प्रसूता की जान लेने वाले झोला छाप डॉक्टर की अब होगी सर्जरी

Rajkumar Shah

Publish: Oct, 13 2017 11:35:19 (IST)

Janjgir-Champa, Chhattisgarh, India
प्रसूता की जान लेने वाले झोला छाप डॉक्टर की अब होगी सर्जरी

बाराद्वार थानांतर्गत ग्राम चमरा बरपाली में माह भर पहले झोलाछाप डॉक्टर के इलाज से एक प्रसूता की मौत हो गई थी।

जांजगीर-चांपा. बाराद्वार थानांतर्गत ग्राम चमरा बरपाली में माह भर पहले झोलाछाप डॉक्टर के इलाज से एक प्रसूता की मौत हो गई थी। परिजनों की रिपोर्ट पर पुलिस ने झोलाछाप डॉक्टर के खिलाफ गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज किया है। पुलिस ने गुरूवार को झोलाछाप डॉक्टर को जेल दाखिल कर दिया है।


बाराद्वार पुलिस के अनुसार चमरा बरपाली निवासी लक्ष्मिन बाई पति राम दास पनिका (32) 18 सितंबर को बीमार पड़ गई। उसे स्थानीय झोलाछाप डॉक्टर छोटू दास पिता भुरसी दास के क्लीनिक में भर्ती कराया गया। उक्त डॉक्टर ने महिला को इंजेक्शन लगाया गया। इससे महिला की हालत सुधरने के बजाए उल्टे बिगडऩे लगी। दूसरे दिन उक्त डॉक्टर के द्वारा फिर से इलाज किया गया। जिसमें डॉक्टर के द्वारा मरीज को जड़ी बूटी दी गई।

इससे महिला का दो माह का गर्भ गिर गया और महिला का ब्लीडिंग होने लगी। उसे गंभीर अवस्था में चांपा के बीएल होम अस्पताल में भर्ती कराया गया। यहां के डॉक्टरों ने महिला को मृत घोषित कर दिया। परिजनों ने 21 सितंबर को मामले की रिपोर्ट दर्ज कराई।

रिपोर्ट के बाद पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम कराया। जिसमेें महिला की मौत जड़ी बूटी एवं खराब दवा के सेवन बताया गया। इसी के चलते महिला की मौत हो गई। पुलिस अधीक्षक के दिशा निर्देशन पर उक्त झोलाछॉप डॉक्टर के खिलाफ जुर्म दर्ज करने का आदेश दिया गया।


बाराद्वार पुलिस ने उक्त झोलाछाप डॉक्टर छोटू दास पिता भुरसी दास महंत के खिलाफ धारा 304 ए के तहत जुर्म दर्ज कर गिरफ्तार किया गया। गौरतलब है कि थाना बिर्रा में भी पुलिस ने कुछ दिन पहले ऐसे ही करनौद निवासी झोलाछाप डॉक्टर रामकृष्ण देवांगन के खिलाफ कार्रवाई की गई थी और उसे जेल भेजा गया था।


शासकीय कर्मी की संदिग्ध मौत- डभरा थानांतर्गत ग्राम गोबराभाठा निवासी सिंचाई विभाग के कर्मचारी की बुधवार रात संदिग्ध मौत हो गई। परिजन मृतक का अंतिम संस्कार करने जा रहे थे, लेकिन मुखबिर ने मामले की सूचना पुलिस को दे दी। पुलिस ने शव को रुकवाकर पोस्टमार्टम कराया। इसके बाद शव परिजनों को सौंपा गया। पुलिस का कहना है पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिलने के बाद मौत के कारणों का पता चलेगा।


डभरा टीआई अजय शंकर त्रिपाठी के मुताबिक गोबराभाठा निवासी मनोज चंद्रा पिता मेघनाथ सिंचाई विभाग रायगढ़ में पदस्थ था। वह आदतन शराबी था। वह गोबराभांठा से रायगढ़ अप-डाउन करता था। इतना ही नहीं वह आए दिन ड्यूटी से नदारद रहता था। बुधवार को भी वह ड्यूटी नहीं गया था।

वह शराब पीकर अपने घर में पड़ा था और अधिक शराब सेवन से उसकी मौत हो चुकी थी। परिजन उसकी मौत को स्वाभाविक बताकर गुरुवार की सुबह शव को अंतिम संस्कार के लिए ले जा रहे थे।

कुछ लोगों पुलिस को सूचना देकर बताया मनोज की मौत स्वाभाविक नहीं बल्कि हत्या की गई है। शराब के नशे में उसका किसी से विवाद हुआ था। विवाद में उसकी पिटाई की गई, जिससे उसकी मौत हुई है। पुलिस ने बिना देर किए सबसे पहले शव को अपने कब्जे में लिया और पोस्टमार्टम के लिए भेजा। परिजन भी पुलिस के समझाने पर मान गए।


इसके बाद अस्पताल में उसका पोस्टमार्टम कराया गया। पुलिस का कहना है कि अभी पोस्टमार्टम रिपोर्ट नहीं मिल पाई है। रिपोर्ट आने के बाद पता चल जाएगा कि उसकी मौत शराब के अधिक सेवन हुई या अन्य कारण से। थाना प्रभारी का कहना है कि लोगों ने आशंका व्यक्त की है कि उसकी पिटाई से मौत हुई है। मृतक के शरीर में चोट के निशान नहीं पाए गए हैं। पुलिस मामले की जांच कर रही है, फिलहाल कुछ नहीं कहा जा सकता है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned