जमीन रजिस्ट्री: अब 5 फीसदी स्टाम्प शुल्क देने पर मिलेगा ई-अपॉइंटमेंट

इसके चलते सही लोगों को मौका नहीं मिल पाता था। पहले यह राशि 100 रुपए तक थी। अब अपॉइंटमेंट पोर्टल में यह व्यवस्था की गई है कि विक्रय पत्र के मामले में पक्षकार द्वारा अपॉइंटमेंट बुक करते समय एक वैध ई-स्टाम्प नंबर, ई-स्टाम्प राशि और प्रतिफल की राशि अनिवार्य रूप से प्रविष्टि करने का प्रावधान किया गया है।

जांजगीर-चांपा. जमीन का पंजीयन करने के लिए पहले से अपॉइंटमेंट लेने की प्रक्रिया में बदलाव किया गया है। बदले गए नियम के तहत प्रापर्टी की कीमत का 5 प्रतिशत स्टाम्प पेपर खरीदने के बाद ही ई-अपॉइंटमेंट मिल पाएगा। पंजीयन कराने के लिए क्रेता-विक्रेता एक ही डाक्यूमेंट के आधार पर एक दिन में दो-तीन अपॉइंटमेंट ले लेते थे और पंजीयन कराने नहीं पहुंचते थे।

इसके चलते सही लोगों को मौका नहीं मिल पाता था। पहले यह राशि 100 रुपए तक थी। अब अपॉइंटमेंट पोर्टल में यह व्यवस्था की गई है कि विक्रय पत्र के मामले में पक्षकार द्वारा अपॉइंटमेंट बुक करते समय एक वैध ई-स्टाम्प नंबर, ई-स्टाम्प राशि और प्रतिफल की राशि अनिवार्य रूप से प्रविष्टि करने का प्रावधान किया गया है।

दो दिन में 1.8 करोड़ रुपए की रजिस्ट्री हो गई, पंजीयन की अवधि डेढ़ घंटे बढ़ाई गई

अब पांच हजार रुपए से कम के ई-स्टाम्प पर अपॉइंटमेंट नहीं देने का प्रावधान किया गया है। जांजगीर उप पंजीयक अमित शुक्ल ने बताया कि ई-स्टाम्प की राशि प्रतिफल की राशि का कम से कम 5 प्रतिशत होने पर अपॉइंटमेंट दिया जा रहा है। पहले कई लोग एक ही दिन ज्यादा अपॉइंटमेंट ले लेते हैं और में कैंसिल कर देते हैं इसीलिए इसमें बदलाव किया गया है।

त्योहार को लेकर उछला प्रॉपर्टी बाजार

कोरोना संक्रमण की मंदी के चलते इस बार नए वित्तीय वर्ष में भी जमीन की खरीदी-बिक्री कम हो रही है। प्रॉपर्टी बाजार को त्योहारी सीजन का अच्छा लाभ मिल रहा है।

ये भी पढ़ें: पुलिस आती है या नहीं सोच, फोन नंबर 112 पर जब बच्चे ने कहा- हो गया है दोस्त का अपहरण

Karunakant Chaubey Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned