अब गणित और अंग्रेजी जैसे विषयों को पास करना परीक्षार्थियों के लिए हो जाएगा आसान, जानें कैसे

अब गणित और अंग्रेजी जैसे विषयों को पास करना परीक्षार्थियों के लिए हो जाएगा आसान, जानें कैसे

Vasudev Yadav | Publish: Feb, 15 2018 01:20:17 PM (IST) Janjgir-Champa, Chhattisgarh, India

इस साल जिले के 90 परीक्षा केंद्रों में दसवी व बारहवीं मिलाकर लगभग 55 हजार परीक्षार्थी एग्जाम देंगे।

जांजगीर-चांपा. सीजी बोर्ड परीक्षा में विद्यार्थियों का तनाव कम करने मंडल ने नया प्रयोग किया है। इसके तहत विद्यार्थियों को अब प्रोजेक्ट वर्क करना होगा, जिसमें उन्हें 25 अंक मिलेंगे। वहीं थ्योरी के 75 अंक मिलाकर कुल 100 में से पास होने के लिए विद्यार्थियों को केवल 33 अंक लाने होंगे। इस तरह प्रोजेक्ट वर्क के भरोसे ही कई विद्यार्थियों की नैया पार लग जाएगी। माध्यमिक शिक्षा मंडल ने दसवींं बोर्ड की परीक्षा में इस बाद बड़ा बदलाव किया है।

मुख्य परीक्षा के परिणाम थ्योरी और प्रोजेक्ट वर्क के अंक मिलाकर तैयार किए जाएंगे। इस साल सभी विषयों के लिए 25 अंक का प्रोजेक्ट वर्क तैयार किया गया है। दोनों परीक्षा को मिलाकर परीक्षार्थी को 33 अंक हासिल करने होंगे। खास बात यह है कि इस सुविधा से गणित और अंग्रेजी जैसे विषयों को पास करना परीक्षार्थियों के लिए आसान हो जाएगा। दसवीं का पूरा कोर्स 75 व 25 के अनुपात में बांटा गया है। इसी के अनुसार बोर्ड परीक्षा का आयोजन किया जा रहा है। 75 अंक थ्योरी और 25 अंक प्रोजेक्ट वर्क के है। थ्योरी में पास होने के लिए 25 जबकि प्रोजेक्ट वर्क में पास होने के लिए 8 अंक जरुरी है। इस तरह से पास होने के लिए विद्यार्थियों को दोनों मिलाकर 33 अंक जुटाने होंगे।

Read More : प्रतिवेदन में गड़बड़ी होना उजागर के बाद भी कार्रवाई में जनपद सीईओ के कांप रहे हाथ, पढि़ए क्या है माजरा...

इस नए बदलाव से परीक्षार्थियों की राह आसान होने वाली है। इससे दसवीं के रिजल्ट में भी सुधार होगा। अब तक प्रोजेक्ट वर्क केवल विज्ञान विषय में ही शामिल किया गया था, लेकिन अंग्रेजी और गणित जैसे कठिन विषय में प्रोजेक्ट वर्क का सहारा मिलने से इस विषयों में फेल होने वालों की संख्या घट जाएगी। बीते साल दसवीं का रिजल्ट 52 फीसदी रहा है। इसमें गणित व अंग्रेजी विषय में फेल होने वालों की संख्या सबसे अधिक रही है। पूरक की पात्रता वालों में सबसे अधिक संख्या अंग्रेजी व गणित विषय ही रही है। ऐसे में इस नए सिस्टम से परीक्षा आयोजित होने पर परीक्षार्थियों को राहत मिलने की उम्मीद है। प्रोजेक्ट वर्क के एग्जाम शुरू हो चुके हैं। इसे लेकर व्यापक स्तर पर दिशा-निर्देश दिए जा रहे हैं ताकि असुविधा न हो।

55 हजार परीक्षा 90 केंद्रों में देंगे परीक्षा
इस साल जिले के 90 परीक्षा केंद्रों में दसवी व बारहवीं मिलाकर लगभग 55 हजार परीक्षार्थी एग्जाम देंगे। इसकी तैयारी भी शिक्षा विभाग ने शुरू कर दी है। फिलहाल स्कूलों में प्रायोगिक परीक्षा का दौर जारी है। 27 फरवरी तक प्रायोगिक परीक्षा पूरी हो जाने के बाद तय समय सारणी मुताबिक मुख्य परीक्षा शुरु होगी। इसके लिए अलग-अलग स्तर पर अधिकारियों को जिम्मेदारी सौंपी गई है।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned