scriptEncroachment being done in Nistari pond | निस्तारी तालाब में किया जा रहा अतिक्रमण | Patrika News

निस्तारी तालाब में किया जा रहा अतिक्रमण

नवागढ़ ब्लाक के ग्राम पंचायत मेंहदा में निस्तारी तालाब में अतिक्रमण किए जाने की शिकायत सामने आई है। ग्राम पंचायत के सरपंच द्वारा मनरेगा योजना के तहत १० लाख रुपए की लागत से तालाब गहरीकरण का कार्य किया जा रहा है। जिसमें तालाब के पार में मिट्टी फिलिंग की जा रही है साथ ही तालाब में अतिक्रमण करने का आरोप ग्राम पंचायत पर लगा रहा है।

जांजगीर चंपा

Updated: June 09, 2022 09:09:19 pm

ग्रामीणों ने इस पर आपत्ति की है। ग्रामीणों का आरोप है कि तालाब के पार में अतिक्रमण कर उसमें सामुदायिक भवन बनाने की योजना है। इतना ही नहीं तालाब के पास में स्थित हरे भरे पेड़ को भी काटा गया है। जिससे पर्यावरण का नुकसान हो रहा है।
गौरतलब है कि ग्राम पंचायत मेहदा में इन दिनों मनरेगा का काम चल रहा है। १० लाख रुपए की लागत से तालाब गहरीकरण किया जा रहा है। एक ओर तालाब का गहरीकरण तो हो रहा है लेकिन दूसरी ओर इसकी मिट्टी को पाटकर अतिक्रमण को भी बढ़ावा दिया जा रहा है। बताया जा रहा है कि तालाब के पार में सामुदायिक भवन का निर्माण किया जा रहा है जिससे तालाब का काफी हिस्सा अतिक्रमण की चपेट में आ गया है। जिससे लोगों को कई तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा। इस विषय को लेकर ग्रामीणों ने आपत्ति दर्ज कराई है। ग्रामीणों का कहना है कि मनरेगा के तहत तालाब गहरीकरण में निश्चित ही मजदूरों को रोजगार मिल रहा है यह स्वागतेय है लेकिन तालाब के मेड़ में अतिक्रमण को बढ़ावा क्यों दिया जा रहा है। जो पूरी तरह से गलत है। वहीं ग्राम पंचायत के पदाधिकारियों का कहना है कि तालाब किसी की निजी नहीं है। वहां सामुदायिक भवन निर्माण के लिए मेड़ को चौड़ीकरण किया जा रहा है कि न कि अतिक्रमण किया जा रहा है। वह भी सार्वजनिक कार्य है। निजी कार्य नहीं है।
हरे भरे पेड़ को भी काटा
ग्रामीणों ने बताया कि एक ओर पर्यावरण की रक्षा के लिए हर साल करोड़ों रुपए खर्च कर पौधे लगाए जा रहे हैं तो वहीं ग्राम पंचायत का सरपंच हरे भरे पीपल बरगद के पेड़ों की कटाई कर रहा है। जिससे पर्यावरण को नुकसान हो रहा है। ग्रामीणों ने इसका विरोध किया तो पंचायत पदाधिकारियों ने कहा कि पेड़ काफी बूढ़े हो चुके थे। जिसके चलते बूढ़े पेड़ों की कटाई की गई है।
वर्जन
गांव में मनरेगा योजना के तहत १० लाख रुपए की लागत से तालाब गहरीकरण किया जा रहा है। गांव में सार्वजनिक कार्य हो रहा है। किसी का निजी कार्य नहीं है। पेड़ बूढ़े हो चुके थे। वहीं मेड़ में सामुदायिक भवन बनना है। यहां किसी तरह का अतिक्रमण नहीं हो रहा है।
-शिवशंकर साहू, सचिव ग्राम पंचायत मेहदा
------------------
निस्तारी तालाब में किया जा रहा अतिक्रमण
atikrama talab

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

महाराष्ट्र की राजनीति में बड़ा उलटफेर: एकनाथ शिंदे ने ली मुख्यमंत्री पद की शपथ, देवेंद्र फडणवीस बने डिप्टी सीएमMaharashtra Politics: बीजेपी ने मौका मिलने के बावजूद एकनाथ शिंदे को क्यों बनाया सीएम? फडणवीस को सत्ता से दूर रखने की वजह कहीं ये तो नहीं!भारत के खिलाफ टेस्ट मैच से पहले इंग्लैंड को मिला नया कप्तान, दिग्गज को मिली बड़ी जिम्मेदारीउदयपुर कन्हैयालाल हत्याकांडः कानपुर से आतंकी कनेक्शन, एनआईए की टीम जल्द जा कर करेगी छानबीनAgnipath Scheme: अग्निपथ स्कीम के खिलाफ प्रस्ताव पारित करने वाला पहला राज्य बना पंजाब, कांग्रेस व अकाली दल ने भी किया समर्थनPresidential Election 2022: लालू प्रसाद यादव भी लड़ेंगे राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव! जानिए क्या है पूरा मामलाMumbai News Live Updates: शरद पवार ने किया बड़ा दावा- फडणवीस डिप्टी सीएम बनकर नहीं थे खुश, लेकिन RSS से होने के नाते आदेश मानाUdaipur Murder: आरोपियों को लेकर एनआईए ने किया बड़ा खुलासा, बढ़ी राजस्थान पुलिस की मुश्किल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.