अब तो इंतेहा हो गई इंतजार की, मिला तो सिर्फ आश्वासन... डेढ दशक की है ये पीड़ा

अब तो इंतेहा हो गई इंतजार की, मिला तो सिर्फ आश्वासन... डेढ दशक की है ये पीड़ा
This is a pain of decade and a half

Piyushkant Chaturvedi | Updated: 13 Jun 2017, 12:01:00 PM (IST) Janjgir-Champa, Chhattisgarh, India

अकलतरा क्षेत्र के किरारी ग्राम के भूविस्थापित लाफार्ज इंडिया लिमिटेड में नौकरी के लिए पिछले 15 साल  से प्रबंधन के चक्कर काट रहे हैं, लेकिन उन्हें प्रबंधन द्वारा केवल आश्वासन का झुनझुना थमाया जा रहा है।

जांजगीर-चांपा. अकलतरा क्षेत्र के किरारी ग्राम के भूविस्थापित लाफार्ज इंडिया लिमिटेड में नौकरी के लिए पिछले 15 साल  से प्रबंधन के चक्कर काट रहे हैं, लेकिन उन्हें प्रबंधन द्वारा केवल आश्वासन का झुनझुना थमाया जा रहा है।

समस्याओं को लेकर किरारी के ग्रामीण सोमवार को एसडीएम कार्यालय पहुंचे थे। एसडीएम कार्यालय में अकलतरा विधायक चुन्नी लाल साहू, एसडीएम अजय उरांव, एएसपी पंकज चंद्रा एवं कांग्रेस के जिला अध्यक्ष मंजू सिंह के बीच समझौता की बात हुई है।

जिसमें प्रबंधन ने 29 जून तक समय मांगा है। इसके बाद यदि भूविस्थापितों की बात नहीं सुनी गई तो उग्र आंदोलन की चेतावनी दी है।

लाफार्ज इंडिया लिमिटेड, वर्तमान में न्यूवोको विस्टास कार्प के नाम से आरसमेटा सीमेंट प्लांट प्रबंधन द्वारा पटवारी हल्का नंबर 17 में मांइस के लिए गांव के 148 किसानों से रोजगार देने के शर्त में कम कीमत पर 15 साल पहले जमीन खरीदी की थी। प्रबंधन ने लगभग 40 किसानों को नौकरी दी, पर 108 लोगों को आज तक केवल आश्वासन का झुनझुना थमाते आ रही है। जिससे किसानों ने एकजुटता का परिचय देते हुए पिछले दो माह से कलेक्टर को ज्ञापन सौंपकर उग्र आंदोलन की चेतवानी दी थी। कलेक्टर ने किसानों को यह आश्वासन दिया था कि प्रबंधन के बीच बैठकर शांति वार्ता की जाएगी। इसके बाद समस्याओं का निराकरण किया जाएगा। आश्वासन के बाद भी उनकी समस्याओं का निराकरण नहीं हो रहा था। जिसे लेकर किसानों फिर उग्र हो गए और सोमवार को एसडीएम कार्यालय पहुंचे। एसडीएम कार्यालय में अकलतरा विधायक चुन्नी लाल साहू, एसडीएम अजय उरांव, एएसपी पंकज चंद्रा एवं कांग्रेस के जिला अध्यक्ष मंजू सिंह के अलावा बड़ी संख्या में भूविस्थापित जांजगीर पहुंचे थे। एसडीएम कार्यालय में तकरीबन दो घंटे से मैराथन मीटिंग हुई। जिस पर प्रबंधन ने 29 जून तक मोहलत मांगा है। इसके बाद भी यदि उनकी मांगे पूरी नहीं हुई तो भूविस्थापित 29 जून के बाद उग्र आंदोलन की चेतावनी दी है। वार्ता में भूविस्थापित किसान राम प्रसाद साहू, अशोक कुमार, फूल सिंह जगत, संदीप कुमार तिवारी, कीर्तन लाल, भरत लाल सहित बड़ी संख्या में किसान
मौजूद थे।
-----------------------

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned