑप्शन सलेक्ट करते हैं तो बिल में 10 रुपए का फायदा होगा। यह फायदा आगामी 10 माह के बिलों में अधिकतम 100 रुपए तक दिया जाएगा यानि अलग-अलग 10 बिलों में 10-10 रुपए के हिसाब से 100 रुपए तक फायदा होगा। उपरोक्त व्यवस्था से बीएसएनएल उपभोक्ताओं को बिना पेपर के बिल हर महीने तुरंत मिल सकेंगे।

Read More : चार बार एक्सटेंशन के बाद भी पांच साल से अधूरा दो आरओबी

रजिस्ट्रेशन के लिए भरना होगा एक फार्म
अगर आपका ईमेल व मोबाइल नंबर रजिस्टर्ड नहीं है तो इसके लिए आपको एक फार्म भरना होगा। इसके लिए नजदीकी बीएसएनएल सेवा केन्द्र जाना होगा। जहां एक छोटा सा फार्म भरना होगा। इसके बाद आपको आनलाइन बिल जमा करने पर हर बिल में १० रुपए की छूट मिलेगी। मंडल अभियंता जांजगीर संजय अग्रवाल ने बताया कि अप्रैल महीने से यह स्कीम लागू होगी। ऑनलाइन बिल पटाने पर १० रुपए की छूट मिलेगी। इसके लिए विभाग में उपभोक्ता का रजिस्ट्रेशन होना जरूरी होगा।

जिले में डेढ़ हजार उपभोक्ता
बीएसएनएल में चार साल पहले पोस्ट पेड के लिए लाइट लगकर उपभोक्ता को नंबर लेना पड़ता था। इसके बावजूद भी बीएसएनएल का नंबर नहीं मिल पाता था। बीएसएनएल के जिले में २० से ३० हजार उपभोक्ता चार से पांच साल पहले ही थे। लेकिन अब हालत जस्ट उल्टा हो गया है। निजी कंपनियों के सस्ता होने से लोग लैंडलाइन लगाने में रूचि नहीं ले रहे है। जिससे लगातार ग्राहकों में कमी आ रही है। अब जिले में मात्र डेढ़ हजार व मुख्यालय में ४०० उपभोक्ता ही बीएसएनएल के बचे है। जो अधिकांश निजी व सरकारी दफ्तर के है।

Vasudev Yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned