केरा रोड की बदहाल ट्रेफिक व्यवस्था पर नहीं किसी का ध्यान

केरा रोड बस स्टैंड के पास वर्षों पुरानी बदहाल सड़क व्यवस्था को सुधारने यातायात विभाग बेपरवाह है। इस रूट में वेयरहाउस की ट्रकें लगातार जानलेना साबित हो

By: Rajkumar Shah

Published: 10 Nov 2017, 05:34 PM IST

जांजगीर-चांपा. केरा रोड बस स्टैंड के पास वर्षों पुरानी बदहाल सड़क व्यवस्था को सुधारने यातायात विभाग बेपरवाह है। इस रूट में वेयरहाउस की ट्रकें लगातार जानलेना साबित हो रहे हैं। बावजूद इस गंभीर समस्या से शहर के जिम्मेदार लोगों को कोई सरोकार नहीं है।


केरा रोड जिला मुख्यालय का शहर का सबसे व्यवस्ततम सड़क मार्ग माना जाता है। इस रूट में दो -दो स्कूल कालेज के अलावा दर्जनों आफिस बस स्टैंड के अलाव वेयर हाउस स्थित है। इस रूट में आवागमन के लिए सबसे ज्यादा जिम्मेदार है तो वह वेयरहाउस जाने वाली ट्रकें। वेयरहाउस की दर्जनों ट्रकों की इस रूट में लड़ी लगी होती है। सड़क के दोनों ओर भारी वाहनों की कतार के बीच छोटे वाहनों को जान जोखिम में डालकर गुजरना होता है। लोगों की परेशानी तब बढ़ जाती है जब भीमकाय वाहन सड़क को दोनों ओर घेरे रहते हैं।

जबकि यह सड़क सुबह से लेकर शाम तक व्यस्त रहती है। इस रूट में केरा रोड के अलावा पामगढ़ रूट के सैकड़ो गांव के लोग इसी रूट से आवागमन करते हैं। इसके अलावा सुबह व शाम को आसपास के गांव के लोग व मजदूर वर्ग के कामगार शहर में विभिन्न काम के लिए शहर आते हैं।

इस कारण आवागमन का दबाव बढ़ जाता है। इतनी भागमभाग भरे रूट में यातायात विभाग का केवल एक जवान तैनात रहता है। जो आवागमन व्यवस्था बनाने नाकाफी रहता है। बावजूद इस रूट में ट्रैफिक व्यवस्था बनाने यातायात पुलिस के जवानों की संख्या नहीं बढ़ाई जा रही है। इसके कारण लोगों को आवागमन में परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

Read more: विवादों से घिरी विवादित प्रशिक्षु डीएसपी की आखिरकार हुई छुट्टी, चुन्नू संभालेंगे मुलमुला थाने का प्रभार


जा चुकी आधा दर्जन लोगों की जान- तीन साल के भीतर इस रूट में आधा दर्जन लोगों की जान जा चुकी है। बावजूद इस रूट में आवागमन व्यवस्था दुरूस्त करने पुलिस ने गंभीरता नहीं बरती है। दो साल पहले पेंड्री के दो लोगों की भारी वाहन की चपेट में आकर जान गवां दी थी। इसके अलावा एक महिला आरक्षक की ट्रैक्टर की चपेट में आने से मौत हो गई थी। इसी तरह खोखरा मोड़ के पास वेयर हाउस की ट्रक के टकरा जाने से नैला के एक हलवाई की मौत हो गई थी। इसी तरह हर माह इस रूट में दर्जनों लोग घायल होते हैं। बावजूद ट्रैफिक व्यवस्था सुधारने पुलिस ने गंभीरता नहीं दिखाई।
इन कारणों से भीड़
>> टीसीएल कालेज
>> गल्र्स कालेज
>> पोलिस लाइन
>> दो हाई स्कूल
>> बस स्टैंड
>> अधीक्षण यंत्री कार्यालय
>> श्रम विभाग
>> नान आफिस
>> चर्च
>> वेयरहाउस

Rajkumar Shah Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned