scriptPatwari and farmers in connivance sold six acres of government land | पटवारी और किसानों ने मिलीभगत कर छह एकड़ शासकीय भूमि की कर दी बिक्री | Patrika News

पटवारी और किसानों ने मिलीभगत कर छह एकड़ शासकीय भूमि की कर दी बिक्री

जैजैपुर तहसील अंतर्गत ग्राम पंचायत झालरौंदा में शासकीय जमीन की बिक्री का मामला सामने आया है। जिसमे पटवारी ने गांव के बड़े झाड़ के जंगल में से शासकीय भूमि को किसानों के साथ मिलीभगत कर मूल रकबा में छह एकड़ जमीन बढ़ाकर मोटी रकम में बेचने की जानकारी मिली है।

जांजगीर चंपा

Updated: June 19, 2022 09:05:42 pm

जांजगीर/जैजैपुर। इस मामले की शिकायत कलेक्टर से की गई है। कलेक्टर ने जांच के आदेश सक्ती एसडीएम को दी है। गौरतलब है कि तहसील कार्यालय जैजैपुर के अंतिम छोर में बसे ग्राम पंचायत झालरौंदा पटवारी हल्का नंबर तीन जहां के जमीन के भीतर प्रचुर मात्रा में डोलोमाइट पत्थर का भंडार है। इतना ही नहीं ग्राम झालरौंदा में करीब 9 सौ एकड़ जंगल भूमि है जिसमे से 5 सौ एकड़ जमीन बड़े एवं छोटे झाड़ के जंगल के रूप में चिन्हाकित किया गया है। जिसमे डोलोमाइट पत्थर का भंडार है। जहां खसरा नंबर 11 जिसमे कुल एक एकड़ 10 डिसमिल जमीन है। जिसमे हल्का पटवारी संतोष कहरा ने झालरौंदा निवासी संजय नायक पिता महेत्तर नायक, शिवनारायण नायक पिता सीताराम नायक मिलीभगत कर शासकीय रिकार्ड में कूटरचना करते हुए खसरा नंबर 11/1 में 1/10 एकड़ खसरा नंबर 11/2 में 1/50 एकड़ खसरा नंबर 11/3 में 1/50 एकड़ खसरा नंबर 11/4 में 3.20 एकड़ कुल मिलाकर 6/20 एकड़ रकबा बढ़ाकर राजस्व अभिलेखों दर्ज कर फर्जी पर्ची और बी-1 नक्शा काटते हुए उस भूमि की बिक्री तिरुपति मिनरल्स प्राइवेट लिमिटेड डायरेक्टर अंशुमान मुरारका पिता दुर्गा मुरारका चाम्पा के पास बिक्री कर दिया। इसकी जानकारी होने से गांव के लोगों में आक्रोश देखा जा रहा है। वहीं दूसरी ओर जिला पंचायत सदस्य माधुरी टेकचंद चंद्रा ने पूरे मामले की शिकायत कलेक्टर कार्यालय में करते हुए दोषियों के ऊपर कड़ी कार्रवाई की मांग की है।
जमीन दलालों की नजर अब शासकीय भूमि पर भी
आपको बता दे झालरौंदा, खम्हरिया, अकलसरा सहित उस क्षेत्र के दर्जनों गांव में डोलोमाइट पत्थर का भंडार है। जिसका उपयोग लोहा इस्पात संयंत्र उद्योगों में होता है। इसके अतिरिक्त डोलोमाइट का कई अन्य तरह की धातु भी होने के चलते सरकार इसके खनन के लिए कड़े नियम कानून बनाई है। इतना ही इन गांवों में फिलहाल कई कंपनियां शासन से लीज लेकर डोलोमाइट का उत्खनन कर भी रहे हैं और कई लोग उत्खनन के लिए लीज मिल जाए इसके जुगत में लगे हुए हंै। यही वजह है इन सभी गांवों में जमीन के कीमत आसमान छू रहा है और जमीन के नीचे डोलोमाइट का भंडार होने के चलते जमीन दलाल सक्रिय हैं। गांव के भोले भाले किसानों को ज्यादा रुपयों की लालच देकर उनकी जमीन की खरीदी बिक्री के कारोबार में लगे हुए हैं। लेकिन शासकीय भूमि की बिक्री का मामला जिसमे पटवारी की भूमिका होना कई तहर की सवाल खड़े करता है।
पूर्व में हुई सभी बिक्री की जांच हो-जिपं सदस्य
क्षेत्र के जिला पंचायत सदस्य माधुरी टेकचंद चंद्रा में कलेक्टर से शिकायत करते हुए वर्तमान में हुई शासकीय भूमि की खरीदी बिक्री की जांच एवं दोषियों पर कार्रवाई की मांग तो किया ही है। इसके साथ ही उन्होंने पूर्व में हुई जमीन की खरीदी बिक्री की भी सम्पूर्ण जांच कराने उच्च स्तरीय जांच दल गठित करने की भी मांग की है। ताकि पूर्व में भी इस तरह की किसी शासकीय भूमि की तो बिक्री तो नहीं की गई है। इसका खुलासा हो सके। फिलहाल जिस तरह से सरकारी जमीन में कूटरचना कर छह एकड़ भूमि की मामला सामने आया है उसे देखते हुए पूर्व में इस तरह की गड़बड़ी होने से इनकार भी नहीं किया जा सकता।
लगातार लग रहे पटवारियों के दामन पर दाग
इन दिनों पटवारियों के दिन ठीक ठाक नहीं चल रहा है। पामगढ़ में एक पटवारी जेल भेजे जाने के मामले में पटवारी आज भी आंदोलन पर डटे हुए हैं। पटवारियों के इस आंदोलन के बीच मे ही तीन पटवारियों का रंगरेलियां मानते जमकर धुनाई का मामला सामने आ जाता है। जबकि जैजैपुर क्षेत्र के काशीगढ़ के किसान अपने पटवारी के घूसखोरी से परेशान होकर तहसील से लेकर कलेक्टर व मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंप चुके हैं। अब ग्राम झालरौंदा में पटवारी द्वारा किसान से मिलीभगत कर सरकारी भूमि में फर्जीवाड़ा कर उसकी बिक्री की मामला सामने आने के बाद राजस्व विभाग के जिम्मेदार अधिकारियों को सोचना पड़ेगा कि आखिर इन गलतियों और पटवारियों के कारनामे को कैसे रोकें नहीं तो विभाग के दामन दाग यूं ही लगता रहेगा।
वर्जन
कलेक्टर के माध्यम से मामले की जांच के लिए मुझे निर्देशित किया गया है। सोमवार को इसकी जांच कराई जाएगी। ताकि सत्यतता का पता चल सके।
-रैना जमील, एसडीएम सक्ती
पटवारी और किसानों ने मिलीभगत कर छह एकड़ शासकीय भूमि की कर दी बिक्री
पटवारी और किसानों ने मिलीभगत कर छह एकड़ शासकीय भूमि की कर दी बिक्री

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

नुपूर शर्मा को सुप्रीम कोर्ट की फटकार, कहा- आपके बयान के चलते हुई उदयपुर जैसी घटना, पूरे देश से टीवी पर मांगे माफीहैदराबाद में आज से शुरू हो रही BJP की कार्यकारिणी बैठक, प्रधानमंत्री मोदी कल होगें शामिल, जानिए क्या है बैठक का मुख्य एजेंडाआज से प्रॉपर्टी टैक्स, होम लोन सहित कई अन्य नियमों में हुए बदलाव, जानिए आपके जेब में क्या पड़ेगा असरकेंद्रीय मंत्री आर के सिंह का बड़ा बयान, सिर काटने वाले आतंकियों के खिलाफ बनेगा UAPA की तरह सख्त कानून!LPG Price 1 July: एलपीजी सिलेंडर हुआ सस्ता, आज से 198 रुपए कम हो गए दामकेंद्रीय मंत्री आर के सिंह का बड़ा बयान, सिर काटने वाले आतंकियों के खिलाफ बनेगा UAPA की तरह सख्त कानून!Jagannath Rath Yatra 2022: देशभर में भगवान जगन्नाथ रथयात्रा की धूम, अमित शाह ने अहमदाबाद में की 'मंगल आरती'Kerala: सीपीआई एम के मुख्यालय पर बम से हमला, सीसीटीवी में कैद हुआ आरोपी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.