scriptIn summer, everyone's favorite beverage sugarcane juice is hit by infl | गर्मी में सबके पसंदीदा पेय पदार्थ गन्ना रस पर भी महंगाई की मार, मानक व मात्रा तय नहीं | Patrika News

गर्मी में सबके पसंदीदा पेय पदार्थ गन्ना रस पर भी महंगाई की मार, मानक व मात्रा तय नहीं

गर्मी में सबके पसंदीदा पेय पदार्थ गन्ना रस पर भी महंगाई की मार है। प्रति गिलास पिछले साल तक १० रुपए गिलास मिलने वाला गन्ना रस अब २० से २५ रुपए गिलास तक मिल रहा है। इसमें सबसे बड़ी बात यह है कि इसका मानय व मात्रा भी तय नहीं है। इसलिए गन्ना रस के संचालक अपनी मनमर्जी चला रहे है। जिम्मेदार विभाग को इस ओर कोई मतलब नहीं है। जबकि विभाग को बकायदा जाकर इसका सैंपलिंग के अलावा साफ-सफाई का निरीक्षण करना है।

जांजगीर चंपा

Published: April 03, 2022 09:56:15 pm

बढ़ती महंगाई के बीच पेट्रोल-डीजल का दाम लोगों की जेब पर डाका डाल रहा है। अब गर्मी में सबसे ज्यादा पेय पदार्थ गन्ना रस के दाम भी बढ़ गए हैं। गन्ना रस के दाम में 5 से 15 रुपए की बढ़ोतरी हो गई है। 10 रुपए का गन्ना रस दुकानदार 15 से 25 रुपए प्रति गिलास बेच रहे हैं। पिछले दो वर्षों से कोरोना ने गन्ना रस के दुकानदारों को काफी नुकसान पहुंचाया था लेकिन अब लोगों को मीठे गन्ना रस के लिए जेब पहले से ज्यादा हल्की करनी पड़ रही है। गर्मी शुरू होने के साथ ही गन्ना रस की दुकान हर चौक-चौराहे पर खुल गई है। दुकानों में पहली की तरह भीड़ भी उमड़ रही है, लेकिन इस बार दाम पहले से ज्यादा बढ़े हुए हैं, जिले में गन्ना रस दुकान में एक गिलास की कीमत 25 रुपए राहगीर खर्च कर रहे हैं, साल भर पहले गन्ना रस केवल 10 रुपए में मिल जाता था, लेकिन इस बार पूरे शहर में गन्ना रस 15 से 25 रुपए में मिल रहे हैं। जिम्मेदार खाद्य एवं औषधि विभाग जूस व गन्ना रस का क्वालिटी चेक के लिए एक बार भी सैंपल नहीं लिया है। सड़क किनारे लगे ठेले में गन्ना रस से ज्यादा बर्फ व पानी की मात्रा होती है। रेट बढऩे का कारण सीधे तौर अन्य सामानों का रेट बढऩा कह दिया जाता है। जिम्मेदार खाद्य एवं औषधि विभाग की टीम को गुणवत्ता को लेकर कार्रवाई करने की आवश्यकता है, लेकिन उनका ध्यान ही नहीं है। इसका खामियाजा भोले-भाले लोगों को भुगतना पड़ रहा है।
पहले से लागत हुआ ज्यादा
गन्ना रस के दाम बढऩे की वजह पर में दुकानदारों ने बताया कि कोरोना ने दो साल से व्यापार चौपट कर दिया था। पिछले साल भी दुकान लगाने के लिए पूरी तैयारी हो चुकी थी, कुछ ने तो दुकान लगा भी लिया था और गन्ना की खरीद भी कर ली थी, लेकिन मार्च में लॉकडाउन लगने के कारण दुकानदारों को भारी नुकसान उठाना पड़ा। इस बार दुकान लगाने के लिए खर्च पहले से बढ़ गया है। गन्ना के दाम भी पिछले वर्षों से ज्यादा बढ़ गए है। 10 गन्ने के लिए 150-160 रुपए देना पड़ रहा है। एक नींबू 10 रुपए में बिक रहा है। पहले 100 रुपए में 15-17 नींबू मिलते थे।
दाम बढऩे के बावजूद गन्ना रस की डिमांड
दाम बढऩे के बाद भी दुकानों में ग्राहकों की भीड़ नजर आ रही है। गर्मी से निजात पाने के लिए लोग दोपहर में गन्ना रस पी रहे हैं। कचहरी चौक स्थित गन्ना रस संचालक मनोज राठौर ने बताया कि इन दिनों देश में सब कुछ महंगा होता जा रहा है। 10 रुपए में मिलने वाला गन्ना रस के दाम में 10 से 15 रुपए की बढ़ोतरी हो गई है। बिना बर्फ के गन्ना रस का दाम और ज्यादा है।
गर्मी में सबके पसंदीदा पेय पदार्थ गन्ना रस पर भी महंगाई की मार, मानक व मात्रा तय नहीं
gannaras dukan

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Amravati Murder Case: उमेश कोल्हे की हत्या का मास्टरमाइंड नागपुर से गिरफ्तार, अब तक 7 आरोपी दबोचे गए, NIA ने भी दर्ज किया केसमोहम्‍मद जुबैर की जमानत याचिका हुई खारिज,दिल्ली की अदालत ने 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजाSharad Pawar Controversial Post: अभिनेत्री केतकी चितले ने लगाए गंभीर आरोप, कहा- हिरासत के दौरान मेरे सीने पर मारा गया, छेड़खानी की गईIndian of the World: देवेंद्र फडणवीस की पत्नी अमृता फडणवीस को यूके पार्लियामेंट में मिला यह पुरस्कार, पीएम मोदी को सराहाGujarat Covid: गुजरात में 24 घंटे में मिले कोरोना के 580 नए मरीजयूपी के स्कूलों में हर 3 महीने में होगी परीक्षा, देखे क्या है तैयारीराज्यसभा में 31 फीसदी सांसद दागी, 87 फीसदी करोड़पतिकांग्रेस पार्टी ने जेपी नड्डा को BJP नेता द्वारा राहुल गांधी से जुड़ी वीडियो शेयर करने पर लिखी चिट्ठी, कहा - 'मांगे माफी, वरना करेंगे कानूनी कार्रवाई'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.