CG Assembly Elections 2018 : जिले से चार विधानसभा सीट में नए चेहरे बने विधायक, पामगढ़ विधानसभा माना जाता था बसपा का गढ़

CG Assembly Elections 2018 : जिले से चार विधानसभा सीट में नए चेहरे बने विधायक, पामगढ़ विधानसभा माना जाता था बसपा का गढ़

Shiv Singh | Publish: Sep, 06 2018 01:03:28 PM (IST) | Updated: Sep, 07 2018 12:49:39 PM (IST) Janjgir-Champa, Chhattisgarh, India

- अकलतरा से कांग्रेस के उम्मीदवार चुन्नीलाल साहू ने यह सीट बसपा के हाथों से छीनी

जांजगीर-चांपा. जिले में छह विधानसभाओं की बात की जाए तो यहां चार ऐसे विधायक हैं जो कि पहली बार चुनाव जीतकर विधायक बने हैं। इनमें अकलतरा विधानसभा से कांग्रेस उम्मीदवार चुन्नीलाल साहू, पामगढ़ विधानसभा से भाजपा उम्मीदवार अंबेश जांगड़े, सक्ती से भाजपा उम्मीदवार डॉ. खिलावन साहू और जैजैपुर विधानसभा से बसपा के उम्मीदवार केशव चंद्रा विधायक बने हैं।
अकलतरा विधानसभा - चुन्नीलाल साहू
अकलतरा से कांग्रेस के उम्मीदवार चुन्नीलाल साहू ने यह सीट बसपा के हांथों से छीनी। २०१३ में उम्मीदवार घोषित होने के बाद उन्होंने २२६०० वोटों से जीत दर्ज की थी। उनके पिछले लगभग पांच सालों के कार्यकाल की बात करें तो वह काफी अच्छा है, लेकिन अकलतरा क्षेत्र के लोगों का आरोप है कि वह मात्र बलौदा क्षेत्र पर ही ध्यान देते रहे, लेकिन साहू का कहना है कि बलौदा सहित अकलतरा के विकास कार्य के लिए हमेशा आगे रहे है और शासन तक इसके लिए मांग भी की है। हालांकि पार्टी के बड़े नेता पिछली बार बड़े अंतर से चुनाव जीतने व युवा चेहरा होने से इस बार भी इन्हीं को बेहतर विकल्प मान रहे हैं।
पामगढ़ विधानसभा - अंबेश जांगड़े
यह विधानसभा काफी महत्वपूर्ण इसलिए है क्योंकि यह बसपा का गढ़ माना जाता था और बसपा का उदय भी यहीं से हुआ। वर्तमान भाजपा विधायक अंबेश जांगड़े की सबसे बड़ी उपलब्धि यही रही कि उन्होंने पहली बार यहां जीत दर्ज कर भाजपा का परचम लहराया। इससे यह मुख्यमंत्री के खास चेहरों में एक हैं। लेकिन जमीनी हकीकत देखी जाए तो इनके ऊपर भाजपा के कुछ खास चेहरों से घिरे होने का आरोप है। इतना ही नहीं यह संसदीय सचिव जैसे बड़े पद के मिलने के बाद भी क्षेत्र में अधिक विकास नहीं कर पाए। यहां तक की इनकी अपनी ग्राम पंचायत मेहंदी में आज भी सड़क नाली पानी की परेशानी है, जिससे लोगों में कुछ नाराजगी है। पार्टी के प्रमुखों की माने तो अंबेश एक युवा चेहरा है और पहली बार भाजपा को पामगढ़ विधानसभा में जीत दिलाई है।

सक्ती विधानसभा - डॉ. खिलावन साहू
डॉ. खिलावन साहू निम्म मध्यम वर्ग परिवार से थे और उन्हें भाजपा ने पहली बार चुनाव में २०१३ के चुनाव में उतारा और इन्होंने जीत भी दिलाई। लेकिन जीत मिलने के बाद से डॉ. साहू क्षेत्र के विकास व लोगों तक कम ही पहुंच बना पाएं है। रही बात अन्य चेहरों की तो यहां से कई बड़े नाम और भी हैं जो कि टिकट की दावेदारी कर रहे हैं।
जैजैपुर विधानसभा - केशव चंद्रा
जैजैपुर विधानसभा की बात की जाए तो यहां से पहली बार बसपा को जीत दर्ज कराने वाले विधायक की पार्टी में काफी अच्छी छवि है। इसलिए बसपा से इनका टिकट तय है। रही बात क्षेत्र की उपलब्धियों की तो नशामुक्ति को लेकर बड़ा अभियान चलाया गया था, जिससे इनकी प्रदेश स्तर पर सराहना हुई थी।

Ad Block is Banned