script च्वाइस सेंटर जाने की अब जरूरत नहीं, घर बैठे खुद बना सकेंगे आयुष्मान कार्ड | Now there is no need to go to Choice Center, you can make Ayushman car | Patrika News

च्वाइस सेंटर जाने की अब जरूरत नहीं, घर बैठे खुद बना सकेंगे आयुष्मान कार्ड

locationजांजगीर चंपाPublished: Dec 19, 2023 09:18:11 pm

Submitted by:

Anand Namdeo

आयुष्मान कार्ड बनवाने के लिए अब अस्पतालों और च्वाइस सेंटरों की लंबी लाइन में घंटों तक इंतजार करने की जरूरत नहीं है। अब आप घर बैठे ही आसानी से खुद ही न सिर्फ अपना आयुष्मान कार्ड बना सकेंगे बल्कि डाउनलोड भी कर सकेंगे।

च्वाइस सेंटर जाने की अब जरूरत नहीं, घर बैठे खुद बना सकेंगे आयुष्मान कार्ड
च्वाइस सेंटर जाने की अब जरूरत नहीं, घर बैठे खुद बना सकेंगे आयुष्मान कार्ड
इसके लिए बस मोबाइल में आयुष्मान एप व आधार फेस आरडी एप डाउनलोड करना होगा। राशनकार्ड और आधार कार्ड नंबर के जरिए घर बैठे ही आयुष्मान कार्ड बन जाएगा। गौरतलब है कि केंद्र सरकार के द्वारा आयुष्मान योजना के तहत शत-प्रतिशत हितग्राहियों का आयुष्मान कार्ड बनाना है। अब तक यह काम अस्पतालों और च्वाइस सेंटर में हो रहा था। ऐसे में यहां आयुष्मान कार्ड बनाने लंबी लाइन हमेशा लगी रहती है। तकनीकी समस्या होने पर घंटों इंतजार के बाद जाकर नंबर आता था। इसको देखते हुए अब शासन ने लोगों को आयुष्मान कार्ड बनाने की सुविधा के लिए मोबाइल एप लांच किया है।

ऐसे बना सकेंगे आयुष्मान कार्ड


हितग्राही को अपने मोबाइल में प्ले स्टोर से आयुष्मान एप व आधार फेस आरडी एप डाउनलोड करना होगा। एप इंस्ट्राल के बाद ओपन करने पर बेनिफिसरी का आप्सन चुनना होगा जिसके बाद एक ओटीपी आएगा। फिर पोर्टल में आगे राशनकार्ड और आधार कार्ड नंबर की जानकारी देनी होगी। वेरिफकेशन होने के बाद कार्ड जनरेट हो जाएगा। इलाज के लिए जरूरत पडऩे पर यहीं से डाउनलोड भी किया जा सकेगा।

2.70 लाख सदस्यों का कार्ड बनना बाकी


जिले में ग्रामीण क्षेत्र (रूलर) में टोटल 9 लाख 22 हजार 119 लोगों का आयुष्मान कार्ड बनाने टारगेट है। इसमें 6 लाख 87 हजार लोगों का ही कार्ड जनरेट हुआ है। 2 लाख 34 हजार लोगों का कार्ड बनना शेष है। इसी तरह शहरी क्षेत्र (अर्बन) में 1 लाख 65 हजार लोगों का टारगेट है। इसमें 1 लाख 28 हजार लोगों का कार्ड बन पाया है। 36 हजार लोगों का कार्ड बाकी है। वर्तमान में आयुष्मान भव के तहत कैंप लगाकर भी कार्ड बनाए जा रहे हैं। वहीं विकसित भारत संकल्प यात्रा के दौरान मोबाइल एप के जरिए कार्ड बनाने की जानकारी भी गांव-गांव जाकर लोगों को दी जा रही है।

ट्रेंडिंग वीडियो