जिला जेल में बंदियों के कोरोना पॉजिटिव आने पर अब जेल परिसर में ही करेंगे इलाज

जेल के बंदियों (prisoner) को अब कोरोना (corona infected) की शिकायत हुई तो जेल परिसर में ही रखा जाएगा।

जांजगीर-चांपा. जिला जेल के बंदियों (prisoner) को अब कोरोना (corona infected) की शिकायत हुई तो जेल परिसर में ही रखा जाएगा। इसके लिए जेल के एक बैरक को कोविड केयर सेंटर (Covid Care Center) बनाया गया है। जहां कोरोना पॉजिटिव कैदियों को रखा जाएगा। डॉक्टर वहां जाकर उनका इलाज करेंगे। बंदियों के अस्पतालों से भागने की शिकायत के बाद यह फैसला लिया गया है। आपको बता दें कि जिला जेल के 44 बंदी एक-एक कर कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। बंदियों को आकांक्षा कोविड परिसर व एक्सक्लूसिव कोविड सेंटर में भर्ती कराया गया था।

25 सितंबर को एक दुष्कर्म का आरोपी बंदी रातों रात भाग निकला था। उसका कहना था कि उसे भरपेट भोजन नहीं मिलता था। इसके कारण वह घर चला गया था। लापरवाही के चलते एक डॉक्टर को कारण बताओ नोटिस भी मिल चुका है।

ज्ञात हो कि जिला जेल में भी कोरोना की शिकायत आई थी। यहां के 44 बंदियों को कोरोना हो गया था। जिन्हें आकाक्षा परिसर व एक्सक्लूसिव कोविड सेंटर में भर्ती कराया गया था। अब केवल पांच बंदियों की ही तबीयत ठीक नहीं हो पाई है तो उन्हें अस्पताल में रखा गया है। शेष बंदियों को जेल में शिफ्ट कर दिया गया है। क्योंकि सभी की तबीयत में सुधार हो गया है।

जेलर शिवकुमार साहू का कहना है कि जिला जेल में अब एक बैरक को कोविड पेशेंट के लिए ही सुरक्षित रखा गया है। जिन्हें भी कोविड-19 की शिकायत मिलेगी उन्हें उस बैठक में रखा जाएगा। इसके लिए बाकायदा एक डॉक्टर रूटीन चेकिंग में आएगा। उनकी देखभाल जेल परिसर में ही की जाएगी।

Bhawna Chaudhary
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned